24 Lashe - 1 in Hindi Horror Stories by Umesh Singh books and stories PDF | 24 लाशें - 1

Featured Books
Share

24 लाशें - 1

दुनिया में बहुत से ऐसी रहस्यमयी जगह है जिनके बारे में आज भी पूरी तरह सारी चीजें ज्ञात नहीं है। कहते हैं कि अमेरिका के एरिया फिफ्टी वन का क्या राज है यह भी कोई नहीं जानता। हम्पी के कुछ प्राचीन मीनारों पर बनी नक्काशी और वहां रखी वस्तुओं का क्या राज है -यह भी कोई नहीं जानता। ऐसे कितने ही राज़ इस दुनिया में दफन है पर वैसे भी हर राज़ जानना जरूरी भी तो नहीं होता। खास कर तब, जब राज़ प्राचीन सभ्यताओं से सम्बन्ध रखता हो । कहते हैं कि कुछ चीजों को छुने से या पाने से शाप, मनहूसियत, और ना जाने क्या-क्या आपके जीवन में प्रवेश कर सकता है! ठीक वैसे ही जैसे दिया के जीवन में प्रवेश कर चुकी थी दिल को दहला देने वाली 24 लाशें

डुमना! जबलपुर शहर का छोटा सा कस्बा जो अपनी हरियाली और 'नेचर पार्क' के लिए प्रेशिद है।

दिया उस शाम स्कूल से लौटते हुए लेट हो गयी थी। सारे बच्चे घर जा चुके थे। आज अंधेरा कुछ जल्दी ही हो गया था। और उस पर वह सुनसान सड़क!!
दिया के दिल की धड़कनें तेज हो रही थी और होती भी क्यों ना उसे बार-बार ऐसा लग रहा था मानो कोई बहुत बड़ा बरगद का पेड़ उसके साथ-साथ ही चल रहा है। क्या सिर्फ मेरा वहम है या इस बार वाकई वह पेड़ मेरे बाजू में है और उसमें से फांसी का फंदा निकल रहा है। नहीं नहीं! ऐसा नहीं हो सकता! सामने देखतीं जा दिया। ध्यान मत दे आस पास? पर दिया का मन नहीं मान रहा था।

उसने आखिर पलट कर देख ही लिया। और देखते ही उसके रौंगटे खड़े हो गए।

क्योंकि अब उस पेड़ पर सिर्फ फांसी के फंदे ही नहीं, उस पर 24 लाशें भी लटकी हुई थी।
आ आ आ आह!
दिया उल्टी मुड़ी और अपना स्कूल बैग पकड़ें दौड़ने लगी। वो चीख तो रही थी पर आस पास कोई था ही नहीं जो उसकी आवाज सुन पाता।
आह आह बचाओ!!!! बचाओ!!! प्लीज़!! हेल्प!!
और उसके पीछे वो सारी 24 लाशें भी पेड़ से कूद पड़ी थी और उसका पीछा कर रही थी।
नहीं!!! नहीं!!!! नहीं!!! प्लीज़ मुझे छोड़ दो!!! नहीं!!!!
और अगले ही पल सारी लाशें उसको चारों ओर से घेर कर खड़ी थी।
हफ!!! हाफ!!! मुझे छोड़ दो!! मैंने ऐसा क्या किया है!!! माफ़ कर दो!!! प्लीज़!!! ओह!

सब गायब हो गए!! या क्या वो मेरा बस वहम था! और दिया को यह तुरंत समझ में आ गया। क्योंकि जमीन से उस 24 लाशें के अब हाथ बाहर निकलने लगे।
न न नहीं!!!
और पलक झपकते ही उन हाथों ने दिया को उठा लिया था।
नहींहीहीहीहीहीहीहीही!!!!!
और उसे जमीन के अंदर खींच लिया गया। बस रहा गया था तो उसका स्कूल बैग। जिसमें से निकल आया था वो सोने का शैतान - मुखौटा!

बस वही रहस्यमय रह गया था इसे पूरे घटनाक्रम का कि किस तरह दिया को नर्क ले गयी थी - 24 लाशें।

उस मुखौटा में ऐसा क्या है? या वो शापित है?? दिया कहा गई??

जाने अगले भाग में ये कहानी कैसी लगी हमें बताना ना भूलें ।