Aag aur Geet - 4 by Ibne Safi in Hindi Detective stories PDF

आग और गीत - 4

by Ibne Safi Matrubharti Verified in Hindi Detective stories

(4) राजेश ने मुस्कुरा कर टेली फोन को आंख मरी फिर से खुजाते हुये माउथ पीस में कहा । “यार मलखान ! उस औरत के बाल बड़े सुंदर थे ।” “मैंने तुमसे सच कह रहा हूँ कि मैंने उसकी ...Read More