मैं तो ओढ चुनरिया - 13 in Hindi Novel Episodes by Sneh Goswami books and stories Free | मैं तो ओढ चुनरिया - 13

मैं तो ओढ चुनरिया - 13

मैं तो ओढ चुनरिया 

अध्याय - 13 

 

 

सहारनपुर मुसलमानों का शहर । सहारनपुर रिफ्यूजी शरणार्थियों का शहर । शहर के बीचोबीच मुसलमानों के मौहल्ले । और शहर से बाहर शरणार्थियों के कैंप । यहाँ सहारनपुर आकर मेरी दिनचर्या ही बदल गयी । सुबह बङे मामा अपने अखाङे जाने के लिए निकलते तो इधर से होकर ही निकलते । मेरी अठन्नी पक्की थी जो वे आते ही चुपचाप मेरी हथेली पर टिका देते । अगर मैं नहाकर नाश्ता कर चुकी होती तो अपने साइकिल के डंडे पर बिठाकर अपने अखाङे ले जाते । जहाँ एक लंबी दाढी और भगवा बाना पहने बाबा बैठे रहते । मामाजी जाकर उन्हें दण्डवत प्रणाम करते । फिर पट्ठे मामाजी की मालिश करते । उसके बाद मामा दणडबैठकें लगाते । मुग्दर की मूठ मिलाकर व्यायाम करते । उसके बाद कुश्ती के लिए उतरते जहाँ मामा के गुरुभाई उनके साथ कुश्ती खेलते । दो तीन दाँव खेलने के बाद मामा वहीं बंबी का पानी छोङकर नहाते । फिर गुरु जी को प्रणाम कर मंदिर में हनुमानजी का दरशन करते और घर लौट जाते । मैं इस दौरान पूरी वाटिका में घूमती रहती । वाटिका में तरह तरह के फलदार पेङ लगे थे । मैं उछल उछल कर फलों को छूने की कोशिश करती पर फल हमेशा मेरी पहुँच से दूर ही रहते । मामा का कोई गुरुभाई उधर से गुजरता तो मुझे पेङ की टहनी पर बैठा देता और मैं टहनी पर बैठी तोते की तरह कच्चे पक्के फल कुतरती रहती । या फिर मंदिर मेरी पसंदीदा जगहों मेंसे एक था । हनुमान की सिंदुरपुती मूर्ति मुझे आकर्षित करती और मैं उसे एकटक निहारती रहती । पुजारी बाबा मुझे वहाँ बैठा हुआ देखते तो मुट्ठी भर प्रशाद मेरे दोनों हाथों में थमा देते । यह प्रशाद कभी बताशे होते , कभी मीठी फुल्लियाँ, कभीकभार बूंदी या लड्डू होते पर वह प्रशाद दुनिया की सबसे मीठी वस्तु होता । मैं फटाफट सारा प्रशाद चट कर जाती । बाबा दोबारा आते तो दोबारा बिना कुछ बोले या सुने उतना ही प्रशाद फिर से मेरी हथेली पर टिका देते । मामाजी को अखाङे में दो घंटे लगते थे और ये दो घंटे मेरे नितांत अपने होते । घर आकर मामा अपनी पाठ पूजा में लीन हो जाते । मामी इस दौरान रोटी सब्जी बनाती । मामा का टिफन पैक करती । पूजा खत्मकर मामा अपने मंदिर से बाहर आते तो उनके भोजन की थाली लग चुकी होती । मामा जल्दी जल्दी खाना खत्म करते और अपने साइकिल पर कपङा मारते । मामी दौङकर टिफन लाती । खाना पकङते ही मामा अपने दफ्तर चले जाते । तबतक पौने नौ हो चुके होते । आज सोचती हूँ तो थोङा अजीब लगता है , कितना भरोसा था उन लोगों को अपने ऊपर और अपने रिश्तों पर । मामा के सारे गुरुबाई मेरे मामा थे । चार साल की मैं उस सूनी सवेर में पूरी वाटिका में अकेली भटकती रहती थी पर कभी किसी ने भी कोई गलत फायदा नहीं लिया । उलटे बिल्कुल वही प्यार और अपनापन दिया जो मेरे अपने मामा मुझे देते थे ।
खैर मामा के जाने के बाद मंझले मामा अपने स्कूल के लिए जाने के लिए निकलते तो मुझे साथ लेकर जाते और मुझे माँ के पास छोङ देते । माँ की ईश्वर में पहले ही गहन आस्था थी अब वे सारा दिन पाठ करने में लीन रहती । पङोसनें थोङा बहुत काम दे देती तो कर देती । पिताजी रोज सवेरे रोटी खाकर निकलते तो रात गये वापिस आते । न तो माँ पूछ पाती कि कहीं काम मिला या नहीं , न पिताजी इस विषय को छेङना चाहते । हाँ हफ्ते में चार पाँच दिन रात का खाना हम नानी के घर ही खाते ।
जो पैसे माँ फरीदकोट से लेकर चली थी वह अब धीरे धीरे खत्म होने लगे थे । गिनती के पैसे थे , कितने दिन चलते । माँ बहुत सोच समझ कर जहाँ बहुत जरुरी होता , वहीं पैसे निकालती । पर आमदनी न हो तो गुजर कितनी मुश्किल हो सकती है , इसे जिसने भोगा है वही समझ सकता है ।
एक दिन दोपहर में नानी बेबे आई । कटोरी में सरसों का तेल लिए । आते ही बोली – मेरे सिर में दर्द है , थोङा तेल मल दे बच्ची । बङा पुण्य मिलेगा ।
माँ ने रच रच कर तेल लगाया और तेल सिर में झसने के बाद साबुन से हाथ धोने नलके पर गयी कि नानी ने डिब्बे देखे । सारे डिब्बे खाली हो चुके थे । सिर्फ चार रोटी का आटा पङा था और थोङे से चावल । बेबे ने मुझसे पूछा – तूने सुबह क्या खाया था मैने कहा नमक की रोटी । पिताजी ने
उन्होंने भी वही खाई थी ।
बेबे सिर बाँध कर लेट गयी । माँ हाथ धोकर अंदर आई तो बेबे ने उससे कहा – सुन बेटी आज मेरे सिर में बहुत दर्द है । तू मेरे लिए मेरे हंदे ला देगी ।
माँ मुझे बेबे नानी के पास छोङकर चली गयी और पचास मिनट बाद कई रोटियाँ , सब्जी , फल लेकर वापिस आई । नानी ने वे सारी चीजें माँ को ही दे दी । उसके बाद तो यह सिलसिला हर दो तीन दिन बाद दोहराया जाने लगा । अक्सर बेबे सुबह ग्यारह साढे ग्यारह आती , थोङी देर इधर उधर की बातें करती । फिर माँ से हंदे ले आने को कहती । माँ जाती और वह दिन हमारे भरपेट रोटी खाने का दिन होता ।
इस बीच एक दिन धर्म मामा और जय मामा हम लोगों से मिलने आये । धर्म मामा ने यहाँ से डाक्टर की नौकरी छोङ दी थी और आजकल हरिद्वार में नौकरी करने लगे थे । पिताजी को देख कर मामा ने पूछा – भाऊ जी क्या आप मेरी जगह नौकरी करने को तैयार हो । अगर करना चाहो तो चलो मेरे साथ मैं आपकी बात करवा देता हूँ । पिताजी धर्म मामा के साथ गये और तीस रुपये महीना पर नौकरी की बात कर आये ।
इस तरह अब रोटी की समस्या हल हो गयी ।

 

बाकी अगली कङी में ...

 

 

Rate & Review

sneh goswami

sneh goswami 3 months ago

अच्छा लगा

Akshay Goswami

Akshay Goswami 5 months ago

Achcha hai

Jarnail Singh

Jarnail Singh 6 months ago

rochak prasang

Sneh Goswami

Sneh Goswami Matrubharti Verified 6 months ago

हर पाठक का दिल से शुक्रिया । ऐसे ही प्यार बनाए रखें

Mukta Singh

Mukta Singh 6 months ago