Best Children Stories Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

मित्रता का कर्त्तव्य
by Sandeep Shrivastava

रघुवन के दो बंदर, सोनू और मोनू बहुत अच्छे मित्र थे | दोनों हमेशा साथ साथ रहते थे| उनका खाना पीना, घूमना फिरना, सोना जागना सब साथ में ही ...

शुभि (9)
by Asha Saraswat

        शुभि (9)       आज शुभि का मन बहुत ख़राब था ,पढ़ाई में भी उसका बिलकुल मन नहीं लगा ।बार-बार उसकी ऑंखें ऑंसुओं से गीली ...

मटियाली बकरी के दढ़ियल चाचा
by SAMIR GANGULY

झाड़-जंगल में रहने वाली मटियाली बकरी को पत्थर-पहाड़ पर रहने वाले उसके दढ़ियल चाचा ने एक बार एक शीशी शैम्पू भिजवाई और भिजवाई एक चिट्‍ठी. चिट्‍ठी में लिखा था-खुश ...

दानी की कहानी - 4 - मूल से प्यारा ब्याज़
by Pranava Bharti

दानी की कहानी(मूल से प्यारा ब्याज़ ) --------------------------------     समय के गुजरने के साथ दानी हमें तो और भी सचेत लगती हैं | मम्मी कहती हैं ; "हमने ...

खास हलवा
by SAMIR GANGULY

 एक थी लड़की, नाम था सोना. एक दिन जब उसका जन्मदिन आया तो वह मां के पास आकर बोली, ‘‘ मां-मां मैं हलवा खाऊंगी.’’वैसे तो वे गरीब लोग थे और हलवा-पूरी ...

सोहबत
by padma sharma

सोहबत पिताजी की आवाज नीरवता को भंग करती चली गई। वे जोर से चिल्ला रहे थे-"क्या कहा, तू आगे नहीं पढ़ेगा ? पढ़ेगा नहीं तो और क्या करेगा? तू ...

जुर्रत
by padma sharma

जुर्रत कोठी कैम्पस का सन्नाटा बच्चों के शोरगुल से टूट गया। सारे बच्चे मजे करने के लिए कोठी की चहारदीवारी फांद के भीतर जा पहुँचे थेबच्चों की छुट्टियों के ...

मोर पंख
by Sandeep Shrivastava

 रघुवन के मेरु मोर को जबसे पता चला है कि वो भारत देश का राष्ट्रीय पक्षी है तब से उसके स्वभाव की अकड़न कुछ ज्यादा ही बढ़ गई थी।हर ...

शुभि (8)
by Asha Saraswat

    शुभि (8)        दादी जी..दादी जी..बाहर से आवाज़ आ रही थी शुभि ने बाहर जाकर देखा तो सुभाष भैया दरवाज़े पर खड़े थे ।भैया के ...

तहजीब
by padma sharma

तहजीब शहर के प्रसिद्ध सिनेमा हॉल के सामने भीड़ जमा थी। सम्पूर्ण देशवासियों के प्रतीक के रूप में हर वर्ग, हर पेशे तथा हर धर्म के लोग यहाँ उपस्थित ...

भ्रम का भूत
by Asha Saraswat

          भ्रम का भूत     सीमा का घर गली के अंत में था। जब कभी भी बिजली गुल हो जाती तो घर में बहुत गर्मी ...

भगवान की लाठी
by Sandeep Shrivastava

“भगवान की लाठी “रघुवन में कीटु लकड़बग्घा की धृष्टता प्रतिदिन बढ़ती जा रहीं थीं। धृष्टता क्या, सच कहें तो अपराध बढ़ते जा रहे थे। दूसरों को हानि पहुंचा कर ...

जीवन का मूलमंत्र
by padma sharma

जीवन का मूलमंत्र "ट्यूशन की फीस तो इतनी लेते हैं लेकिन स्कूल की तरह यहाँ भी न तो पूरा कोर्स कराते, न हरेक को ठीक से समझाते हैं।" गुंजन ...

બાળ બોધકથાઓ - 1
by Yuvrajsinh jadeja

                     નાનપણથી નાની નાની બોધવાર્તાઓ ખૂબ ગમતી . પછી ભલે એ પંચતંત્રની વાર્તાઓ હોય કે અકબર બીરબલની વાર્તાઓ . કે ...

હિંમતવાન બાળકો
by DIPAK CHITNIS

હિંમતવાન બાળકોDIPAK CHITNIS (dchitnis3@gmail.com) …………………………………………………………………………………………………….. ઘણાં સમય પહેલાની વાત છે. એક મોટું અને ગીચતા ધરાવતું જંગલ હતું. ગીચતા એટલી હતી કે, તેમાંથી દિવસે પસાર થવું હોય તો પણ ભય લાગે. એટલે જ આ ગીચતાથી ભરેલા ભરચક જંગલને ચોર-

भालू का अपहरण
by Sandeep Shrivastava

रघुवन का भोलू भालू शिकारियों के जाल में फंस चुका था| जैसे ही शिकारियों के लगाए हुए जाल पर उसने पैर  रखा एक शिकारी ने अपनी बन्दुक से रंग ...

शुभि (7)
by Asha Saraswat

    शुभि (7)        सुबह से ही घर में चहल-पहल शुरू हो गई थी ।पिताजी एक व्यक्ति को लिस्ट देख कर सामान दे रहे थे तभी ...

एक शिकार दो शिकारी
by Sandeep Shrivastava

रघुवन में आम के फलों का मौसम था| हर आम के पेड़ पर रस भरे आम लदे हुए थे| भूखी लाली लोमड़ी कुछ खाने की तलाश में इधर उधर ...

ચતુર શેઠ
by DIPAK CHITNIS

ચતુર શેઠ …………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….. DIPAK CHITNIS (dchitnis3@gmail.coom) ……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..   અડધી રાતનો ગજર ભાંગ્યો. માણસને પોતાનો હાથ નો સૂઝે એવી અંધારી મેઘનયનીની રાત હતી. ચોસ

दानी की कहानी - 3 - गोलू--मुन्ना
by Pranava Bharti

गोलू--मुन्ना  (दानी की कहानी ) ---------------------------      दानी की अम्मा जी भी एक स्कूल की प्रधानाचार्य थीं | पूरा पढ़ाकू माहौल ! अब भला बच्चों की तो ऐसी-तैसी होगी ही ...

બાળપણની મોજ - 1
by KRUNAL PATEL

બાળપણની મોજ               નમસ્કાર મિત્રો આપણે જાણીએ છીએ કે બાળપણ એ આપણને મળેલ અમૂલ્ય અને અજાયબ ભેટ છે , પણ હવે શુ! એ તો આપણા પાસેથી ક્યારનુંય ભાગી ગયું.આપણને ...

झूठ घर
by SAMIR GANGULY

झूठ घरउस डायरी में लेखक का कहीं भी नाम नहीं है, अन्यथा ‘झूठ घर’ का वह प्रत्यक्षदर्शी, बिन बुलाया मेहमान आज के सफल लेखकों में गिना जाना. लेखक बनना उसका उद्‍देश्य ...

डायनासौर का बच्चा
by Sandeep Shrivastava

रघुवन में एक दुपहर बहुत शांति थी।  रेंचो खरगोश भोजन के बाद झाड़ियों में दुबक कर झपकी मार रहा था | तभी अचानक उसे किसी के जोर जोर से ...

शुभि (6)
by Asha Saraswat

    शुभि (6)            बहुत दिनों से शुभि देख रही थी कि घर में सब लोग व्यस्त हैं ।मॉं सुबह का नाश्ता फिर खाना ...

बिना कहानियों वाला शहर
by SAMIR GANGULY

उस शहर में एक बार कहानी-कविताओं की बाढ़ आ गई.दूर-पास से,उड़ते-बहते,दौड़ते अनगिनत कहानियां-कविताएं उस तरफ आने लगीं.और एक खाली पड़े तालाब को भरने लगीं.लोग आंखें फैलाकर उस नजारे को ...

चमकती तितली
by Sandeep Shrivastava

रघुवन में एक चांदी जैसी चमकती तितली थी। उसका नाम था चंदा। वो फुलवारी में जाके रोज फूलों से पराग पीती और यहाँ वहां उड़ती रहती थी। सभी उसे ...

दानी की कहानी - 2 - महाशिवरात्रि पर कुछ प्रश्न !
by Pranava Bharti

दानी की कहानी  ------------------ महाशिवरात्रि पर कुछ प्रश्न ! -------------------------             दानी हर घर में होती हैं यदि परिवार एकसाथ,एकजुट होकर रहे |बच्चों की ...

भोला की भोलागिरी - 12 - अंतिम भाग (बच्चों के लिए भोला के 20 अजब-गजब किस्से)
by SAMIR GANGULY

       भोला की भोलागिरी     (बच्चों के लिए भोला के 20 अजब-गजब किस्से)                       कौन है भोला ? भीड़ में भी तुम भोला को पहचान लोगे.उसके उलझे बाल,लहराती चाल,ढीली-ढाली टी-शर्ट, और ...

चंदा मामा दूर के
by Sandeep Shrivastava

रघुवन में एक दोपहर ढल रही थी। रघुवन वासी अपने संध्या कर्म में लगे हुए थे। परछाइयां अब लम्बी होने लगी थीं। हमेशा की ही भांति सुखमय वातावरण था। ...

भोला की भोलागिरी - 11 (बच्चों के लिए भोला के 20 अजब-गजब किस्से)
by SAMIR GANGULY

भोला की भोलागिरी     (बच्चों के लिए भोला के 20 अजब-गजब किस्से)                       कौन है भोला ? भीड़ में भी तुम भोला को पहचान लोगे.उसके उलझे बाल,लहराती चाल,ढीली-ढाली टी-शर्ट, और मुस्कराता ...

शुभि (5)
by Asha Saraswat

           बाल कहानी (5)          प्रत्येक दिन दादी जी सुबह नहाने के बाद मंदिर जाती तो शुभि का मन भी उनके साथ ...

भोला की भोलागिरी - 10 (बच्चों के लिए भोला के 20 अजब-गजब किस्से)
by SAMIR GANGULY

भोला की भोलागिरी     (बच्चों के लिए भोला के 20 अजब-गजब किस्से)  कहानी - 16भोला ने जूते का सूप बनाना सीखा उस दिन ताऊ बड़े मूड में थे. भोला से सामना हुआ तो बोले, ‘‘ भोला ...