Never Forget - 2 books and stories free download online pdf in Hindi

Never Forget - 2

मोहसिन सुहाना के बाल पकड़ कर उसे खींच रहा था तभी अचानक मोहसिन के गालो पर एक ज़ोरदार किक पडती हैं.मोहसिन इतनी दूर जा गिरता हैं. की मुन्ना और मोहसिन टकरा कर बाइक के साथ निचे गिर जाते हैं. मोहसिन : अबे साले तू कौन हैं यहाँ पर तेरा कोई काम नहीं हैं निकल यहाँ से. ( ऐसा बोलकर वह जाकर उसे धक्का देता हैं लेकिन उसे फिर से एक किक मार देता हैं. इस बार उसेने उसके प्राइवेट पार्ट पर किक मारी थी. मोहसिन दर्द के मारे निचे गिड़गिड़ाने लगता हैं.)

तभी मुन्ना आकर उसे मरने की कोशिश करता हैं लेकिन उसका हाल भी मोहसिन जैसा ही हो जाता हैं.वह उन दोनों को इतना मरता हैं की उन दोनों का हाल बेहाल हो जाता हैं.वह उन लोगों का ऐसा हाल करता हैं की अब कभी वो लोग किसी लड़की को परेशान नहीं करेंगे.दोनों वहां से बाइक लेकर भाग जाते हैं.

सुहाना : रुको तुम अब आगे की स्टोरी मैं बताती हूं.

निशा : ओके ठीक है चलो आगे की स्टोरी तुम बताओ.

डोली : अरे आगे बोलो ना फिर क्या हुआ. (डोली और बाकी सब को स्टोरी सुनने में मजा आ रहा था वह लोग आगे सुनना चाहते थे.

सुहाना : जब उसने मोहसिन को पहली किक मारी थी तब वो मेरे सामने ही था.वोह ब्राउन आईज हाये मे तो वही घायल हो गयी.लेकिन अफ़सोस मे उसका चेहरा नहीं देख पायी उसने ब्लैक Huddy और डेनिम जीन्स पहला था. उसकी बॉडी उफ़..जिम मे कसे हुए उसके मसल्स.वह जैसे किसी मूवी का हीरो हो.फाइट के दौरान मे बस उसे ही देखे जा रही थी ऐसा लग रहा था जाने वोह कोई क्लासिकल फाइटर हो.मे बस एक बार उसका चेहरा देखना चाहती थी.लेकिन उसने तो अपने मुँह पे रुमाल बांध रखा था और Huddy की टोपी भी पेहेन रखी थी. मे उसकी आंखे ही देख पायी.

राहुल : तो क्या तुमने उसके चेहरे को देखे बिना ही पसंद कर लिया.

सुहाना : (मुस्कुराते हुए कहती हैं.) हा

पवन : ऐसा कैसे हो सकता हैं किसी को देखे बिना कैसे पसंद कर सकती हो.

सुहाना : हा मे जानती हूँ लेकिन मेने उसे चेहरे से पसंद नहीं किया जिस तरहा से उसने मेरी मदद की मेने तभी जान लिया की सच मे इसका दिल बोहोत ही ज़्यादा खूबसूरत हैं.पता हैं जब वह लोग मुझे परेशान कर रहे थे. तब वहां से कितने सारे लोग आ जा रहे थे. लेकिन उनमेसे एक ने भी मेरी मदद नहीं की चाहता तो वह भी वहां से जा सकता था लेकिन उसने ऐसा नहीं किया.

मनन : वो सब तो ठीक हैं लेकिन तुम दोनों ऑटो या फिर कैब बुक करके भी जा सकती थी. तुम्हे चल कर जाने की क्या ज़रूरत थी.

निशा : वह मोहसिन बोहत दिनों से हमारा पीछा कर रहा था इसी लिए हमने सोचा की आज बस से चले जाये तो हमने रास्ता बदल दिया उस दिन जिया बाइक ले कर भी नहीं आयी थी.बस स्टैंड जाने के लिए हमें शॉपिंग सेंटर से 1km जितना चल कर जाना था.उसी दौरान पता नहीं उसे कैसे पता चला की हम आज बस से जा रहे हैं.

मनन : अच्छा तो यह बात हे लगता हे उसने तुम लोगों के पीछे कोई आदमी छोड़ रखा था जासूसी के लिए.

निशा : हा शायद

पवन : फिर आगे बताओ सुहाना आगे क्या हुआ.

सुहाना : मे उससे बात करना चाहती थी और थैंक्स भी कहना चाहती थी लेकिन मे उसके पास जाऊ उससे पहले ही वह अपनी बाइक लेकर वहां से जा चूका था.मे उसे जाते हुए देख रही थी.बस उसे ही देखे जा रही थी ब्लेक बुलेट पर वह बोहोत ही ज़्यादा डेसिंग लग रहा था. ऐसा लग रहा था मानो वोह स्लो मोशन मे जा रहा हो. ( और फिर सोच कर हस्ती हे )पागल हूँ मे.

पवन : wait wait तो क्या तुमने उसे नहीं देखा?

डोली : यार तुम सब बस थोड़ी देर के लिए चुप हो जाओ.(अपने सिर को खुजाते हुए.) मुझे तुम ये बतावो की इन सब के बिच मे विहान कहा से आया.

निशा : अरे पागल तुम पहले उसकी पूरी स्टोरी तो सुनो.

डोली : ओके ओके कंटिन्यू.....

निशा : घर पहुंच ने के बाद भी मे बस उसी के बारे मे सोचे जा रही थी.मे बस एक बार उससे मिलना चाहती थी.मे उन दिनों बोहोत ही ज़्यादा परेशान थी नाही मेरे पास उसका नंबर था ना मेने उसका चेहरा देखा था.सिर्फ उसकी ब्लैक कलर की बुलेट देखि थी बाइक के पीछे गोल्डन कलर का टाइगर का सिम्बोल था मुझे बस इतना ही पता था. केलिन इस मुंबई सिटी मे किसी को ढूँढना कोई आम बात नही हे.
यार उसकी बॉडी इतनी अट्रैक्टिव थी की क्या बताऊ.मे तो उसपे फ़िदा हो गयी.थोड़े दिन बीत ने के बाद मेने उसके बारे मे सोचना बंध कर दिया था.लेकिन फिर भी जब भी कोई लड़का मेरे सामने से ब्लैक बुलेट ले कर गुज़रता था तो मे फिर एक बार उसकी सोच मे पड़ जाती थी.एक मार मुड़के बाइक के पीछे देख लेती थी यह चेक करने के लिए की ये वोही बाइक तो नहीं है ना. 1 वीक के बाद जब college मे फ्रेशर्स पार्टी थी पता हे ना उसी दिन हम सब लोग फ्रेंड्स बने थे.

मनन : हा मुझे याद हे. मेने उसी दिन तुम्हे और निशा को देखा था.

निशा : हा (सब लोग हा मे हा मिलाते हे )

सुहाना : हा तो उस दिन मुझे थोड़ा काम था इसी लिए मे जल्दी college आ गयी थी. और निशा का पार्किंग मे wait कर रही थी.तभी मेरे पिछेसे कोई हॉर्न बजा रहा था और मुझे पार्किंग के लिए जगे देने के लिए कह रहा था. मेने बिना मूड़े उसे जगा दे दी.पता नहीं ये लड़की कहा रेह गयी. खड़े रेह कर मेरे पाऊ भी दर्द करने लगे हे. ( ऐसा कह कर वह बाइक पर जा कर बैठ जाती हे )

वह जिस बाइक पर बैठी थी वो वही बाइक थी जो अभी थोड़ी देर पहले एक लड़का पार्क करके गया था.वो भी ब्लैक बुलेट ही थी.(उसने सोच की एक बार ये बाइक चेक करू या नहीं लेकिन उसे हर बार निराशा ही हाथ लगती थी इसी लिए वो हीच किचा रही थी.लेकिन फिर उसने सोचा की चलो इसे भी देख ही लेती हूँ. ) ऐसा कह कर बाइक देखने के लिए पीछे गई.

बाइक को देख कर उसके होश उड़ गए.ये वही बाइक थी जो उसे दिन उस लड़के के पास थी.

वो बस बाइक को देखे जा रही थी. उसका मुँह खुला का खुला ही रेह गया था.तभी उसी वक्त निशा वहां पर आ पहुंचती हे.

निशा : hey सुहाना sorry हा वोह आज उस ऑटो वाले ने सॉर्टकट लेने के लिए मुझे ट्रैफिक मे फसा दिया था.

सुहाना का ध्यान बाइक पर था वोह निशा की बात नहीं सुन रही थी. निशा सुहाना को देखती हे और उसका ध्यान कही और देख कर वो वहां पर देखती हे.

निशा : सुहाना ये तो वही बाइक हे ना जो उस दिन थी.

सुहाना : हा ये वही बाइक हे.

निशा : इसका मतलब ये लड़का हमारी collage मे ही पढता हे.

सुहाना : ( खुश होते हुए ) हा बिलकुल वोह अभी यहाँ से गया.

निशा तो क्या तुमने उसे देखा ?

सुहाना : हा लेकिन (हस कर ) इस बार भी पीछे से ही.

निशा : कोई बात नहीं इस बार हम उसे धुंध लेंगे.

सुहाना : (खुश होते हुए ) मुझे पता है उसने आज क्या पहना है. वह अभी अभी गया यहाँ से.उसने आज ब्लैक जीन्स और वाइट टीशर्ट पेहनी है.

निशा : ठीक है तो फिर चलो उसे ढूंढते है.
सुहाना : हा चलो वह पार्टी में ही होगा

निशा : चलो जल्दी (और वो दोनों पार्टी वाले होल की और जाती है )

अंडर जाते ही वह पर लाउड म्यूजिक बज रहा था सभी मौज में गुल हो गए थे.हर कोई पार्टी करने में मसगुल था.

सुहाना अंडर बस उस लड़के को ही ढूंढ रही थी. अचानक से उसकी नज़र स्टेज पर जाती है वह लड़का अपने हाथ मई गिटार लेके बैठा हुआ था.

सुहाना ने आज उसे पहली बार देखा था.
सुहाना : वो रहा
निशा : कहा है किस तरफ
सुहाना : वो जो स्टेज पर गिटार लेके बैठा है.

निशा : सुहाना ये तो बोहोत ही ज़्यादा हैंडसम है यार

सुहाना बस मन ही मन मुस्कुरा रही थी. वह बस उसे देखे जा रही थी. ब्लैक knee कट जीन्स वाइट लॉन्ग स्लीव टीशर्ट मे वह डेसिंग लग रहा था. वह पार्टी मे सोंग प्रेजेंट करने वाला था. पार्टी मैं लाउड म्यूजिक बंध हो जाता है और स्लो म्यूजिक चालू होता है.

फिर कही दिल ने मेहसूस किया था
एक दफा फिर से ज़िन्दा ये हुआ था
नज़र जो आया तो,तो जीना आया
नज़र से फिर क्यू तू गुम हो गया पल में ही .........

(Arijit Singh का फेमस सोंग तेरा इंतज़ार है वह प्रेजेंट कर रहा था.)

हा तेरा इंतज़ार है कहा करार है
तेरी आश ही दिल को हा बेसुमार है
बया करू कैसे तेरा इंतज़ार है....
तेरा इंतज़ार है....
हा तेरा इंतज़ार है.....

सुहाना बस आंखे बंध करके उसकी आवाज़ सुन रही थी. मानो ऐसा लग रहा था की arijit खुद स्टेज पर पर्फोमे कर रहे है. पर्फोमन्स ख़तम होने के बाद पूरा होल तालियों से गूंज उठा.थोड़ी देर मै फिर से लाउड म्यूजिक चालू हो गया.वह स्टेज से उतर कर बहार की और जा रहा था. में बस उसे एक बार बात करके थैंक यू कहना चाहती थी इसी लिए में उसके पीछे पीछे गए.

आगे की स्टोरी जानने के लिए बने रहे मेरे साथ Matrubharti पर.