Mout Ka Khel - 18 by Kumar Rahman in Hindi Detective stories PDF

मौत का खेल - भाग-18

by Kumar Rahman Matrubharti Verified in Hindi Detective stories

क्रिमनल साइकोलॉजी घोस्ट बहुत तेजी से भागी चली जा रही थी। शहर काफी पीछे छूट गया था। सड़क पर इस वक्त ज्यादा गाड़ियां नहीं थीं। वन वे होने की वजह से घोस्ट की रफ्तार 130 किलोमीटर प्रति घंटा के ...Read More