Children Stories Books in Hindi language read and download PDF for free

    मोबाइल में गाँव - 4 - गाँव की सैर
    by Sudha Adesh

    गाँव की सैर-4       दूसरे दिन चिड़ियों की चहचहाहट सुनकर ही उसकी आँख खुली । उसने बाइनोकुलर से चिड़िया के घोंसले की ओर देखा । चिड़िया उन्हें खाना ...

    मोबाइल में गाँव - 3 - चिड़िया चहचहाई
    by Sudha Adesh

         चिड़िया चहचहाई-3          दूसरे दिन सुबह कुछ आवाजें सुनकर सुनयना उठकर बैठ गई । उसने माँ को जगाकर उन आवाजों की ओर उनका ध्यान ...

    मोबाइल में गाँव - 2 - गाँव की ओर
    by Sudha Adesh

                         गाँव की ओर -2पापा चाचा ने मिलकर सामान अपनी गाड़ी में रखा । दिल्ली से अलीगढ़ तथा अलीगढ़ से ...

    मोबाइल में गाँव - 1
    by Sudha Adesh

         ट्रेन का सफर-1सुनयना को जैसे ही उसके ममा-पापा ने बताया कि इस बार क्रिसमस की छुट्टियों में उसके दादाजी के पास ट्रेन से गाँव जायेंगे, उसकी खुशी ...

    बाल कहानी - समझदार
    by Asha Saraswat

    नानी के घर जाना सब बच्चों को बहुत ही अच्छा लगता है,सुनयना को भी अपनी नानी के घर जाने में बहुत अच्छा लगता था ।वह अपने भाई-बहिनों में सबसे ...

    बाल कहानी - राजा भैया
    by Asha Saraswat

    राजू भैया को हर समय खेलना बहुत पसंद था।वैसे तो नाम उनका राजकुमार था लेकिन कभी-कभी राजा और अधिकतर उन्हें सब राजू भैया ही बोलते थे।राजू भैया खेलने में ...

    चिंटू की चतुराई...
    by NISHA SHARMA ‘YATHARTH’

    एक बार एक गाँव में एक लड़का अपने पापा और मम्मी के साथ रहता था जिसका नाम था,चिंटू!चिंटू की उम्र ग्यारह साल थी और वो पाँचवी कक्षा में पढ़ता ...

    जादुई पौधा
    by Rama Sharma Manavi

      राजकुमार आदित्य राजगढ़ का राजकुमार था, महाराज, महारानी की इकलौती संतान।सात साल का राजकुमार अत्यंत कुशाग्र बुद्धि ,सुंदर शक्ल-सूरत  का बालक था।माता-पिता के साथ पूरे महल के लोग,सेवक,सेविकाएं,मंत्री ...

    मूर्ति का रहस्य - 10 - समाप्त
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य दस:                त्यागी और रामदास को मोहरों की तरफ ताकता देख, वहाँ से खिसकने के मनसूबे से रमजान और चंद्रावती तलघर से बाहर निकलने के लिये, ...

    मूर्ति का रहस्य - 9
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य - नौ: रमजान विश्वनाथ त्यागी के चेहरे के भावों से सब कुछ समझ गया कि श्रीमान को यहाँ भी कुछ समझ नहीं आया तो बोला - ...

    मूर्ति का रहस्य - 8
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

        मूर्ति का रहस्य आठ                बिस्तर पर पड़े पड़े रमजान सोच रहा था -‘‘चन्दा की वजह से समय का पता ही नहीं चलता था। उसे गाँव पहुँचाया ...

    मूर्ति का रहस्य - 7
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य -सात चन्द्रावती को जैसे ही पास-पढ़ौस के लोगों ने घर में देखा, गाँव भर में शोर हो गया । किले से पहली बार कोई जीवित लौटकर ...

    सलोनी
    by RACHNA ROY

    सलोनी बहुत प्यारी सी गुड़िया जैसी बच्ची है और वह अपने दादा-दादी के साथ रहती है , दुर्भाग्यवश उसके माता-पिता कि एक दुर्घटना में मौत हो चुकी है। सलोनी ...

    मूर्ति का रहस्य - 6
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य छः सेठ रामदास की दूती शान्ति कही चाय के बहाने, कही नाश्ते के बहाने बार बार तलघर में आ जाती और लौट कर चन्द्रावती की स्थिति ...

    मूर्ति का रहस्य - 5
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य  5                    रमजान किले के ऊपर सीधा दरगाह पर जा पहँुचा। उसने वहाँ अगरबत्ती  लगाई  और नमाज की मुद्रा में सलाम करने बैठ गया। ...

    मूर्ति का रहस्य - 4
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य चार                गाँव में नया सरकारी हाई स्कूल शुरू हुआ था जिसमें विज्ञान के नये शिक्षक अशोक शर्मा, एक दिन पहले ही उपस्थित हुऐ थे। उस ...

    मूर्ति का रहस्य - 3
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य  तीन                फरवरी का महीना था । बसन्त ऋतु थी एक दिन एक जीप सालवाई गाँव के हनुमान चौराहे पर आकर रूकी। जीप पर लिखा था-‘‘पुरातत्व ...

    मूर्ति का रहस्य - 2
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य - दो                गाँव  में तीज-त्यौहार आते हैं तो लोग सारे डर और आतंक भूल कर उनमें रम जाते हैं। ऐसा ही हुआ। दशहरे का पर्व ...

    मूर्ति का रहस्य - 1
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    मूर्ति का रहस्य 1   बाल उपन्यास                                                                  रामगोपाल भावुक                                सम्पर्क-                                   कमलेश्वर कोलोनी (डबरा) भवभूतिनगर                                     

    भोला बन्दर और नटखट चुहिया
    by RACHNA ROY

      चंपक वन में सभी जानवर खुशी से मिल -जुल कर रहते थे, कि एक दिन अचानक एक साल बाद नितु चुहिया शहर से वन में रहने आ गई।  चंपक वन ...

    ऊंचे लोग, नीचे लोग
    by SAMIR GANGULY

     पार्क किनारे एक इमली का पेड़ था. विशाल पेड़ के तने में कोटर बनाकर बिरजूगिलहरी का परिवार रहता था. और पेड़ की जड़ में मिट्‍टी का बिल बनाकर मूषक चूहें का परिवार रहता था.दोनों ...

    उसकी भूमिका
    by SAMIR GANGULY

     3.उसे उम्मीद न ती कि ऐसा होगा. ऐन मौके पर जाने कहां से संतू टपक पड़ा औरऐलान कर बैठा कि अपना पार्ट मैं ही करूंगा.बस हो गई चंदर की छुट्टी. ज़िन्दगी में पहली बार स्कूल के ड्रामे में पार्ट करने कामौका मिला था. जब वह मेकअप करके ड्रामा शुरू होने की प्रतीक्षा कर 

    मास्टर जी का चश्मा
    by SAMIR GANGULY

    1.उस रात खूब जमकर बारिश हुई थी. सुबह होते ही यह खबर सारे मोहल्ले में फैलगयी कि मास्टर अयोध्या प्रसाद गोसाई अब नहीं रहे. जब गोकुल ने यह सुना तोउसे लगा कि कानों ने गलत सुना है. हालांकि गोसाई मास्टर पिछले तीन वर्षों सेदमे के मरीज थे,  उम्र  भी दस का पहाड़ा सा

    उनका ऐरावत
    by SAMIR GANGULY

    सारा गांव ही परेशान था. थानेदार जी भी हार गए थे. लेकिन बूढ़े- बूढ़ियों में धैर्यअब भी बाकी था, तभी तो वह जीभ को दांतों के तले दबा कर कहते -ना भई ना, इंद्र देवता को नाराज करना ठीक नहीं.असल में बात यह थी कि बरसों में गांव में गेरूए वस्त्र धारी हट्टे-कट्टे बीस

    नरक सागर
    by SAMIR GANGULY

       भभूत ललाट ब्रहमभट्‍ट.जो बाप ऐसा खतरनाक नाम अपने बेटे का रख दे उस बाप से बेटे का जन्म भर का बैर तो रहेगा ही. शुक्र था कि दादी ने शुरू से ...

    खबर यह है कि
    by SAMIR GANGULY

     ... डॉक्टर ने पिताजी के पेट से इंजेक्शन की सुईं बाहर खींचकर वहां रूई का फाया रखते हुए, पिछले दिनों की तरह विक्रम-बेताल की तर्ज में मां से पूछा, ‘‘ ...

    हम पंछी एक डाल के
    by RACHNA ROY

                       तन्मय, रमा,  राही और राहुल चारों बचपन के दोस्त हैं। तन्मय और रमा अनाथ बच्चों के आश्रम में रहते हैं। पर ...

    सीमा पार के कैदी - 11 - अंत
    by राजनारायण बोहरे

    सीमा पार के कैदी -11 अंत                                 बाल उपन्यास                                राजनारायण बोहरे                              दतिया (म0प्र0)       11         अजय ने ऊंची आवाज में नारा ...

    सीमा पार के कैदी - 10
    by राजनारायण बोहरे

    सीमा पार के कैदी-10                                 बाल उपन्यास                                राजनारायण बोहरे                             दतिया (म0प्र0)   10         रात गहरा रही थी।       अजय और अभय चुपचाप   पटेल ...

    आदी - पादी - दादी
    by SAMIR GANGULY

       यह दुनिया की सबसे अनोखी पिकनिक थी. जो जल्दी ही किसी वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक में जगह बनाने वाली थी-मगर किसी दूसरी वजह से.स्कूल के लिए यह एक प्रोजेक्ट था. ...