Death calls love. books and stories free download online pdf in Hindi

मर कर बुलाए प्यार।

सबको लगता था कि रोशन पागल हो गया है जो कि खुद से ही बातें करता रहता है और कई लोगों को लगता था कि रोशन के साथ उसकी G.F की आत्मा घूमती है।
चलो कहानी शुरुआत से शुरू करते हैं यह कहानी उस दोहर की है जब अंजलि और रोशन कॉलेज में थे।
दोनों के बीच बहुत प्यार था दोनों की मुलाकात स्कूल में हुई थी और जब से ही दोनों साथ है दोनों के घर वाले भी दोनों की शादी के लिए मान गए थे।
दोनों एक साथ कॉलेज जाते थे ।और साथ-साथ वापस आते थे उन्होंने अपना पहला साल आरंभ से गुजर लिया।
लेकिन इन्हीं के बीच अंजलि के पड़ोस में एक लड़की रहती थी वह दोनों से बहुत जलती थी क्योंकि वह रोशन को पसंद करती थी और दोनों को अलग करना चाहती थीकिन वह नुकसान नहीं पहुंचाना चाहती थी और जब दोनों 2th year में आई तो कुछ लड़कों की नजर अंजलि पर पड़ गई और अंजलि को छेड़ने लग गये।
लेकिन रोशन ने उन लड़कों को अच्छी तरह से पीट कर भेज दिया। तब से वह अंजलि से कुछ नहीं कहते थे लेकिन वह अंजलि पर नजर रखने लगे।
इस बात को लेकर रोशन और उन लड़कों के बीच फिर से लड़ाई हो गई । लेकिन बीच में प्रिंसिपल आकर झगड़े को शांत कर देता है। और सभी को अपनी अपनी क्लास में जाने के लिए बोल देता है एक दिन वह लड़के रोशन के बारे में कुछ बतला रहे थे और यह बात अंजलि सुन लेती है लेकिन अंजलि रोशन को कुछ नहीं बताती है
फिर एक दिन अंजलि की मम्मी की तबीयत खराब थी तब अंजलि रात को दवाई लेने चली जाती है रोशन को बिन बताये। तभी अंजलि दवाई लेकर लौट कर आती है जब उन लड़कों की नजर पड़ जाती है जो ड्रिंक कर रहे थे।
अंजलि के पीछे जाने लगे और इस हड़बड़ात में अंजलि डर कर स्कूटी को जोर से चलाने लगी ।और आते आते अंजलि पीछे देखने लगी उन लड़कों की तरफ तभी आगे से एक ट्रक से टक्कर हो गई।
और अंजलि के सीर पर चोट आ गई। लोरी वाला तो वहां से भाग गया। लेकिन वह लड़के अंजलि के पास आकर चेक करने लगे उनको लगा। कि वह मर गई लेकिन वह जिंदा थी।
वह लड़के अंजलि और उसकी स्कूटी को उठाकर एक सुनसान से महल में ले गये ।जो खाली पड़ा रहता था और वहां अंजली को पढ़कर आ गये।
और कुछ देर बाद वहां पर उसकी मौत हो गई। जब रोशन सुबह अंजलि के घर पहुंचा कॉलेज जाने के लिए तो वहां पर पुलिस थी। तब रोशन को पता चला कि अंजलि कि मौत हो गई।
और रोशन वहीं पर बेहोश हो गया अंजली की लाश को देखकर। रोशन को कुछ देर बाद होश आया ।तो पुलिस वालों के साथ अंजलि के कातिलों को ढूंढने लग गया। वह लड़के मिल तो गए। लेकिन पुलिस वालों ने उनका कुछ नहीं किया।
और तभी रोशन उस महल में जाता है । जहां पर उसे अंजलि की स्कूटी भी मिलती है रोशन वहां जाकर रोने गया और वहां पर बेहोश हो गया।
रोशन को 1 घंटे के बाद होस आया तो देखता है कि अंजलि उसके सामने खड़ी थी वह अंजलि को देखकर उसे गले लगा कर बहुत रोता ह। फिर रोशन स्कूटी को लेकर अंजलि की आत्मा के साथ बाहर निकलता है
और फिर गुस्से में आकर उन लड़कों को मार देता है और उनकी बॉडी को नदी में फेंक देता है।
और वह दोनों फिर से साथ-साथ कॉलेज जाने लगे क्लास में अंजली की सीट अपने बगल में रखी। वहां पर किसी को बैठने नहीं देता था । वहा सबको लगा रोशन पागल हो गया है। और रोशन से कॉलेज में सब डरने लगे थे।
उनके घर वालों को भी कुछ समझ नहीं आ रहा था कि यह क्या हो रहा है। और जब रोशन के घर वाले और अंजलि के घर वाले एक तांत्रिक के पास गए। तो उसने बताया कि रोशन के साथ अंजलि की आत्मा रहती है।
और अगर उस आत्मा को अलग करना चाहा तो रोशन भी मर जाएगा। यह सुनकर वह घर आ गए । कई दिनों बाद पुलिस वालों को उन लड़कों की बॉडी मिल जाती है और रोशन को पकड़ने कॉलेज में आ जाते हैं।
लेकिन जब पुलिस रोशन को पकड़ कर ले जाने लगती है तो अंजलि को गुस्सा आ जाता है और वो रोशन के शरीर में समा जाती है। जिससे रोशन की ताकत बढ़ जाती है रोशन उनको ऐसे मार रहा था जेसे कोई जादूगर हो। पुलिस वाले वहां से डर कर भाग जाते हैं कॉलेज में सभी को यकीन हो गया था कि रोशन के साथ अंजलि की आत्मा घूमती है।
तब से सभी रोशन को इज्जत दिया करते थे। लेकिन रोशन के घर वाले परेशान रहते थे।
वह फिर से उस तांत्रिक के पास गये।और अंजलि की आत्मा को रोशन से अलग करने को कहा। तभी तांत्रिक ने कहा कि इसमें रोशन की जान को भी खतरा है।
क्योंकि अंजलि भी रोशन से प्यार करती है। तो वो रोशन को छोड़कर नही जायेगी। रोशन को कुछ हुआ तो वह कुछ भी कर सकती है। लेकिन अंजलि और रोशन के घर वाले अंजलि की आत्मा को मोक्ष देना चाहते थे इसलिए वह तांत्रिक को मना लेती है और तांत्रिक अपना मंत्र सुरु करता है। जब वो दोनों कॉलेज में होते हैं। और अचानक जैसे अंजलि की आत्मा कई खींची जा रही हों।
दोनों घबरा गए कि यह क्या हो रहा है रोशन भी उसके पीछे-पीछे चला गया। तो तब पता चला की यह सब तांत्रिक कर रहा है। और उनके घर वाले भी वहीं बैठे हुए थे रोशन को समझाया कि उसकी आत्मा को शांति देना आवश्यक है। वरना अंजलि का पुनर्जन्म नहीं होगा। यह सुनकर रोशन मान तो जाता है। लेकिन वहां पास में रखे चाकू से अपना गला काट लेता है।और रोशन की भी वहां मृत्यु हो जाती है और रोशन की मां बेहोश हो जाती है। कुछ देर बाद उसकी मां को तो होश आ जाता है और यहीं पर दोनों की love story and हो जाती है।

इतिहास गवाह है कि सच्चा प्यार ना कृष्ण को मिला ना शंकर को मिला

कट रही थी जिंदगी धीरे-धीरे जमाने ने आग लगा दी😥।
प्यार तो किया था सच्चा❣️🌹
मगर यार किसी ने साजिश रचा दी।💔💔🥀🥀

लेखक - रोशन बैपलावत