ek nadani by Yk Pandya in English Classic Stories PDF

एक नादानी

by Yk Pandya in English Classic Stories

6बजेकाअलार्मबजतेहीरुचिउठगयीऔरद्रोईंगरूममेंआकरखिड़कीकेपर्देहटाकरखिड़कीखोलदी,ठंडीहवाकाजोंकापूरेरूममेंफेलगया,रुचिकामनकराकीवहीऔरथोड़ीदेरखड़ीरहेऔरसुबहकामज़ालेपरकहाँ??वोसोचनेलगी,अभीमयूरउठेउसेपहेलेसुबहकानास्ताऔरउनकाटिफ़िनदोनोबनानाथा.शादीके2सालबीतगएथेरुचिकीलाइफ़मानोएकसमानदोडरहीथी,वहीरफ़्तारसे,सबकूछजेसेकोईटाइमटेबलकेहिसाबसेचलरहाथा,वहीसुबहकाउठनानास्ता,टिफ़िनबनाना,फिरघरसम्भालनाफिरवहीशामकोमयूरकेआनेकेटाइमचाईबनानाफिरखानाबसयहीचलरहाथा.रुचिकेदिनबसयूँहीकटरहेथे,छुट्टीवालेदिनवोमयूरकोकहेतीचलोकहीचलतेहे,तोमयूरउसेकभीमनानहींकरता,दोनोबहारजातेज़रूरीघरकासमानलेतेऔरहोटेलमेंखानाखातेऔरवापसआजातेबस,बहारजानेकाजेसेएकरूटीनकरलियाथा.परथोड़ेसमयसेरुचिबेचेनरहनेलगीथीउसेयेटाइमटेबलवालीलाइफ़नहींपसंदआरहीथीहालाँकिउसेकोईदुःखनहींथा,मयूरउसकीहरइछ्छाकोअपनीसमजकरपूराकरता,कभीकिसीभीबातपरवोबहसनहींकरताथा,रुचिकेघरवालेभीरुचिकोकहाकरतेकीतुजेतोराममिलाहेराम,बड़ीनसीबवालीहे,रुचिकोभीकोईशिकायतनहींथीमयूरसे.मयूरबहुतहीसीधासादाइंसानथा,मल्टीनेशनलकंपनीमेंअच्छीख़ासीबड़ीपोस्टपरथा.मयूरग्लेमरससेकोसोंदूरथाउसेसीधेसादेकपड़ेहीपसंदआते,उसेदिखवाबिलकुलनहींपसंदथा,ज़्यादाबोलना,घूमना,पार्टीमेंजानायेसबसेदूरहीभागतारुचिकेलिएकईबारकरलेतापरयेसबउसकेस्वभावमेंहीनहींथा.रुचिउसेबिलकुलअलगथीउसेपार्टीमेंजाना,घूमना,नाचनागाना,अच्छाड्रेसअपकरनायेउसेबहुतपसंदथा,वोउड़नाचाहतीथीलाइफ़केहरमज़ेखुलकेलेनाचाहतीथी,ढेरोंबातेकरनापसंदथाउसे,जोलाइफ़अभीवोजीरहीथीउसेबिलकुलअलगहीलाइफ़कीकामनाकीथीरुचिनेउसेलगताथाकहीपरगलतीकरलीहेक्यावापसजाकरउसेसुधाराजासकताहे?यहीबारबारसोचती रहेतीवो?बचपनसेहीवोबड़ीतेजरहीथीचाहेवोखेलकूदहोयापढ़ाईहो,हरबातपरआगेरहेती,घरमेंकिसिकीमजालनहींथीउसेकोईबातमेंजीते,जबकोईइसेकहताकीरुचिज़रासंभलजाथोड़ाकमबोलाकर,ससुरालमेंयेसबनहींचलतातबरुचिउसेफ़टाकसेजवाबदेती,मेंऐसाससुरालपसंदकरूँगीकीसबमेरेहीमर्ज़ीसेचले.जबघरमेंरुचिकीशादीकीबातचलपड़ीतबएकसेएकबढ़कररिस्तेआए,रुचिउनसभीकोनाकरतीगयी,फिरबड़ीमहेनतसेदादीऔरपापाकेसमजानेपरवोराज़ीहोगयीदादीकीपसंदगीवालेलड़केकोदेखनेकेलिए,उसवक्तउसेदूसराभीरिश्ताआयाथा,लड़काबड़ाखूबसूरतथा,अच्छाकमाताथाउसकीतस्वीरसेलगताथाकीवोबिलकुलरुचिज़ेसाहेउसकेकपड़ेपहननेकातरीक़ा,उसकीहेरस्टएलसबरुचिकोभागयीथीपरजानेक्यूँदादीउसेअपनीपसंदकेलड़केपरहीज़ोरदेतीथी,जबकिवोतस्वीरमेंहीबिलकुलगोंचूसादिखताथा,दादीऔररुचिमेंबहससीछिड़गयीथीआख़िरकारलंबीबहसऔरजानेमानेख़ानदानकाहवालादियागयाफिरक्या?रुचिकोअपनीपसंदगीमयूरपरउतारनीपड़ीथी.इसबीचउसनेअपनेसबसेअच्छेफ़्रेंडकीरायलीथीजिसेवोबचपनसेहीसबकूछबतातीआयीथी,उसेवोघंटोबातेकरतीथीअपनीकोईभीबातहोकुछभीकरनाहोवोउसेपूछेबिनानहींकरतीथी.रुचिअपनेहाथमेंदोनोलड़कोंकीतस्वीरलेकरसीधेअपनेउसफ़्रेंडकेपासगयी,कृष्णकीमूर्तिकेसामनेरखकरबोली,क्योंरीकृष्णयूकबतकमुस्करातारेहेगाचलबताकोनअच्छाहेमेरेलि? देख में अपनी आँखे बंद करके तस्वीर उठती हूँ तू ही बताना वो कोन होगा,अपनीआँखेबंदकरकेउसनेएकतस्वीरउठालीजोमयूरकीथी, रुचि यही करती हमेंशा उसे कुछ पूछना हो या राय लेनी हो तो वो कृष्ण के सामने रखती फिर आँखे बंद करके ...Read More