Tere liye by Vikas Mishra in Hindi Poems PDF

तेरे लिए

by Vikas Mishra in Hindi Poems

1.कसकमेरे शब्दों में शायद कोई महक न होती ग़र उसमे तेरे दूर होने की कसक न होती न चमकता चाँद, रातों को तनहा आवारा तुझसे मिलने की उसमे ग़र लहक न होती न मिलती मेरी ग़ज़लों की सूरत तुझसे ...Read More


-->