मोतीबाई--(एक तवायफ़ माँ की कहानी)--भाग(४)

by Saroj Verma Matrubharti Verified in Hindi Women Focused

इसके बाद फिर कभी भी उपेन्द्र ने मोतीबाई पर शक़ नहीं किया,उसे प्रभातसिंह की बात अच्छी तरह समझ में आ गई थी कि प्रेम उथला नही गहरा होना चाहिए,अब मधुबनी कुछ भी कहती रहती और उपेन्द्र उसकी एक ना ...Read More