Best Children Stories Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

બાળપણ ની એ ધૂંધળી યાદો
by Dhruti Mehta અસમંજસ

નાનપણ ની ઘણી યાદો હોય છે જે ધૂંધળી ધૂંધળી યાદ હોય છે આપણને, એમાંથી ઘણી યાદો એવી હોય છે જે હંમેશા આપડી સાથે રહે છે એમાંથી જ એક યાદ ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (7)
by राज बोहरे

 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे    7 शिवपाल समझ गया कि दरवाजा ऐसे तो सूना दिख रहा है कि लेकिन जादूगर जंकाल ने बिना किसी रखवाले ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (6)
by राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे      6 कुछ देर बाद  सामने खूब सारी रोशनी दिखी तो वह दौड़कर उधर ही पहुंचा। शिवपाल फिर चकित था- ...

मानसकन्या
by Shivani Anil Patil

पारावरती पक्षांचा किलबिलाट चालू होता.सगळे पक्षी मिळून आज खूप दिवसांनी गप्पा मारत होते.        तेवढ्यात एक पोपट तिथे आला. चेहऱ्यावरून तो खूप उदास वाटत होता. त्या पक्षांपैकी एका पक्षाने ...

निवेदन पत्र...
by सिमरन जयेश्वरी

"और ये पूरी ताकत के साथ बंटी ने लगाया सिक्स...!!!!!" छोटे कमेंटेटर बल्लू ने हाथ में पकड़ा हुआ बोटल वाले माइक पर चिल्लाकर कहा। और पूरी बच्चा पार्टी हुर्रे-हुर्रे!!! ...

धरती तो हरी हुई (दानी की कहानी )
by Pranava Bharti

धरती तो हरी हुई (दानी की कहानी ) -------------------------------     दानी की एक बहुत क़रीबी दोस्त हैं | उनकी दोनों बेटियाँ विदेश में रहती हैं |  जब भी उनके ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (5)
by राज बोहरे

 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे    5 आगे बढ़ने पर और ज्यादा गाढ़ा धुंआ दिखने लग गया था। अभी वह दो सौ कदम ही आगे बढ़ा ...

सफाई-मंडली
by Kusum Agarwal

जब से छुट्टियां हुईं हैं, बोर हो गया हूं। मन ही नहीं लगता। ऐसा लगता है जैसे बिल्कुल निकम्मा हो गया हूं।  करूं तो क्या करूं? मनीष बड़बड़ाता  हुआ ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (4)
by राज बोहरे

 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे    4 कुछ ही देर में वे समुद्र को पार कर चुके थे और मगरमच्छ गहरे पानी से जमीन की तरफ ...

Beauty of nature
by kajal

Nature is God Gift, Most beautiful planet. Tisa loved Nature too much. And Also  Nature is full of greenery, So tisa always want to go there. Tisa say to ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (3)
by राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे    3  पांचवे समुद्र को पार करते समय शिवपाल ने देखा कि समुद्र में तूफान आया हुआ है और बीच समुद्र ...

खाली हाथ नहीं लौटते...
by सिमरन जयेश्वरी

खाली हाथ नहीं जाते... . . . . . "काका....???? ओ काका...!!! क्या लाये हो मेरे लिए....!!!" उसने काका के गाल पर उंगली फेरते हुए कहा। "अरे गुड्डे तेरे ...

અર્ધચંદ્ર   પૂર્ણચંદ્ર
by Savan Patel

અર્ધચંદ્ર & પૂર્ણચંદ્ર એકવાર અકબરના રાજ્ય પર એક વિદેશી બાદશાહે આક્રમણ કર્યું. તે સમયે અકબર બીજા રાજ્યની મુલાકાત ગયા હતા.જો અકબર સિવાય યુદ્ધ કરે તો તે આ યુદ્ધ હારી ...

मैं भी हूं खास
by Pratima Pandey

प्रतिमा पांडेय आज शाम से ही मिंकी उदास थी। उसे पता चला कि उसकी सबसे प्यारी सहेली श्वेता को स्कॉलरशिप मिली है। बस उसे उदासी ने आ घेरा। मन ...

हमें बचाओ
by Kusum Agarwal

वह फाउंटेन पेन चलता-चलता फिर लड़खड़ा गया और नोटबुक के नाजुक बदन में बड़ी जोर से चुभते हुए रुक गया। रुकते-रुकते उसने अपने बदन में से कुछ इंक नोट ...

Untitled
by r k lal

“सब्जी वाला लड़का” आर 0 के 0 लाल                     बाबूजी सब्जियां ले लीजिए, सस्ती और हरी सब्जियां ले लीजिए। मोहल्ले की गली में एक लड़का काफी देर से ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (2)
by राज बोहरे

2 जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे   ठीक तभी परी भी प्रकट हो गयी और शिवपाल की मां से बोली कि आप बहुत अच्छी महिला है ...

ઈવાનઃ 'એક નાનો યોદ્ધા' - 6
by u... jani

          10.     ૧૪ દિવસની જર્નીનો અંત        આ બાજુ, એક રેડિયો સ્ટેશન પરથી માહિતી મળી આવે છે. જે ઓફિસર ઈવાનને શોધી રહ્યા ...

એકતા
by Sujal Patel

ઘનઘોર જંગલની બહાર એક દિવસ ભયાનક આગ લાગી.ધીમે-ધીમે આગ જંગલ તરફ આગળ વધી રહી હતી.આગ એટલી વિકરાળ હતી કે જંગલમાં વસતા સૌ પશુ, પંખી અને પ્રાણીઓ તહસ મહસ થઈ ...

બંધ દરવાજા
by Dhruti Mehta અસમંજસ

નાનકડો સોનું એની કિટ્ટી પાર્ટી માટે તૈયાર થતી મમ્મી પાસે જઈને કહેવા લાગ્યો, મમ્મી મને આ સબજેક્ટ માં થોડી સમજ નથી પડતી પ્લીઝ સમજાવને. અરે બેટા સ્કૂલ માં કેમ ટીચર ...

जादूगर जंकाल और सोनपरी (1)
by राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे                                 जादूगर जंकाल और सोनपरी        बहुत पुरानी बात है। जब इस देश में जादूगर और परी, बहुत सारे ...

शौर्यमान - 1
by Sandeep Kakade

शिवरुद्रा : द शौर्यमान       त्रिकालगडाच्या गुहेत गेल्या महिनाभरापासून चोरीचं सत्र सुरूच होतं. एका विशिष्ट अशा मूल्यवान आणि मजबूत धातू पासून बनवलेल्या पाच तलवारी त्रिकाल गडाच्या गुहेत  लपवून ...

निदिया
by JYOTI PRAKASH RAI

मनुष्य यदि किसी विषय पर चिंतन मनन करने लगे तो वह जरूर परिणाम प्राप्त कर सकता है और यदि कार्य पूरी मेहनत लगन और निष्ठा से किया गया हो ...

विकलांग मन
by Swatigrover

लगातार दूसरी बार नमन आठवीं  में फेल हो गया। उसके पापा ने उसकी  डंडे से पिटाई  की । माँ ने भी लाड  नहीं  दिखाया ।  "पापा  बात  नहीं  समझते, आख़िर  मैं  पढ़  ...

व्हाट इज़ दिस ? !(दानी की कहानी )
by Pranava Bharti

व्हाट इज़ दिस ? !(दानी की कहानी ) ------------------------------       बात बड़ी बहुत पुरानी है | जब दानी की शादी हुई  थी तब दानी बीस वर्ष की थीं | उन ...

बच्चों को सुनाएं - 9 - फायदा अपने कारोबार से
by r k lal

बच्चों को सुनाएं- 9 “फायदा अपने कारोबार से” आर 0 के 0 लाल सुरेश ने तीन साल पहले अपनी पी0 एच0 डी0 पूरी कर ली थी । उसने पूरी ...

जंगल की परी !!
by zeba praveen

बहुत समय पहले की बात हैं, चिंटू नाम का एक छोटा लड़का जो लगभग सात साल का था एक छोटे से घर में रहता था, उसके माँ-बाप नहीं थे, ...

नेहा का छाता
by Kusum Agarwal

 नेहा देखो मैं तुम्हारे लिए एक नया  छाता लाई हूं। तुम इसे अपने बस्ते में रख लो  ताकि जरूरत पड़ने पर यह तुम्हारे काम आए- माँ ने कहा।नेहा ने ...

ભીખો - 2
by Jay Piprotar

ભીખો આગળ ચાલ્યો, ઘણા દિવસો વીતી જાય છે અને છેવટે ભીખો એક નગરી માં પોહચે છે પણ ત્યાં એને કોઈ દેખાતું નથી એ નગરી નું નામ અંધેરી નગરી હતું ...

परी लोक का शहद
by Pratima Pandey

  परी लोक में रानी परी दूर-दूर तक मशहूर थीं। उन्हें परियों के गुरु रोसाव ने थैंक्यू शक्ति दी थी और जादुई तूलिका भी। वह जो चाहतीं, सबकी भलाई ...

मर्द की ज़ुबान (दानी की कहानी )
by Pranava Bharti

मर्द की ज़ुबान (दानी की कहानी ) ------------------------------       दानी बहुत बातूनी ! दादी,नानी बन गईं थीं लेकिन उनका बच्चा उनके भीतर कभी भी कुनमुनाने लगता |    ...

अपना घर, सबसे अच्छा !
by zeba praveen

बहुत समय पहले की बात हैं, मानसरोवर जंगल में चंम्पू नाम का एक छोटा बंदर अपने माता -पिता के साथ रहता था | उस जंगल में किसी भी चीज़ ...