Modi: Towards Success Through Struggles - 5 books and stories free download online pdf in Hindi

मोदी: संघर्ष से सफलता की ओर - अध्याय 5


1980 के दशक में मुख्यधारा की राजनीति में नरेंद्र मोदी का प्रवेश उनकी यात्रा में एक महत्वपूर्ण क्षण था, जिसने उन्हें संगठनात्मक भूमिकाओं की सीमा से राजनीतिक क्षेत्र में सबसे आगे तक पहुंचा दिया। यह अध्याय उनके शुरुआती राजनीतिक करियर के जटिल विवरणों पर प्रकाश डालता है, उन घटनाओं और विकल्पों की खोज करता है जिन्होंने उस व्यक्ति को आकार दिया जो बाद में भारत का प्रधान मंत्री बना।

भारतीय राजनीति की भूलभुलैया में, मोदी ने अपना प्रारंभिक पैर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के भीतर पाया। इस राष्ट्रवादी संगठन के साथ उनके शुरुआती जुड़ाव ने उनमें अनुशासन और बड़े उद्देश्य के प्रति प्रतिबद्धता की भावना पैदा की। जमीनी स्तर के काम और वैचारिक आधार ने उनके भविष्य के प्रयासों की नींव रखी।

1980 के दशक का राजनीतिक परिदृश्य वैचारिक बहसों और आदर्श परिवर्तनों से भरा हुआ था। यह इस पृष्ठभूमि में था कि मोदी ने आरएसएस से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में परिवर्तन करके एक निर्णायक कदम उठाया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ी भाजपा ने मोदी को अपनी ऊर्जा और प्रतिबद्धता को मुख्यधारा की राजनीति में लाने के लिए एक मंच प्रदान किया।

भाजपा में शामिल होना मोदी के लिए सिर्फ करियर का कदम नहीं था; यह सिद्धांतों और विचारधाराओं के एक समूह के प्रति प्रतिबद्धता थी जो भारत के लिए उनके दृष्टिकोण से मेल खाती थी। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और हिंदुत्व पर पार्टी का जोर एक मजबूत, सांस्कृतिक रूप से जड़ वाले भारत में मोदी के विश्वास के अनुरूप है। यह संरेखण वह भट्टी थी जिसमें मोदी की राजनीतिक पहचान बनी थी।

एक बार भाजपा के खेमे में आने के बाद, मोदी का उत्थान तेज लेकिन व्यवस्थित था। पार्टी के भीतर विभिन्न पदों पर रहते हुए उनकी संगठनात्मक कुशलता स्पष्ट हो गई। जमीनी स्तर से शुरुआत करते हुए, उन्होंने अथक परिश्रम किया और पार्टी सहयोगियों और नेताओं से समान रूप से सम्मान अर्जित किया। विविध पृष्ठभूमि के लोगों से जुड़ने की उनकी क्षमता ने उन्हें ऐसे राजनीतिक परिदृश्य में अलग कर दिया, जो करिश्मा और सापेक्षता की मांग करता था।

मोदी की यात्रा चुनौतियों से रहित नहीं थी। राजनीतिक क्षेत्र अक्सर सत्ता संघर्ष और आंतरिक गतिशीलता से भरा होता है, और मोदी के पास कठिन संघर्षों का हिस्सा था। हालाँकि, उनके लचीलेपन और दृढ़ संकल्प ने उन्हें अलग कर दिया। चुनौतियों के सामने झुकने के बजाय, उन्होंने उन्हें राजनीतिक पदानुक्रम में ऊपर चढ़ने के लिए सीढ़ी के रूप में इस्तेमाल किया।

1980 और 1990 के दशक की शुरुआत भारतीय राजनीति में उथल-पुथल भरी अवधि थी, जो बदलते गठबंधनों और उभरते सामाजिक-आर्थिक मुद्दों से चिह्नित थी। मोदी ने देश की नब्ज पर उंगली रखते हुए समय की गतिशीलता को अपनाया। भाजपा के भीतर उनकी संगठनात्मक भूमिकाओं ने उन्हें उभरते राजनीतिक परिदृश्य के अनुरूप पार्टी की रणनीतियों में योगदान करने की अनुमति दी।

मोदी के शुरुआती राजनीतिक करियर का एक प्रमुख पहलू जमीनी स्तर की राजनीति पर उनका जोर था। वह समझते थे कि वास्तविक परिवर्तन स्थानीय स्तर पर शुरू होता है, और उनके प्रयास विभिन्न क्षेत्रों में पार्टी की उपस्थिति को मजबूत करने की दिशा में थे। इस जमीनी कार्य ने भाजपा के पारंपरिक गढ़ों से परे विस्तार की नींव रखी।

जैसे-जैसे मोदी संगठनात्मक सीढ़ी चढ़ते गए, उनकी नेतृत्व शैली निखरने लगी। अपने व्यावहारिक दृष्टिकोण और विस्तार के प्रति रुचि के लिए जाने जाने वाले, वह एक ऐसे नेता थे जो उदाहरण के साथ नेतृत्व करते थे। इस दृष्टिकोण ने उन्हें पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों का प्रिय बना दिया, जिससे वफादारी और प्रशंसा की भावना पैदा हुई जो उनकी राजनीतिक यात्रा की पहचान बन गई।

1980 के दशक में भारत में गठबंधन राजनीति का भी उदय हुआ। इन जटिल गठबंधनों को पार करने में मोदी की निपुणता उनकी राजनीतिक चतुराई को दर्शाती है। इसी अवधि के दौरान उन्होंने आम सहमति बनाने के कौशल को निखारा, एक ऐसा गुण जो आने वाले वर्षों में उनके काम आएगा क्योंकि उन्होंने पार्टी के भीतर और बाद में गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में अधिक प्रमुख भूमिकाएँ निभाईं।

अंत में, अध्याय 5 नरेंद्र मोदी के राजनीतिक करियर के प्रारंभिक वर्षों का विवरण देता है। आरएसएस से भाजपा में उनके परिवर्तन ने, उनकी रणनीतिक संगठनात्मक भूमिकाओं के साथ मिलकर, एक ऐसे नेता के लिए आधार तैयार किया जो एक राष्ट्र की नियति को आकार देगा। यह अध्याय मोदी की राजनीतिक गाथा के शुरुआती अध्यायों को उजागर करता है, जो एक ऐसे नेता के निर्माण की झलक प्रदान करता है जो भारत के राजनीतिक परिदृश्य पर एक अमिट छाप छोड़ेगा।