Devil Ceo ki Sweetheart in Hindi Love Stories by सलोनी अग्रवाल books and stories PDF | डेविल सीईओ की स्वीटहार्ट भाग - 1

Featured Books
Categories
Share

डेविल सीईओ की स्वीटहार्ट भाग - 1

बनारस,

सुबह का समय,

रूही का घर,

सुबह सुबह पानी मुंह पर फेंके जाने से रूही की आंख खुली। उस के ऊपर पानी डालने वाली और कोई नही बल्कि उस की सौतेली मां कुसुम थी।

कुसुम चिल्लाते हुए, अपनी सौतेली बेटी रूही से कहती हैं, "चल उठ जा महारानी और घर का सारा काम कौन करेगा....!" वैसे तो ये सब की रूही को आदत सी पढ़ गई थी क्योंकि ये सब तो अब उस की जिंदगी का हिस्सा बन चुका था।

रूही दिखने में जरूर बहुत पतली सी थी पर वो पूरे बनारस में सबसे से ज्यादा खूबसूरत लगती थी, मानो जैसे आसमान से कोई अप्सरा उतर आई हो।

पर ऐसा लगता था जैसे भगवान ने रूही को बहुत ही ज्यादा मासूम बना कर गलती कर दी हो क्योंकि उस की इसी मासुमियत का फ़ायदा उठाया जाता था और उस के साथ बहुत बुरा वर्ताप किया जाता था।

रूही को कोई एक बार देख ले तो अपने होश ही खो सकता है पर रूही के चेहरे और मन की खूबसूरती की चमक उस जिंदगी में दिखाई नही देती थी।

वैसे तो रूही अपनी दुनिया में सबसे ज्यादा प्यार अपने पापा से करती आई है क्योंकि जब बचपन में उस की मां का देहांत हो गया तब से उस के पापा ने ही उस को संभाला पर उस की बुआ के कहने पर उस के पापा ने दूसरी शादी कर ली।

ये सोच कर की उस की बेटी को पापा के साथ एक मां का भी प्यार मिल जायेगा पर कहते है ना कि सगी मां की जगह कोई ओर नही ले सकता है और न ही उस की तरह कोई भी आप को प्यार दे सकता है और सौतेली मां हमेशा सोतेला ही वर्ताप करती हैं।

और वही हमारी रूही के साथ हुआ, जब से रूही के पिता अमर ने दूसरी शादी की है तब से रूही को कभी भी प्यार, अपनापन नही मिला और जो मिला वो था बस मार पिटाई, बेज्जती और जिल्लत उस के सिवा उसे कुछ मिला ही नहीं...l

एक दिन पहले ही,

रूही की सौतेली मां कुसुम के कहने पर, रूही के पिता अमर ने उस को बेहरमी से बेल्टो से पीटा था। रूही ने खुद की हालत देखी तो उस के गालों पर थपड़ के निशान थे और हाथ पैरो पर बेल्ट के मारने के निशान अब तक नीले पढ़ चुके थे।

उस की सौतेली मां, बहन रीना और भाई राजीव तो रूही से नफ़रत ही करते आए हैं क्योंकि रूही की सौतेली मां अपने साथ एक बेटी लेकर आई थी और बेटा, रूही के पिता और सौतेली मां की संतान हैं।

पर आज रूही अपने पिता से भी नफरत कर रही थी क्योंकि उस की सौतेली मां बेहद चालक औरत है और वो रूही के पिता अमर के सामने तो रूही के साथ बहुत अच्छा वर्ताप करती थी।

रीना भी, रूही के पिता के सामने एक बहुत अच्छी बहन होने का दिखावा करती थी। रूही के पिता अमर अपने काम के सिलसिले मे घर से ज्यादातर बाहर ही रहते थे। रूही के पिता अमर दिल्ली के किसी बहुत बड़ी कम्पनी मे काम करते थे।

रूही को हमेशा से यही लगता था कि उस के पापा उस से सब से ज्यादा प्यार करते हैं पर वो भ्रम भी कल रात किसी सपने की तरह टूट के बिखर गया।

रूही के पापा ने उस पर हाथ उठाने से पहले एक बार भी नही सोचा कि उस की सौतेली बहन झुठ बोल रही है और जो लड़का रूही के कमरे से पकड़ा गया वो सच में उस का ब्वॉयफ्रेंड था भी या नही, बस रीना का रोना सुन कर, रूही के पिता ने रूही को मारना शुरू कर दिया।

जब कि वो लड़का रूही का नही बल्कि उस की सौतेली बहन रीना का ब्वॉयफ्रेंड था जो उस रात उस से मिलने के लिए घर आया था और जब रूही के पिता ने सुन उन दोनो को बाते करते सुन लिया तो रीना ने अपने ब्वॉयफ्रेंड को बड़ी चालाकी से रूही के कमरे मे भेज दिया।

और रीना के ब्वॉयफ्रेंड ने भी बड़ी आसानी से रूही से लिपट कर सो गया और हमारी रूही को इस बारे में कुछ पता ही नही था क्योंकि वो तो रोज की तरह घर का सारा काम करके थक हार के गहरी नींद में सो चुकी थीं।


To be continue......