Novel Episodes Books in Hindi language read and download PDF for free

    वो अनकही बातें - भाग - 6
    by RACHNA ROY

    शालू फे्श हो कर आ गई और बोली चलो अब कुछ देर आराम कर ले।समीर बोला अरे शालू तुम मेरे साथ अकेले नहीं रह सकती हो ना?? मिलने में ...

    बैंगन - 32
    by Prabodh Kumar Govil

    हम लोग भाई के बंगले की बड़ी छत से पतंग उड़ा रहे थे। भतीजा तो ग़ज़ब जोश में था क्योंकि सुबह से लगभग एक दर्जन पेंच काट कर उसने ...

    छुट-पुट अफसाने - 35
    by Veena Vij

    एपिसोड---35 अतीत के स्मरण की तरंग मुझे अपने वेग में उलझा कर दूर खींच ले जाने को व्याकुल हो उठी है। मन बहुत भारी है। जाने कितने ही भाव ...

    कैसा ये इश्क़ है.... - (भाग 53)
    by Apoorva Singh

    आई जीजी शीला ने शोभा से कहा।वो अर्पिता की ओर देख उससे बोली,मैं जब फ्री होती हूँ तब मिलती हूँ तुमसे ठीक है। जी आंटी जी अर्पिता ने कहा।और ...

    मैं तो ओढ चुनरिया - 16
    by Sneh Goswami

      मैं तो ओढ चुनरिया अध्याय -16     पाठशाला में दो चीजें मुझे बहुत अच्छी लगती , एक तो तख्ती सुखाना । हम घर से एक तरफ वर्णमाला ...

    दो आशिक़ अन्जाने - 3
    by Satyadeep Trivedi

    आय प्रमाण पत्र और राशन कार्डों को अगर आधार मानें, तो यूपी-बिहार के 60% लोग; भूखों मर जाने की हद तक ग़रीब हैं। इन दोनों राज्यों की एक बड़ी ...

    इंसानियत - एक धर्म - 42
    by राज कुमार कांदु

    मुनीर ने भी मौके की नजाकत को देखते हुए समझदारी से काम लिया और उसे पुचकारते हुए दुलार करते हुए बोला ” नहीं मेरी नन्हीं परी ! अब मैं ...

    चाहत - 9
    by sajal singh

    पार्ट -9  मैंने सबका मन रखने के लिए हाँ तो बोल दिया है पर मेरा अतीत ?  सच ही कहा है किसी ने इंसान कितनी भी कोशिस कर ले ...

    चूँ चूँ का मुरब्बा - 3
    by S Sinha

    भाग 3 अभी तक आपने पढ़ा कि रूबी ने रोमित की रचनओं को लोकल समाचार पत्र में प्रकाशित करने में किस तरह सहायता की  . अब आगे पढ़िए कैसे ...

    नविता की कलम से... - Last chapter .. thanku so much everyone ️
    by navita

    ✍️✍️✍️☺️☺️☺️✍️✍️✍️☺️☺️☺️✍️✍️✍️✍️ ?? रिश्तों की कीमत ??रिश्तो की कीमत रिश्तो को और मजबूत करने मे होती है ,रिश्तो से टूट जाने मे नहीं ..रिश्तो की कीमत दूर हो कर भी दिल से जुड़े ...

    सफर और हमसफर.....S4 - अंतिम भाग
    by Tej Jogarana

    अगले दिन कॉलेज का नया दिन था तो पूरा दिन उसी के काम मे निकल गया उसे याद ही नहीं रहा कि उसने किसी को request भेजी थी । ...

    हारा हुआ आदमी (भाग 29)
    by किशनलाल शर्मा

    बैंक में नौकरी लगने पर सबसे ज्यादा खुसी देवेन की पत्नी निशा को हुई थी।  पहले देवेन का टूरिंग जॉब था।वह महीने में बीस दिन दिल्ली से बाहर ही ...

    बैंगन - 31
    by Prabodh Kumar Govil

    इम्तियाज़ के तीन लड़के नज़दीक के एक बड़े शहर में पढ़ते थे। छोटे दोनों का मन तो सचमुच पढ़ने में लगता था पर बड़ा केवल उन्हें संभालने और माता ...

    छुट-पुट अफसाने - 34
    by Veena Vij

    एपिसोड---34 कई बार जीवन में कुछ घटनाएं केवल इसलिए घटित हो जाती हैं कि वे अपने घटने से केवल एक संस्मरण बनकर रह जाएं। जैसे:- हेलो-! आप वीना मैनी ...

    इंसानियत - एक धर्म - 41
    by राज कुमार कांदु

    मुनीर को पुकारते हुए ‘ परी ‘ रिक्शे से काफी नीचे की तरफ झुक गयी थी । अपने ही उधेड़बुन में उलझे हुए मुनीर के कानों तक परी की ...

    चाहत - 8
    by sajal singh

    पार्ट -8  शिव भैया की सगाई को दो दिन बीत चुके हैं। आज भाभी की गोदभराई की रस्म है। हमने फंक्शन बहुत छोटा रखा है। भाभी बड़ा फंक्शन नहीं ...

    चूँ चूँ का मुरब्बा - 2
    by S Sinha

    भाग 2      पिछले भाग में आपने पढ़ा कि रूबी ने स्वयं आगे बढ़ कर रोमित से दोस्ती की और उसे समाचार पत्र में अपनी रचनाएँ भेजने के लिए प्रोत्साहित ...

    कैसा ये इश्क़ है.... - (भाग 52)
    by Apoorva Singh

    शान, बात डर की ही है लेकिन आपसे नही है,डर इस बात से है हमारे रिश्ते को जितनी गहराई से आप समझते है,परम जी समझते है,राधिका जी समझती है ...

    सफर और हमसफर ....S3
    by Tej Jogarana

    फिर तीसरे दिन माधव के गृप को ट्रेकिंग के लिए दूर जाना था और एक रात वहा रुकना भी था ।बस यही था इस पुरी ट्रिप का सबसे खूबसूरत ...

    त्रिधा - 1
    by Ayushi Singh

    मेरी प्यारी त्रिधा,कैसी हो ? उम्मीद है पहले से बेहतर होगी। समझ नहीं आ रहा इतने सालों बाद क्या बोलूं, क्या लिखूं, क्या पूछूं...... तुम्हारा फोन नंबर, ईमेल, सोशल ...

    बैंगन - 30
    by Prabodh Kumar Govil

    दो दिन बाद मैं वापस अपने घर लौट गया। सबसे तल्ख़ और तीखी पहली ही प्रतिक्रिया तो मुझे मेरी पत्नी से सुनने को मिली, बोली- अबकी बार क्या गुल ...

    छुट-पुट अफसाने - 33
    by Veena Vij

    एपिसोड---33 ‌ कभी - कभी कोई घटना या हादसा ऐसा घटा होता है, जिसका जीवन में महत्व न होते हुए भी वो हमारे स्मृति पटल पर अटका रहता है। ...

    चूँ चूँ का मुरब्बा - 1
    by S Sinha

       भाग 1    इस  कहानी में पढ़िए - धनी परिवार की लड़की रूबी ने गरीब परिवार के लड़के रोमित को प्रोत्साहित कर उसे उसकी मंजिल तक कैसे पहुंचाया  ...

    चाहत - 7
    by sajal singh

    पार्ट -7  सलिल के अंदर जाने के कुछ समय बाद मैं भी अंदर चली गयी। सब लोग आपस में बात्तें कर रहे हैं। शिव भैया और प्राची साथ बैठे ...

    कैसा ये इश्क़ है.... - (भाग 51)
    by Apoorva Singh

    चित्रा को शान की बांहो में देख अर्पिता कहती है थैंक गॉड शान ने बचा लिया और वो त्रिशा को गोद में ले नीचे चली आती है।चित्रा आप ठीक ...

    साजिश - 5
    by padma sharma

    साजिश 5     चौथे-पाँचवें मकान का पता करने पर ज्ञात हुआ कि उसमें डेविड अंकल रहते हैं। ये फोटो भी धुलवा कर ले आए। उन्होंने पार्टी वाली डेविड ...

    वो अनकही बातें - भाग - 5
    by RACHNA ROY

     फिर एक घंटे बाद शालू दादर उतर कर अपने मेन ब्रांच पहुंच गई।नायरा बोली ओह माई गॉड अति सुन्दर। शालू बोली धन्यवाद आपका। फिर दोनों हंसने लगी। फिर मिटिग शुरू हो गया।मिटिग ...

    हारा हुआ आदमी (भाग 28)
    by किशनलाल शर्मा

    "तुम्हारा बाहर जाना मुझे अच्छा नही लगता"निशा रोते हुए बोली।"क्यों?देवेन प्यार से निशा के गाल थपथपाते हुए बोला।"अकेले मेरा मन नही लगता।बोर हो जाती हूं।अकेली"।"तो यह बात है।डार्लिंग मेरी ...

    बैंगन - 29
    by Prabodh Kumar Govil

    अगले ही दिन दोनों बातें बिल्कुल साफ हो गईं। एक तो मुझे ये पता चल गया कि भाई ने सचमुच तन्मय को न तो पहचाना है और न ही ...

    छुट-पुट अफसाने - 32
    by Veena Vij

    एपिसोड---32 घटनाओं के निरंतर घटने से ही जीवन में गतिशीलता होती है और यही घटनाएं यादों में जब अपना बसेरा ढूंढने लगती हैं तो ठौर मिलते ही अपना कुनबा ...