Best Women Focused Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

हमने दिल दे दिया - अंक ९
by VARUN S. PATEL

     अगर आपने आगे के ८ अंको को अभी तक नहीं पढ़ा है तो सबसे पहले उन अंको को पढ़ ले ताकी आपको यह अंक अच्छे से समझ ...

पत्नी को काबू करना
by Pravesh Kumar

हर पतियों को यहीं लगता हैं कि मेरी पत्नी मेरी बात नहीं मानती | ज़ब डाटता हूं तभी मानती हैं | यदि उस पर मेरा वश चल जाये तो ...

गुंजन - भाग ३
by Bhavana Sawant

भाग. ३ आज गुंजनचा जाधवांच्या कुटुंबातील पहिला दिवस होता लग्नानंतरचा. तरीही, तिला काही जाग आली नव्हती. काल खूप थकल्याने तिला जाग आली नाही!!पण वेद मात्र लवकर उठून आपला नेहमीप्रमाणे ...

चरित्रहीन - (भाग-10)
by सीमा बी.

चरित्रहीन.......(भाग -10)उस दिन बुरा तो बहुत लगा था, पर किसी को कुछ कहना ही बेकार था। मैंने घर से ही काम करने को ठीक समझा। वरूण और मेरे पास ...

कामवाली बाई--भाग(३)
by Saroj Verma

गीता एक दिन अपनी बहन लक्ष्मी के घर गई थी,घर का दरवाज़ा खुला हुआ था इसलिए गीता भीतर चली गई,लेकिन वहाँ पहुँचकर उसने जो देखा वो देखकर उसने अपनी ...

सावधान लड़कियों
by Anurag Basu

आज की हमारी स्टोरी current topic पर है।जो की आम बात है। आज के युग में लड़कियों को ज्यादा पढ़ाई के लिए पैरेंट्स मना नहीं करते ।और उन पर ...

गुंजन - भाग २
by Bhavana Sawant

गुंजन...भाग २"विश्वास ठेवून बघ माझ्यावर एकदा!! लग्न झालं म्हणजे सगळं संपलं नाही. ही तर सुरुवात आहे सगळ्याची. प्रत्येक नवीन गोष्टीला थोडासा वेळ लागतो. तुला डान्सर बनायचं आहे ना? मग ...

चरित्रहीन - (भाग-9)
by सीमा बी.

चरित्रहीन.......(भाग -9)हम जो सोचते नही वो जब हो जाता है तो समझ ही नहीं आता कि ये सच है या सपना। मुझे भी ऐसा लग रहा था कि ये ...

गुंजन - भाग १
by Bhavana Sawant

गुंजन....भाग १ ही कथा आहे एका अश्या मुलीची जिने बरीच स्वप्न पाहिली होती आपल्या वयात,पण काही कारणाने तिची स्वप्न अपूर्ण राहतात.काय आहे तिचं स्वप्न?करेल का ती ते पूर्ण ते ...

Menstruation Periods-(માસિક ધર્મ)
by Priyanka Patel

હું ૧૩ વર્ષની છું અને હવે મને માસિક ધર્મ(menstruation cycle/Period- ટાઈમમાં હોવું/અને અહીંયા વપરાતી સાદી ભાષામાં કહીએ તો અડવાનું નથી.) શરૂ થઈ ગયો છે.એમાં મારી કોઈ ભૂલ નથી. બસ ...

हमने दिल दे दिया - अंक ८
by VARUN S. PATEL

अंक - ८ - जीवन       तेरे दिमाग में घुसा भरा हुआ है | इतना कम था की हम मानसिंह जादवा की बहु को मिलने गए एक ...

चरित्रहीन - (भाग-8)
by सीमा बी.

चरित्रहीन......(भाग-8)अगली सुबह हमारे लिए किसी भूचाल आने से कम नहीं था। रात को ठीक से नींद नहीं आयी तो सिरदर्द हो रहा था। किसी काम को करने का मन ...

नारी जीवन
by Gurpreet Singh

आधुनिक नारी की पहली समस्या फैशन परसती है। कुछ अलग दिखायी देने ,आकर्षक व्यक्तित्व की बढ़ती चाह ने आधुनिक नारी को फैशन की और प्रेरित किया। टेलीविज़न,सिनेमा, रंगीन पत्रिकाएँ ...

हमने दिल दे दिया - अंक ७
by VARUN S. PATEL

अंक ७ मदद           छत पर एक दुसरे की तकलीफे एक दुसरे के साथ बाट रहे अंश और ख़ुशी की बाते छत पर जाने वाले ...

चरित्रहीन - (भाग-7)
by सीमा बी.

चरित्रहीन.......(भाग-7)हमारी शादी के लिए दोनो ही परिवार बहुत खुश थे। दोनो तरफ से ही शादी की जल्दी तो थी, पर फिर भी सगाई और शादी के बीच में 6 ...

कामवाली बाई--भाग(२)
by Saroj Verma

गीता मिसेज शर्मा के घर पहुँची ही थी कि उनकी सास शकुन्तला देवी जो आज ही प्रयाग से उनके घर आईं थीं,वें बोलीं.... ए लड़की तू कितनी देर से ...

तलाक का जहर
by Pravesh Kumar

*तलाक का ज़हर* कभी भी किसी की बातों मैं आकर अपना घर ना तोड़ना लोग सलाह तो देंगे लेकिन बाद मैं साथ नही रोहतक की दुखद घटना राधिका और ...

हमने दिल दे दिया - अंक ६
by VARUN S. PATEL

अंक ६ तहकीकात            भवानी सिंह और अपने दो हवालदारो के साथ मिलकर उस जगह तहकीकात करने पंहुचा था जहा पर वीर का अकस्मात हुआ ...

चरित्रहीन - (भाग-6)
by सीमा बी.

चरित्रहीन.......(भाग-6)वो रात रोते हुए और सोचते हुए ही बीतगयी.....कभी मन करता कि नीरज ठीक कह रहा है मंदिर में शादी कर लेते हैं, फिर सब मान जाँएगें तो कभी ...

असाही एक त्रिकोण - भाग 3 - अंतिम भाग
by Dilip Bhide

असाही एक त्रिकोण  भाग  ३ भाग २ वरून पुढे वाचा .........   आणि मग एक दिवस हरेश्वराच्या सभामंडपात हरीहर आणि यशोदेच लग्न झालं. यशोदेला जशा पूर्वीच्या आठवणी नको होत्या ...

हमने दिल दे दिया - अंक ५
by VARUN S. PATEL

अंक ५ श्रध्धांजली      एक औरत पे हो रही अत्याचारों की मार आज अंश ने पहली बार देखी थी और यह देख कर उसके अंदर उदासीनता का वातावरण फेल ...

समझौता प्यार का दूसरा नाम - 9
by Neerja Pandey

बीते रात की घटना के बाद रागिनी को बेडरूम में छोड़ विमल दूसरे कमरे में जा कर सो गया। सुबह उन दोनो के जागने से पहले ही वसुधा ड्यूटी ...

નારી શક્તિ - પ્રકરણ- 31 ( સતી- સાવિત્રી , ભાગ- 3 )
by Dr. Damyanti H. Bhatt

નારી શક્તિ, પ્રકરણ- 31, ( "સતી- સાવિત્રી" ભાગ -3 )[ હેલ્લો ફ્રેન્ડ્સ, વાંચક મિત્રો ! નમસ્કાર ! નારી શક્તિ પ્રકરણ- 31,, "સતી- સાવિત્રી"- ભાગ -૩, આ પ્રકરણમાં આપ સર્વેનું ...

असाही एक त्रिकोण - भाग 2
by Dilip Bhide

असाही एक त्रिकोण  भाग  २ भाग  १ वरुन पुढे वाचा........... हा एवढा अपमान झाल्यावर दोघी जणी तिथे थांबण शक्यच नव्हतं. पण हा प्रसंग यशोदेच काळीज विदीर्ण करून गेला. त्या ...

चरित्रहीन - (भाग-5)
by सीमा बी.

चरित्रहीन.....(भाग-5)अब मन परेशान हो या मुझे टेंशन थी, जो भी था वो नेचुरल ही था.....। मम्मी पापा जैसे ही निकले मैंने नीरज को फोन करके बता दिया। पंजाबी बाग ...

एक नया शब्द,और क्या?
by Rohit Kumar Singh

मनोरमा देवी किसी भी तरह से पैसो की हैसियत में मिसेज रुमी चढ्ढा से कम ना थी,और किसी भी तरह से रुमी से सुन्दरता मे भी बीस ही पडती ...

असाही एक त्रिकोण - भाग 1
by Dilip Bhide

असाही एक त्रिकोण  भाग  १   दारावरची बेल वाजली आणि छोटा विनय बाबा आलेss  अस म्हणून दार उघडायला धावला. संध्याकाळची वेळ होती म्हणून त्यांची आई त्यांच्या मागे धावली पण ...

चरित्रहीन - (भाग-4)
by सीमा बी.

चरित्रहीन......(भाग-4)उस रात खुली आँखों से इतने सपने सजा लिए थे कि आँखे बंद करने से भी डर लग रहा था.....कितनी कपोल कल्पनाएँ चल रही थी मन में.....नीरज कैसे पापा ...

कामवाली बाई--भाग(१)
by Saroj Verma

गीता एक नौकरानी है,जो लोगों के घरों में झाड़ू-पोछा बरतन करके अपना और अपने परिवार का पेट पालती है,यूँ तो उसकी उम्र अठारह साल है लेकिन दुनिया को समझते ...

પૂજાની કારમી વિદાય
by Bhavna Chauhan

માયાબેન અને કેતનની એક એક દીકરી પુજા.ખૂબ જ વહાલી અને સૌની લાડલી.દાદા - દાદી ,કાકા-કાકી,બધાથી ભર્યો ભર્યો પરિવાર.બધાં પોત પોતાની રીતે સેટલ થઈ ગયેલાં."પૂજા બધાંને બહું ગમતી.""પરાણે વહાલ કરવાનું ...

चरित्रहीन - (भाग-3)
by सीमा बी.

चरित्रहीन.........(भाग-3)मैं चुपचाप जा कर गाड़ी में बैठ गयी। पापा पूरा रास्ता बिल्कुल चुप रहे शायद ड्राइवर की वजह से कुछ नहीं बोल रहे थे। मैं पापा के पूछने वाले ...

ધરતી
by Nisha Patel

મે ૧૧, ૨૦૧૦ આજે હું જોબ પરથી છુટી ધીરે ધીરે ઘરે આવતી હતી. મારા પગ, પીઠ અને શરીરમાં સખત દુખાવો થતો હતો. આ દુખાવો કાંઈ નવો નહોતો, રોજ એ ...