Free Best trending stories in gujarati, hindi, marathi and english language

    THE GOLDEN WATCH
    by Yashvardhan

    THE GOLDEN WATCH   :- YashVardhan               कबीर सूरत स्टेशन से रेलगाड़ी मे चढ़ता है और अपनी सीट पे जाके बैठ जाता है । उसके ...

    ज्ञान की सरिता
    by BHARGAV HINDI JUDWAAN
    • 119

                    ज्ञान की सरिता      हर रोज की तरह आज भी सर्दी भरी रात गुजर गई सुबह के छ: बज चुके थे l अभी भी बाहर दरवाजे पर शीत लहर का प्रकोप ...

    अह्सास
    by BHARGAV HINDI JUDWAAN
    • 267

                                   अह्सास हरि से मिलने से पूर्व आत्मिक सुख क्या होता है ये दिवंगत पिता से मैंने पाया था पर किसी को याद करके खुश होने का अह्सास हरि ने ...

    सर्वे भवन्तु सुखिनः
    by Rajesh Maheshwari Verified icon
    • 49

                        सर्वे भवन्तु सुखिनः   डा. फादर वलन अरासू सेंट अलायसिस महाविद्यालय में प्राचार्य के रूप में कार्यरत है। उन्होंने मसीही दर्शन के साथ ही भारतीय सनातन दर्शन का ...

    फोन
    by महेश रौतेला
    • 130

    फोन:( पर्यावरण और हम) नैनीताल से एक फोन आया। मैं पासपोर्ट सेवा केन्द्र,  अहमदाबाद में था।अतः फोन मूक मोड में था और मुझे पता नहीं चला। रास्ते में देखा तो ...

    महत्वाकांक्षा - 4 - अंतिम भाग
    by Shashi Ranjan
    • 88

    महत्वाकांक्षा टी शशिरंजन (4) तभी प्रियंका ने अचानक अपने चेहरे का भाव बदलते हुए कहा - जिंदगी के मजे ऐसे नहीं होते हैं पंकज बाबू । इसके लिए पैसों ...

    एक थी अनु
    by Chaya Agarwal
    • (25)
    • 969

     कहानी ----एक थी अनु अनुप्रिया ने मोबाइल उठा कर आदित्य का नम्बर डायल किया है। घण्टी जा रही है। पर फोन नही उठ रहा है। इसका मतलब या तो ...

    चरित्र का चरित्रचित्रण
    by Shakuntala Sinha
    • 28

                                       आलेख - चरित्र का चरित्रचित्रण    किसी भी शब्दकोष में चरित्र के अनेकों अर्थ मिलेंगे -   विशेषता , स्वरूप , अक्षर , पात्र , कीर्ति , ख्याति ,लक्षण, ...

    मिखाइल: एक रहस्य - 6
    by Hussain Chauhan
    • 32

    १९५७ का साल केरल राज्य के लिए एक ऐतेहासिक साल था, क्योकि कम्युनिस्ट पार्टी के नेता इलमकुलम मनक्कल शंकरन नंबूदरीपाद भारत के प्रथम बिन कोंग्रेसी नेता केरल के मुख्यमंत्री ...

    आघात - 2
    by Dr kavita Tyagi Verified icon
    • 21

    आघात डॉ. कविता त्यागी 2 एक क्षण तक पूजा सोच ही रही थी कि रणवीर को उसकी बात का वह क्या उत्तर दे, रणवीर तब तक बस से उतर ...

    तुम लोग
    by PANKAJ SUBEER
    • 35

    तुम लोग कहानी पंकज सुबीर ‘‘लाहौल विला कुव्वत, पंडत तुमसे तो कोई बात भी करना फ़िज़ूल है। एसा लगता है मानो ज़माने भर के सारे पत्थर तुम्हारी अकल पर ...

    कशिश - 6
    by Seema Saxena Verified icon
    • 81

    कशिश सीमा असीम (6) सुबह ही राघव से बात हुई थी मन पूरे दिन बड़ा खुश रहा था ! शाम को फिर उसका फोन आ गया ! कैसे हो ...

    फिर सुनना मुझे
    by Dr Narendra Shukl
    • 115

    अमन बिक रहे हैं अमन बिक रहे हैं , चमन बिक रहे हैं । लाशों से लेकर कपन बिक रहे हैं ।। म्ंत्रियों को देखा है खुले आम बिकते ...

    फिल्म रिव्यू ‘भूत- पार्ट वनः द हॉन्टेड शिप’- बॉक्सऑफिस पे ये शिप तैरेगी या डूब जाएगी..?
    by Mayur Patel Verified icon
    • (21)
    • 384

    दुनिया के किसी भी देश में होरर जोनर को ज्यादा उत्त्म दरज्जा कभी माना नहीं गया, फिर चाहे वो फिल्में हो या किताबें. इस जोनर के सिनेमा एवं साहित्य ...

    काठ का उल्लू
    by Vinita Shukla
    • 29

    गनेसीलाल एकटक, बैठक में रखी, उलूक- प्रतिमा को देख रहे हैं. उनका बड़ा बेटा मोहित, इसे किसी मेले से ले आया था. कहता था- “पिताजी क्या नक्काशी है...दूर से ...

    नॉमिनी - 3 - अंतिम भाग
    by Madhu Arora
    • 47

    नॉमिनी मधु अरोड़ा (3) आखि़र रविवार भी आ ही गया और इसी दिन का इंतज़ार था सपना को। रवि ने कहा, ‘आज हम पिक्‍चर देखने जायेंगे। तुम्‍हें हॉल में पिक्‍चर ...

    योगिनी - 7
    by Mahesh Dewedy
    • 27

    योगिनी 7 योगी के अकारण रुष्ट रहने के कारण मीता कुछ समय से अवसादग्रस्त सी रहने लगी थी- महिलाओं के पुरुषों द्वारा दबाये जाने की बात ने उसकी हृत्त्ंात्री ...

    ऑखें
    by किशनलाल शर्मा
    • 168

    सुनंदा डॉक्टर थी।आईं सर्जन यानि ऑखों की डाक्टर।नेत्र विशेषज्ञ।वह एक सामाजिक संस्था सेभी जुड़ी हुई थी।उसका काम था नेत्रदान केलिए लोगो को प्रेरित करना।नेत्रदान करने वाले व्यक्ति की म्रुत्यु ...

    दिल की ज़मीन पर ठुकी कीलें - 27 - अंतिम भाग
    by Pranava Bharti
    • 54

    दिल की ज़मीन पर ठुकी कीलें (लघु कथा-संग्रह ) 27-बड़ी मम्मी बच्चों की बड़ी मम्मी यानि नानी माँ | कॉलेज में संस्कृत की लेक्चरर थीं | अवकाश प्राप्ति के बाद ...

    देस बिराना - 24
    by Suraj Prakash Verified icon
    • 73

    देस बिराना किस्त चौबीस हाई स्कूल कर लेने के बाद एक बार फिर मेरे सामने रहने-खाने और आगे पढ़ने की समस्या आ खड़ी हुई थी। यहां सिर्फ दसवीं तक ...

    राय साहब की चौथी बेटी - 8
    by Prabodh Kumar Govil
    • 113

    राय साहब की चौथी बेटी प्रबोध कुमार गोविल 8 इस तरह आनन- फानन में हुई शादी ने घर में सबको असमंजस में डाल दिया। अम्मा ने तो इस शादी ...

    अधूरी हवस - 23
    by Balak lakhani Verified icon
    • (32)
    • 486

    अचानक से दो साल गुजर जाने के बाद मिताली का कोल आता है राज के ऊपर. मिताली :हैलो, केसे हो? (आवाज सुन कर चौक जाता है, वोह तुरंत पहचान ...

    कौन दिलों की जाने! - 21
    by Lajpat Rai Garg Verified icon
    • 82

    कौन दिलों की जाने! इक्कीस अगले दिन सुबह जब रानी डाईनग टेबल पर नाश्ता कर रहे रमेश को दूसरा पराँठा परोसने लगी तो रमेश की दृष्टि रानी की अँगुली ...

    सत्या - 26
    by KAMAL KANT LAL
    • 114

    सत्या 26 सत्या को बस्ती में आए करीब डेढ़ साल होने को आया. मीरा ने दसवीं की परीक्षा लिखी. पहले दिन बहुत घबराई हुई थी. हाथ से पसीने छूट ...

    मन्नत टेलर्स
    by राजीव तनेजा
    • 154

    किसी कहानी में अगर आपको बढ़िया कथानक, रोचक संवाद, धाराप्रवाह लेखनशैली, अपने आसपास के दिखते माहौल में रचे बसे विषय तथा खुद में रमे हरफनमौला टाइप के किरदार मिल ...

    गली हसनपुरा
    by राजीव तनेजा
    • 27

    यूँ तो रजनी मोरवाल जी का साहित्य के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम है और  मेरा भी उनसे परिचय फेसबुक के ज़रिए काफी समय से है लेकिन अब से ...

    मैनेजर साहब - 1
    by The Real Ghost
    • 255

    रीना पिछली रात काफी देर तक बिजी रही इसीलिए सुबह उठने में थोड़ी देर हो गयी जिसके कारण आफिस के लिए तयार होने में भी कुछ देरी हो गयीहालांकि ...

    निश्छल आत्मा की प्रेम-पिपासा... - 14
    by Anandvardhan Ojha
    • 62

    इज़हारे ग़म उसे आता न था...सिर्फ़ चालीस दुकान की आत्मा ने ही नहीं, अनेक आत्माओं ने मुझसे कहा था कि वे अपना नाम भूल चुकी हैं। ऐसी आत्माएं अपनी ...

    तृष्णा
    by Er Bhargav Joshi બેનામ
    • (18)
    • 157

    मेरे हर वजूद को उसने बेरहमी से तोड़ा है,ताउम्र जिसको मैंने बड़े ही प्यार से जोड़ा है।******* ****** ******* ******** *******इश्क हो रहा है उनसे  क्या किया जाए ???रोकें ...

    PSYCHO KILLERS - 2
    by Urvil Gor Verified icon
    • 142

    पिछले पार्ट में देखा कि मार्क फाइल लेकर घर पहुंचा और उसी समय उसके घर में गोलियों कि बारिश हुई।मार्क बार बार बचा और तुरंत पाशा को कॉल किया।अब ...