Old memory books and stories free download online pdf in Hindi

पुरानी याद

मैं माही ,अपनी बेटी और पति के साथ रहती हूं । मेरी बेटी 18 साल की हो चुकी हैं, आज अचानक मेरी बेटी ने मुझसे एक  सवाल किया ! मम्मा आप  पापा एक दूसरे से इतना प्यार करते मुझे भी बताओ न आप दोनों कैसे मिले थे ?

अपनी बेटी से ऐसे सवाल सुनकर में थोड़ी मुस्कुरा कर क्यों तुमको भी कोई मिल गया हैं  क्या?

मेरी बेटी थोड़ा सा सरमा गई क्या मम्मा आप बताओ ना प्लीज ।

अच्छा अच्छा ठीक है सुनो, में कॉलेज मैं ठीक पापा का ट्रांसफर हो गया था जिसके वजह से हम किसी ओर शहर चले गए मेरा भी दूसरे कॉलेज में ट्रांसफर हो गया ।वो जगह हमारे लिए बहोत नई थी । मैं कॉलेज गई , एक लड़के से मेरी टक्कर हो गई में गिरने ही वाली थी कि उसने मुझे संभाल लिया ,

सारी लड़कियों मुझे गुस्से से देख रही थीं ,पर मुझे नही पता क्यों और में वह से अपने क्लास में चली गई पर वो वक़्त जैसे मेरे मन थम गया हो ,में अपने ही ख्यालो में खोई थी तभी टीचर आ गए उन्होंने मुझे आवाज दी और क्लास में बताया के में न्यू स्टूडेंट्स हु ।

फिर मैं जाकर अपनी सीट पर बैठ गई ,तभी अचानक एक लड़का आकर मेरे बगल सीट पर बैठ गया मेने उसपर ज्यादा ध्यान नही दिया और क्लास खत्म करके कैंटीन चली गई ।

कॉलेज खत्म होने जे बाद में घर आ गई ।

दूसरे दिन में बस स्टैंड पर खड़ी थी तभी एक बाइक वाला मेरे बॉस आकर बाइक रोकता हैं ,जैसे ही उसने अपना हैलमेट उतारा मुझे याद आया ये तो वाजी कल वाला लड़का हैं में अपने मन मे सोच ही रही थी उसने कहा बेठो तुम्हे कॉलेज छोड़ देता हूं ।

अचानक उसकी ये बात सुन कर मैं कुछ कहती कि उसने डरो मत मुझे भी कॉलेज ही जाना है ।

मेने कुछ सोच और उसकी बाइक पर बैठ गई ।उसने मुझसे कहा में बाइक थोड़ा तेज चलता हूं तो संभाल कर बैठना ।

ये सुनते ही मैं बाइक से उतर गई ,वो बोला क्या हुआ डर गई क्या । मेने कहा नही तुम पीछे बैठो उसने कहा क्या इससे आगे वो कुछ कहता मेने उसका हैलमेट पहना ओर आगे बेथ कर बाइक स्टार्ट कर दी  और उससे कहा में यह नई हू तो तुम में रास्ता बताना 

उसने कहा तुम्हे बाइक आती हैं । मेने कहा रास्ता बताओ ओर उसने भी घबराते हुए रास्ता बताया और मैं फुल स्पीड में बाइक चला कर कॉलेज आ गई ।

उसको देख ही लग रहा था उसकी हालत खराब हो गई थी । वो मुझे कुछ कहता तभी में अपन्स बेग लेके वह से मुस्कुराते हुए चली गई ।हमे ऐसे पूरा कॉलेज देख रहा था । फिर जब में कैंटीन में कॉफी पी रही थी तभी वो मेरे पास आया और बोला यार तुम कितनी अच्छी बाइक चलती हो  ,है वो इसलिए क्योंकि मेरे पापा और मैं  ज्यादा तर अपने  फ्री में  टाइम राइडिंग करते थे और मैं पापा को हर देती थीं ।

वो कहता हैं तुम और तुम्हारे पापा तो बहोत कूल हैं  यार । ऐसे ही हमारी बात चीत होने लगी और हम दोस्त बन गए ।

तुम्हारे पापा बहोत हैंडसम थे तो लड़कियों उनकोबहोत पसंद करती थीं ।उन्ही मेने एक लड़की थी । वो थोड़ा ज्यादा रीच फैमिली से थी इसलिए उसका वह ज्यादा दबदबा था ।

एक दिन में कैंटीन मैं बैठ कर नॉवल पड़ रही थीं ,तभी वो लड़की मेरे पास आई और मेरी नॉवल छीन कर मुझसे कहने लगी , अभि से दूर रहो उसको में पसंद करती हैं नही तो मैं तुम्हारा बुरा हाल करूँगी ।

तभी अभि आ गए  बोले क्या हुआ तो एओ लड़की बोली नही बस इसको कुछ समझ नही आ रहा था वही समझ रही थी और वो मुझे घूरते हुए वहाँ से चली गई ।

अगले दिन में टॉयलेट में हैंड वॉश कर रही थी वो लड़की आई उसने मेरे कंधे पर हाथ रख ओर बोली तुम्हे समझ नही आता क्या मेने क्या कहा था आज भी तुम दोनों साथ ही कॉलेज आये थे ।वो मेरे ऊपर हाथ उठाने ही जा रही थी मेने अपने पर्स मेरे कैची ली और उसका हाथ कैची पर लगा फिर मेने उसको पकड़ कर दीवाल  पर सता दिया और बोला 

में  अभि से प्यार करती हूं ।और मेरे अभि के बारे में सोचना बंद करदो नही तो में तुम्हारे साथ क्या करूँगी मुझे भी नही पता ,

तभी मेरी बेटी बोली wow मम्मा आप इतनी brev थी ।

मेने अपनी बेटी को बताया तुम्हारे नानू ने मुझे मार्सल आर्ट सिखाया था जिसमे में चैंपियन थी ।

Wow मम्मा आप तो osam होएब आगे क्या हुआ।

आगे दिन किसी से तुम्हारे पापा को पता चला में उस लडक़ी ने मुझे दमकी दी थी ।और वो इसके पास गए और बोले देखो टीना में तुम्हें बिल्कुल पसंद नही करता हूँ  तो तुम मेरे चक्कर ने ऐसे की को भी दमकी नही दे सकती औऱ रही बास्त रिया की मैं उससे प्यार करता हु। आज के बाद कभी भी मेने सुना के तुमने उसे कुछ भी कहा मुझे पूरा कोई नही होगा।

हम दोनों ने ही उसको अच्छे से समझ दिया था शायद वो समझ भी गई थीं।पर हमने एक दूसरे को अपनी फीलिंग्स के बारे ने नही बताया था।

तभी मेरा बर्थडे आने वाला था  तुम्हारे पापा ने मेरी एक दोस्त से हेल्प लेके मेरे लिए एक सरप्राइज प्लेन किया था । मेरे बर्थडे वाले दिन मेरे दोस्त में मुझेशाम 5 बजे कॉल आया मै गुस्से में थी क्योंकि उस दिन सुबह से तुम्हारे पापा ने तो मुझे मिले थे न ही बर्थडे विश किया ।मेने अपनी दोस्त का फोन गुस्से में उठाया मेने बोला बोल क्या बात है उदर से मेरी दोस्त रोते हुई बोली रिया जल्दी ये कॉलेज आजा मेरा एक्सीडेंट हो गया हैं ।मेने कहा कैसे उसने कहा जल्दी आज बहोत खून निकल रहा हैं और रोते रोते फ़ोन काट दिया ।मैं बिना सोचे समझे वहाँ चली गई ।वहाँ गई तो वो मुझे कही नही दिखी मैंने उसको कॉल किया वो बोली अन्दर आजा में क्लास में हु स्टूडेंट्स मुझे लेके इस क्लास में आ गए उसने मुझे क्लास बताई में भागती हुई वहाँ पहुँच गई वहाँ बिल्कुल अंधेरा था ।मैंने उसको आवाज दी प्रिया कहा हैं तू तभी एक लाइट की रोशनी से तुम्हारे पापा निकले उनके हाथ मैं एक गिफ़्ट बॉक्स था। 

तभी मेरे ऊपर गुलाब की पंखुड़ियों गिरने लगी में समझ गई ये सब मेरे लिए किया हैं । वो मेरे पास आये और बोले रिया जब मैंने तुम्हें पहली बार देखा था मुझे तभी तुमसे प्यार हो गया था । मैं शांति से उनकी बात सुन रही थीं ।वो बोले मुझे तुम्हारे साथ रहता बहोत अच्छा लगता हैं में अपनी पूरी लाइफ तुम्हारे साथ बिताना चाहता हूँ । उनकी ये सारी बाते सुनकर मेरी आँखों मे अंशु थे क्योंकि मुझे भी उनसे पहली नज़र में प्यार हो गया था ।

वो धीरे से मेरे सामने आए बोले रिया I LOVE YOU 

तब मुझे कुछ समझ नही आया क्या कहूँ ,मैं शांत थी ।वो बोले मैंने अपना प्यार कॉन्फेंस कर दिया हैं अगर तुम मुझसे प्यार नही करती तो कोई बात नही । पर प्लीज् तुम गुस्सा मत होना । मैंने भी फिर थोड़ा सा ड्रामा किया और गुस्से में उनके पास गई और बोली तुम्हे किसने कहा के में तुमसे प्यार नही करती ,पहले तो उनको लगा में मन कर रही फ़िर वो बोले क्या मतलब मतलब तुम भी मुसझे ये कहकर वो बहोत खुस हुए और मुझे सीधा गोद मे उठा लिया । और मैने भी उनको love you too बोल दिया । वहाँ हमारे कुछ दोस्त भी थे ।जो मेरी बर्थडे पार्टी में आये थे सबने तालिया बजानी सुरु कर दी । मैने बला मुझे नीचे तो उतारो सब देख रहे हैं।वो बोले तो क्या हुआ आज में बहोत खुश हु ,देखने दो 

फिर मैने मेरी दोस्त प्रिया मेरा बर्थडे केक लेके आई ।पर मैंने कहा मेरा बर्थडे और मैं ही तैयार नही हु तभी तुम्हारे पापा वही गिफ्ट मेरे पास लाये बोले ये लो तुम्हारा गिफ्ट खोलो इसको मेने खोला उसने बहोत प्यारी ड्रेस थी मेरी दोस्त मुझे  लेके गई और मुझे तैयार किया ।

फिर मैं वहाँ वापिस आई तुम्हारे पापा की नजर तो मुझसे हटी नही रही थी ।तभी उनके एक दोस्त ने उनको बोलै भाई  बर्थडे बना ले भाभी को तो अब रोज ही देखना पड़ेगा ये कह सब  हंसने लगे ।

हम दोनों ने मिलकर केक काटा एक दूसरे को खिलाया फिर हमने बहोत ही रोमांटिक डांस किया और ऐसे मेरा बर्थडे बहोत स्पेशल हो गया । सब लोग वहाँ से चले गये थे। तभी तुम्हारी नानी का फ़ोन आया मैं भूल ही गई थी मेने घर पर बताया ही नही था और मम्मी पापा मेरे बर्थडे बनाने के लिए वैट कर रहे थे ।मेने बोला वो मम्मी दोस्तो से सरप्राइज पार्टी करी थी उसी मैं लेट हो गई मम्मी बोली ठीक हैं बेटा पार्टी खत्म हो जाये तो आ जाना तुम्हारे पापा भी तुम्हारा वैट कर रहे है ।

मैंने बोला आ रही हु मम्मी ।

और में जाने लगी तो तुम्हारे पापा ने बोला क्या हुआ ।कुछ नही मम्मी पापा भी मेरा वैट कर रहे हैं में भूल ही गई थी । तुम्हारे पापा बोले ठीक हैं मैं तुम्हारे साथ चलता हूँ मेने कहा नही नही मैं क्या बोलूंगी उनसे ।

तुम्हारे पापा बोले कुछ चलो में लेके चलता हूं हम दोनों घर गए मम्मी ने गेट खोल तुम्हारे पापा ने तुम्हारी नानी को बहोत दी अच्छे से हेलो कहा मम्मी को लगा मेरा दोस्त हैं इसलिए मम्मी ने उनको भी अंदर बुला लिया पापा से भी अच्छे से ही हॉलो हुआ फिर हमने दुबारा मेरा बर्थडे सेलिब्रेट किया  मैं और मम्मी किचन में थे में डर रही थी कही दोनो को कुछ पता न चल जाए ।तभी तुम्हारे नानू ओर पापा बाहर चले गए में ओर ज्यादा डर रही थी ।मम्मी भी मुझे नोटिस कर रही थीं।मम्मी बोली क्या हुआ रिया इतना घबरा क्यों  रही हैं।मेने कहा नही तो मम्मी कुछ तो नही । मम्मी ने कहा मुंझे पता न है । मैं ओर डर दर गई पता न क्या पता न में घबरा रही थी मम्मी गुस्सा करेंगी अब । पर मम्मी मुस्कुराते हुए बोली ।काल ये लड़का हमारे घर आया था ।मैं सोक में थी मेने कहा क्यों मुझे तो कुछ नही बताया इन ।

आज तुम्हारी सरप्राइज पार्टी हुई हैं उसी की परमिशन लेने और उसने तो ये भी बताया था कि वो तुमको आज प्रोपोज करने वाला है में तो ये सब सुनके डंग रह गई । मेने कहा तो आपको सब पहले से ही पता था । हा हमारी परमिशन से ही उसने तुमको प्रोपोज किया हैं । उसको तो हम बहोत पहले से जानते हैं ये तुम्हारे पापा के दोस्त का लड़का हैं और इसी ने तुम्हारा एडमिशन करने में हेल्प करी थी । मैं उस टाइम बहोत हैरान थीं पर तुम्हारे पापा पर मुझे गुस्सा भी आ रहा था कि मुझे इन सबके बारे में बिल्कुल नही पता ।

मम्मी ने मुझसे पूछा तुमको ये पसंद हैं ना में सरमा गई हैं मैं कुछ बोल तो नही पाई पर हा में सिर हिला दिया तो मम्मी बोली ।तुम्हारे पापा ओर मुझे भी ये बहोत अच्छा लगता हैं ।ये तुम्हारा बहोत ख्याल रखेगा । तभी तुम्हारे नानू और तुमारे पापा आ गए वो हम सबके लिए icecream लाये थे।हम सबने साथ बैठ कर इसकरें खाई और बहोत अच्छा समय बिताया मम्मी पापा तो वहाँ से सोने चले गए ।

रात ज्यादा हो गई थी तो पापा ने उनको गेस्टरूम में सोने को कह दिया था।

मम्मी पापा के जाते ही में गुस्से से किचन में चली गई 

वो मेरे पीछे आये बोले क्या हुआ अभी तो हमे थोड़ा पर्शनल टाइम मिला तो तुम यह आ गई ।

मेने कुछ नही कहा और गुस्से से जाकर सोफे पर बैठ गई वो मेरे पास बोले क्या हुआ क्यों गुस्सा हो अभी तो सब अच्छा था ।मेने गुस्से में पिल्लोसे मरते हुए कहा । तुम मेरे मम्मी पापा को पहले से जानते थे पर तुमने मुझे कुछ नही बताया ।वो बोले अच्छा तो मम्मी ने तुम्हे सब बता दिया है ।है मम्मी ने बताया क्योंकि तुमने नही बताया जाओ मुझे तुमसे कोई बात नही करनी में सोने जा रही है।

तुम्हारे पापा ने मेरा हाथ पकड़ा और बोला यहा बेठो मेरे पास मैं बताता हूं मेने तुम्हे कुछ नही बताया ।मेने बोला है बताओ ।में बैठ गई उनने मेरा हाथ पकड़ा और बोले।

तुम्हारे पापा ओर मेरे डैड दोस्त हैं वो दोनों चाहते थे हमारी शादी हो ।मुझे तो तुम तभी पसंद आ गई थी।पर मैं तुम्हारी पसंद नही जानता था मैं नही चाहता था तुम बिन मुझे जाने सिर्फ हमारे पेरेन्ड्स की वजह से मुझसे शादी करलो इसलिए मैंने ही दोनों को बोला हमे थोड़ा टाइम चाहिए एक दूसरे को समझने के लिए फिर वो दोनी भी मन गए और तुम्हारा एडमिशन मेरे ही कॉलेज में करा दिया और देखो आज हम साथ हैं वो भी एक दूसरे को बहोतप्यार करते हैं।

ये सब सुनके मैने तुम्हारे पापा को गले लगा लिया हम दोनों वही सोफे पर ही बात करते करते सो गए।और कुछ टाइम बात तुम्हारे पापा की कंपनी अच्छी चलने लगी और मैं भी अपना काम खोल लिया हम दोनों आने पैरों पर खड़े हो गए और हमारे पेरेंस ने हमारी शादी करवा दी।

फिर भगवान ने हमे तुम्हे दे दिया और हमारी लाइफ हैप्पी चलने लगी । हम दोनों ने हर मुश्किल में एक दूसरे का साथ दिया और आज हम यहाँ ह की मैं अपने प्यार की कहानी अपनी ही बेटी को सुना रही हूं ।

ये कह कर हम दोनों हंसने लगें।

दोस्तों कैसी लगी मेरी ये प्यारी सी स्टोरी ?

Thankyou 

Write by 

Mahi creation