BOYS school WASHROOM - 4 in Hindi Social Stories by Akash Saxena "Ansh" books and stories PDF | BOYS school WASHROOM - 4

BOYS school WASHROOM - 4

घंटी की आवाज़ के साथ ही पेओन अंदर जाता है-'जी सर जी '.... प्रिंसिपल (गुस्से मे) एक पर्ची पेओन के हाथ मे थमा देता है-"जाओ इन सभी बच्चों को अभी की अभी मेरे रूम मे भेजो... लेकिन पहले विहान को भेजना उसके बाद बाकी सब को"... पेओन जल्दी से जाता है और पहले विहान को और फिर बाकी सब को प्रिंसिपल के पास जल्दी से आने को कहता है।.... प्रिंसिपल रूम मे बुलाये जाने की बात से ही हर्षित, राहुल और विशाल के पसीने छूटने लगते है... सब प्रिंसिपल के रूम के बाहर जाकर खड़े हो जाते हैँ लेकिन उन्हें अभी अंदर नहीं जाने दिया जाता.... 'मेने बोला था पंगा मत लो यश से'... -"अरे यार विशाल डर मत कुछ नहीं होगा"..."" हाँ यार, हर्षित सही कह रहा है टेंशन मत ले कुछ नहीं होगा""(तीनो फुसफुसाने लगते हैँ ).... तुम तीनो चुप चाप खड़े रहो सर बहुत गुस्से मे हैँ... आखिर कौन सा काण्ड किया है? तुम तीनो ने... पेओन मज़ाक मे पूछता है... तभी राहुल उसे जवाब देता है"अबे तू अपना काम कर नहीं तो"....यश बस खड़े खड़े सब चुपचाप देखता रहता है .....और तू तू मे मे के बीच प्रिंसिपल रूम मे से विहान बाहर निकलता है।तीनो उसे देख कर टेंशन मे आ जाते है, यश भी थोड़ा सोच मे पड़ जाता है ... अरे विहान तू ठीक तो है ना यहाँ कैसे???... -'हाँ भईया मे को कुछ नहीं हुआ वो सर ने बुलाया था'... "ओह अच्छा चल ठीक है तू अब अपनी क्लास मे जा मे लंच टाइम मे मिलता हूँ तुझसे "..... घंटी फिर बजती है और पेओन कि मुस्कान -'जाओ बेटा अब तुम्हारी बारी'.... पहले यश अंदर जाता है और फिर वो तीनो, अंदर जाकर एक लाइन मे खड़े हो जाते हैँ... गुड मॉर्निंग सर!... "वैरी गुड मॉर्निंग यश"..... गुड... गुड मॉर्निंग सर!(तीनो बोलते हैँ )... -"चुप चाप खड़े रहो तीनो" इतना कह कर प्रिंसिपल अपनी टेबल पर से एक फ़ाइल उठाता है और बिना कुछ बोले एक एक कागज़ तीनो के हाथ मे थमा देता है..'तुम तीनो जा सकते हो'... तीनो कुछ देर तक कागज़ को पढ़ते हैँ तभी अचानक से पहले हर्षित-सर ये क्या है? और फिर विशाल और राहुल -सर ये क्या, क्यूँ?? ... "तुम तीनो का 15 दिन का रेस्टिगेशन ".... -'मेरा मतलब क्यूँ सर?'... 'हाँ सर रेस्टिगेशन क्यूँ हमने क्या किया? '... 'सर कुछ टाइम मे एक्साम्स हैँ सर, सर बताइये तो हमने किया क्या है'(हर्षित, राहुल और विशाल एक एक कर पूछते हैँ )... "क्या हुआ सर इन लोगों को क्यूँ रेस्टीगेट किया जा रहा है। "... कुछ नहीं यश विहान ने मुझे इनकी कुछ शिकायतें बताई है...."क्या हुआ सर इन्होंने विहान के साथ कुछ किया क्या?? इतना सुनते ही तीनो पसीने से तर हो जाते हैँ और गर्दन नीचे कर लेते हैँ।.... -"क्या बात है सर! बताइये ना, मैं यहाँ क्यूँ हूँ? "... यश वो...., , सर! सर! प्लीज सर वी आर सॉरी सर कहते हुए तीनो रोने लगे... 'ये सब तुम्हे पहले सोचना चाहिए था अब जाओ और पंध्रह दिन बाद स्कूल मे आना और उससे पहले आओ तो अपने पेरेंट्स को साथ ले कर आना .....प्लीज सर ऐसा फिर कुछ कभी नहीं होगा सर(विशाल बहुत ज़्यादा रोने लगता है और माफ़ी मांगने लगता है) सर प्लीज एक चांस दे दीजिये....तुमने जो किया उसके लिए मुझे तुम्हे इस स्कूल से हमेशा के लिए निकाल देना चाहिए आखिर हमारे स्कूल कि रेपुटेशन का सवाल है लेकिन एक्जाम्स कि वजह से जाने दे रहा हूँ ....अब जाओ(सब जाने लगते हैँ )" बेटा यश!"... -'जी सर'... तुम ज़रा रुको तुमसे कुछ ज़रूरी बात करनी है।

Rate & Review

Aakanksha

Aakanksha Matrubharti Verified 1 year ago

Rishi

Rishi 1 year ago

Rudra Saxena

Rudra Saxena 1 year ago

Akansha

Akansha 1 year ago

Vasudev

Vasudev 1 year ago