Open door in Hindi Horror Stories by Darshita Babubhai Shah books and stories PDF | खुला दरवाजा

खुला दरवाजा

स्मिता की आवाज सुनकर शीना चौंक गई और तीसरे दिन उसका पति उसे जोर से पुकार रहा था। वह सीधे आवाज की दिशा में भागी। और स्मित पूछने लगी, क्या कोई काम है? क्या हुआ स? उन्होंने नरम और बहुत धीमी आवाज में सवाल पूछा। लेकिन स्मित जमकर गुस्से में थी। शीना ने उसे देखते ही जोर से बोला। आपको शादी से पहले बताया गया था कि जब तुम मेरे घर आओगी, तो उसे जेठ से पर्दा करना होगा। जब जेठ बाहर होगा, तो मैं अपना सिर नहीं ढँकना या अपना घूंघट नहीं लगाना। लेकिन अगर तुम यहां हैं, तो मेरी यही शर्त है। अन्यथा, इसे अभी अपने घर में रख आऊ। शीना मुस्कुराई और वहीं अटक गई। वह अवाक थी। उसे स्मित इतना पुराने विचारो का  उसे नहीं लगा था कि वह अविश्वसनीय था या थोड़ा पागल था। उसने सोचा कि शादी के बाद सब ठीक हो जाएगा। वो बस मुस्कुराइ और कहा कि जेठ की पर्दा करना होगा। लेकिन जब स्मित ने विस्फोट किया तो उसका दिल भी हार गया। क्योंकि ये वही जेठ था जो स्मित के लिए मेरे घर आया था। और शीना के पिता ने वादा किया था कि आपकी बेटी शादी करने के बाद हमारे घर में दुखी नहीं होगी और कोई भी किसी भी तरह से उस पर दबाव नहीं लगाएगा। और जेठ ने शीना के सिर पर हाथ रखा और वादा किया कि आज से शीना मेरी छोटी बहन होगी और मैं जीवनभर के लिए छोटी बहन की तरह उसकी रक्षा करूंगा। वहाँ, शादी के तीसरे दिन स्मित की दो बेटियों, सुधीर और जेठ के व्यवहार से स्मित की माँ और पिता अवाक हो गए। सुधीर की पत्नी शीला। शीला और शीना दो बहनें हैं। शीला के घर के बगल का घर शीना का था। और शीला और सुधीर स्मित का लग्न लेके शीना के घर गए। लेकिन आज जब स्मिता शीना से नाराज हो गई, तो सुधीर का दिल खट्टा हो गया।

सुधीर और स्मित राकेशभाई और स्नेहाबेन के दो बेटे हैं। उनकी कोई बेटी नहीं है। ये दोनों बेटे उसकी छोटी और खुशहाल दुनिया हैं। दोनों भाइयों के बीच पांच साल का अंतर। दोनों के स्वभाव में भी बड़ा अंतर था। माँ और पिताजी दोनों के संचार और व्यवहार में भी अंतर था। सुधीर उम्र में बड़ा था। शांत, समझदार और व्यावहारिक। जबकि स्मित एक छोटा बेटा था, माँ और पिताजी उसे बहुत पसंद करते थे। मेरी माँ दिन भर मुझ पर मुस्कुराती रहती थी। माँ का व्यवहार समझ से बाहर था। बातचीत में सुधीर नीचा दिखाया जाता था। आप शिक्षा में कमजोर हैं, आप कुछ भी नहीं समझते हैं, आप कुछ भी नहीं जानते हैं, बस सुधीर के बारे में उसके पिता से शिकायत करें। राकेशभाई का एक छोटा सा व्यवसाय था। जब वे पूरे दिन काम से थक कर घर आते हैं, तो स्नेहबेन सुधीर की शिकायतों की एक सूची के साथ खड़ी होती हैं, इसलिए  राकेशभाई सुधीर से नाराज हो जाते। सुधीर का दिमाग सुन्न हो गया। लेकिन वह कुछ नहीं कहता। मुझे यह कहने में कोई आपत्ति नहीं है। घर पर माँ की चकचक के कारण बाहर दोस्तों के साथ खेलना। उसमे माँ बुरा नहीं मानती। स्मित को नए कपड़े, नए खिलौने मिलते हैं। हर तीन साल में सुधीर को कपड़े देता है। इस प्रकार, सुधीर के प्रति माँ और पिताजी के व्यवहार के प्रति घृणा देखकर, स्मित का दिमाग खाली हो गया। वह हर चीज में अपनी माँ और पिता की मौन सहमति के कारण स्मित हठी और अभिमानी हो गया। बड़े होकर यह सब बढ़ता गया। शिक्षा में, दोनों भाइयों ने 12 वीं तक की शिक्षा ली। व्यवसाय में पिताजी की मदद भी नहीं कर रहे हैं। सुधीर बचपन से ही मन में बुरे व्यवहार के प्रभाव के कारण दोस्तों के साथ बाहर जाता था। तंबाकू खाएं, सिगरेट पीएं, शराब पिएं। जब स्मित मम्मी का बेटा था, तो उसके पास घर के कामों पर ध्यान देने और टीवी देखने के लिए बैठने का के अलावा कोइ काम नहीं था। राकेशभाई और स्नेहाबेन दोनों अपने बेटे को नौकरी करने के लिए मना लेते थे, लेकिन स्मित अब अपनी माँ और पिता की बात ना मानता था। जबकि सुधीर छोटा बड़ा काम कर रहा था। घर पर उन्होंने खाना पकाने और घर के काम में भी अपनी माँ की मदद की। हालाँकि, स्नेहाबेन का प्यार केवल उनकी स्मित पर ही बरस्ता और मिलता था।

जब सुधीर २१ साल का था, तो स्नेहाबेन ने उसकी खुद के भाइ की लड़की से शादी कर ली। क्योंकि वे अब घर का काम नहीं कर शकती थी। सुधीर की अनिच्छा के बावजूद, उसने उससे शादी की। घर आने पर शीला बहुत समझदार थी। आते ही स्नेहाबहन ने घर की सारी जिम्मेदारी उसे सौंप दी और खुद को आराम दिया। शीला घर का काम कर रही थी। उसे एहसास हो गया था कि सुधीर जब नौकरी मिलती है तो वह काम पर चला जाता है। शेष मित्रों के साथ फिरता रहता था। स्मित सारा दिन घर पर टीवी देखता है। इसलिए मुझे सब कुछ करना होगा। वह शांति से अपनी जिम्मेदारियों को निभाने लगी। समय में, उसने दो बच्चों को जन्म दिया। जुड़वां बेटियों के आने से राकेशभाई खुश थे। लेकिन स्नेहाबेन को एक बेटा चाहिए था। भले ही घर में थोड़ी शांति थी, स्नेहाबेन का ध्यान स्मित पर था इसलिए वह ज्यादा परेशान नहीं हुई। वह ३० साल तक ऐसे ही स्मित कवारा था। पिछले दो साल से वह घर में तूफान मचा रहा था। मेरी शादी करवा दो लेकिन कोई अपनी बेटी नहीं देता क्योंकि वह काम नहीं कर रही था। शीला को कई बार शीना को अपनी बहू बनाने के लिए सोचती। लेकिन स्मित की प्रकृति के कारण, वह घर पर कुछ नहीं कहती है। लेकिन एक दिन स्नेहाबेन ने शीला से कहा, "अपनी बहन शीना के घर जाओ को और सुधीर के साथ वहां ले जाओ, एक स्मित के लिए पूछें।" शीना के पिता का सुधीर में बहुत व्यावहारिक विश्वास था और उन्होंने अपनी प्यारी बेटी की शादी स्मित से की। वे मुस्कान के स्वभाव को नहीं जानते थे।

स्मित का गुस्सा सुनकर सुधीर, राकेशभाई, स्नेहाबेन, शीला भी वहाँ दौड़े। उसके गुस्से का कारण पता चलने पर सुधीर लगभग स्तब्ध रह गया। राकेशभाई कुछ नहीं कह सके। जब स्नेहाबेन ने मुस्कुराते हुए स्मित हुए कहा कि स्मित ये तुम क्या कह रहे हो। शीना को जेठ से पर्दा करना चाहिए। पांच मिनट दूसरे गुजरते क्षण में, चुप्पी छा गई। थोड़ी देर बाद सुधीर गुस्से से बोला “क्या तुम्हें एहसास है कि तुम क्या कर रहे हो?” शीना मेरी छोटी बहन की तरह है। वह मुझे पर्दा नहीं करना चाहती। तुम मुझ पर भरोसा नहीं करते और स्नेहाबेन की और गुस्से से देखा। स्नेहाबेन चुप थीं। राकेशभाई ने भी कहा कि क्या आपके पास कोई चेतना है? । वहां, स्मित ने गुस्से में फिर कहा कि शीना को घूंघट लगाकर घर में रहना होगा। और जब शीना अकेली हो? तब सुधिर को घर के बाहर रहना पडेगा । यह सुनकर सुधीर का सिर घूमने लगा। फिर भी शांत स्वर में वह मुस्कुराने लगा। तुम नहीं जानते कि तु किस बारे में बात कर रहे हैं और आपकी भाभी शादी के बाद 11 साल से इस घर में हैं और तु पूरे दिन घर पर रहते थे। मैंने कभी तुम पर शक नहीं किया। और तु मुझ पर अविश्वास करते हो। मेरी दो बेटियाँ आठ साल की हैं। तु घर पर उनके सामने इस तरह बोलते हैं।

राकेशभाई ने स्मित को मनाने की कोशिश की लेकिन स्मित को एक या दो नहीं हुआ। आज स्नेहाबेन को अपनी गलती का एहसास करने के लिए गलत तरीके से लाड़-प्यार करके अपने स्वभाव, वाणी और व्यवहार को बिगाड़ने में बड़ा योगदान दिया है। बचपन में या उसके बड़े होने के बाद कभी नहीं रोका या टोका। इसलिए आज परिणाम। वे मानसिक रूप से उदास हो गए। राकेशभाई को चक्कर आ गया और उनका बी.पी बढ़ी गई। स्मित के व्यवहार से शीला गूंगी हो गई थी। सुधीर मौन था और अपनी माँ और पिता को परेशान नहीं करना चाहता था और बिना गुस्सा किए घर से बाहर निकलता रहता गया।

सुधीर ने अगली सुबह राकेशभाई और स्नेहाबेन से बात की और कहा कि भले ही शीना मेरा पर्दा करे, और मैं शीना के अकेले रहने अलग घर मे चले जाएगे, इस मामले में कोई झगड़ा नहीं होना चाहिए। हम एक समाज में रहते हैं और जब मेरे पास पैसा होगा, मैं शीला और मेरी दो बेटियों को ले जाऊंगा और अलग रहूंगा। अगर तुम मेरे साथ मेरे घर में रहना चाहते हो, तो आ जाना। मेरे लिए आप के मन के द्वार हमेशा के लिए बंध थे। लेकिन मेरे लिए, मेरी माँ और पिताजी भगवान हैं। आप बंद दरवाजे खोल सकते हैं और मेरे खुले दरवाजे में प्रवेश कर सकते हैं।

*******

Rate & Review

ArUu

ArUu Matrubharti Verified 1 year ago

Kashish

Kashish 1 year ago

Lakshmi

Lakshmi 1 year ago

F.k.khan

F.k.khan 1 year ago

Sara Row

Sara Row 1 year ago