bundelkhand ke lok jivan me samy bodh by कृष्ण विहारी लाल पांडेय in Hindi Human Science PDF

बुंदेलखंड के लोक-जीवन में समय बोध

by कृष्ण विहारी लाल पांडेय in Hindi Human Science

बुंदेलखंड के लोक में समय बोधमनुष्य ने काल के निरवधि विस्तार को अपने बोध की दृष्टि से खंडों में विभाजित कर लिया । आदिम मनुष्य ने भी प्रभात, दोपहर, शाम, रात जैसी परिवर्तित समय स्थितियां देखी होंगी और आरंभ ...Read More