×

Short Stories Books , Novels and Stories free to read online and download on Matrubharti app

    तथास्तु
    by Dipti Methe
    • (1)
    • 17

    आज मात्र कोणत्याही परिस्थितीत मरायचेच असं ठरवून मी दारू सोबत झोपेच्या गोळ्या घेऊन टाकल्या. आत्महत्येचा हा धरून माझा अकरावा प्रयत्न आहे. या आधीचे सारे प्रयत्न फेल झाले अगदी आयुष्यात ...

    એક સ્વપ્ન
    by JULI BHATT
    • (17)
    • 139

              એક સ્વપ્ન સુકેતુભાઇને નાઇટડ્રેસમા જોઈ દીપીકાબેન ગુસ્સાભર્યા અવાજે બોલ્યા, “સુરજ માથા પર આવ્યો તોય હજુ નાઇટડ્રેસમા ફરો છો. ઝડપથી નાહી લો અને તૈયાર થઈ જાઓ. ...

    अँधेरे में जुगनू - 2
    by Kusum Bhatt
    • (6)
    • 78

    घर से निकलते समय उसने एक बार भी नहीं सोचा। तूफान का मुकाबला करने की ताकत नहीं थी उसमें। पति ने मारपीट की- बच्चों के सामने! ग्लानि हुई! रोज़-रोज़ ...

    લાખો વણઝારો
    by vishnusinh chavda
    • (7)
    • 125

                ગોમની ભાગોળ એટલે વડીલો, જુવાનીયાઓ,નાનેરાઓ, પનિહારીઓ, અવનવા લોકો થી અવરજવર ચાલુ રહેતી જગ્યા એટલે ગામનું પાદર એટલે ગામની આસપાસ, ગામ ની બહાર ગામ ...

    फादर्स डे
    by Ankita Bhargava
    • (6)
    • 71

    मुझे रात को जल्दी सोने की आदत है। अपने बेटा बहू की तरह मैं देर रात तक जागना पसंद नहीं करता। शाम का खाना जल्दी खाना और खाने के ...

    मुझे चाँद चाहिए
    by Shraddha Thawait
    • (4)
    • 46

    एक दिन चाँद को आसमान से धरती में झांकने पर एक झरोखे से निकलती सतरंगी आभा दिखी. चाँद ने आसमान में धीरे से नीचे आकर, थोडा सा झुक कर ...

    कांट्रैक्टर - 3
    by Arpan Kumar
    • (1)
    • 37

    हरिकिशन की साँस में साँस आई। वे एक नवयुवक अधिकारी के आगे अपनी महत्ता पूरी तरह गँवाने से बच गए थे। कम से कम खाने के मेनू का अधिकार ...

    मिस अडना जैक्सन
    by Saadat Hasan Manto
    • (9)
    • 59

    कॉलिज की पुरानी प्रिंसिपल के तबादले का एलान हुआ, तालिबात ने बड़ा शोर मचाया। वो नहीं चाहती थीं कि उन की महबूब प्रिंसिपल उन के कॉलेज से कहीं और ...

    दूर है किनारा
    by Anju Sharma
    • (2)
    • 42

    तपन ने आसमान की ओर सर उठाकर देखा तो कुछ देर बस देखता ही रहा! आकाश तो वहां भी था पर इतना खुला कभी नहीं लगा, खूब खुला, निस्सीम, ...

    અધુરી ઇચ્છા .....
    by Archana
    • (10)
    • 147

    અધુરી ઇચ્છા .....     હવે નથી થતી કોઈ સવાર કે નથી થતી કોઈ રાત,કેટલાય દિવસો આમ ને આમ જ નીકળી ગયા,અચાનક આજે  બહાર આવી ને જોયું તું જાણે લાગ્યું કે ...

    ट्रांसफर
    by Swatigrover
    • (9)
    • 86

    "रीमा बहुत-बहुत बधाई हो! आज तुम्हारा सपना पूरा हो गया। तुम्हारा चुनाव आई.ए.एस. के लिए हो गया। तुम्हारा सपना पूरा हो गया। बस तुम अब सारी चिंता  छोड़ दो। जहाँ तुम्हारी पोस्टिंग हो वहाँ चली जाना ...

    फण्डा यह है कि
    by Sushma Munindra
    • (1)
    • 89

    तीस वर्ष का समय बहुत होता है किसी युवा के स्नायुओं को ढीला और नजर को कमजोर कर बूढ़ा बना देने के लिये। इसीलिये अब खिलाड़ी की धसकती कमर ...

    फास !
    by suresh kulkarni
    • (0)
    • 11

      श्री शांतपणे सोफ्यावर कॉफीचा मग घेऊन बसला होता. 'मानसी इंडस्ट्री'चा मालक श्रीकांत, हजारो नसली तरी शेकडो कोटीची उलाढाल असलेली स्टील इंडस्ट्री. वय फक्त सत्तावीस! स्वप्नांच्या मागे धावणारा एक ...

    વફાદારી.
    by NILESH MURANI
    • (15)
    • 153

    વફાદારી.   મારા ગળામાં સળવળાટ થવા લાગ્યો. મારા દિમાગ ઉપર અચાનક જાણે રુધિરાભિસરણ તંત્રનો  હુમલો ન થયો હોય! કદાચ છેલ્લા છ મહિનાથીકે એક વર્ષથી કે કદાચ ચાર પાંચ વર્ષથી, ...

    काँटों से खींच कर ये आँचल - 2
    by Rita Gupta
    • (4)
    • 46

    कैसी उजड़ी चमन की मैं फूल थी. क्या अतीत रहा है मेरा क्या जीवन था, मानों तप्त रेगिस्थान में उगे कैक्टस. निर्जन बियावान कंटीली निरुद्देशय जीवन. अकेला, बेसहारा, अनाथ ...