छल - Story of love and betrayal - अंतिम भाग

by Sarvesh Saxena Matrubharti Verified in Hindi Social Stories

तीनों ने हैरानी और दर्द में चिल्लाते हुए मुड़कर देखा तो सामने भैरव खड़ा था, भैरव दौड़कर प्रेरित के पास जाने लगा तो नितेश उसे पकड़ कर बोला, " ओहो.. तू? अभी तक… तेरी आशिकी उतरी नहीं, चलो अच्छा ...Read More


-->