Mafiya o ki duniya me innocent girl in Hindi Drama by Mickey The Writer books and stories PDF | माफियाओं की दुनिया में इनोसेंट गर्ल - 6 - वंशिका का एक्सीडेंट

Featured Books
  • The Mystery of the Blue Eye's - 6

    दरवाजा एक बुजुर्ग आदमी खोलता है और अपने चौखट के सामने नौजवान...

  • पागल - भाग 40

    भाग–४० मिहिर और निशी भी जल्दी राजीव के घर पहुंच गए । सभी राज...

  • जादुई मन - 15

    जैसे जाते हुए किसी व्यक्ति की गर्दन पर नजर जमाकर भावना करना...

  • द्वारावती - 34

    34घर से जब गुल निकली तो रात्रि का अंतिम प्रहर अपने अंतकाल मे...

  • डेविल सीईओ की मोहब्बत - भाग 6

    अब आगे, आराध्या की बात सुन, जानवी के चेहरे पर एक मुस्कान आ ज...

Categories
Share

माफियाओं की दुनिया में इनोसेंट गर्ल - 6 - वंशिका का एक्सीडेंट

उसे इस तरह कूदता देख गार्ड्स भी ट्रेन में से नीचे उतर कर आते है लेकिन वंशिका उनका उसकी तरफ आता देख भाग जाती हैं गार्डस भी उसके पीछे जाती है। लेकिन तभी वो किसी मजबूत चीज से टकरा जाती हैं वो अपना सर को मसलते हुए देखती है तो वहां कोई आदमी खड़ा था ये देख कर वंशिका डर जाती हैं की कही वो गार्ड तो नही तभी वो अपनी निगाह उठा कर उपर देखती हैं तो वहां वियांश खड़ा हुआ था और उसी को ही देख रहा था।



दरअसल वियांश सिघानिया इंडस्ट्री से निकल कर सीधा दिल्ली जंक्शन पहुंचा था इसलिए वो लोग टाइम पर पहुंच गए। वियाँश कार के पार्क होते ही कार से निकल कर भागता हुआ अंदर आ जाता है जैसे ही वो अंदर आता है वंशिका उससे टकरा जाती है।





जब वंशिका अपना सर उठा कर वियांश को देखती है तो वियाँश उसकी आंखों में खो सा जाता है वो ये भी भूल जाता है की वो यहां क्या करने आया था लवकुश के बॉडीगार्ड उसके आस पास से गुजर रहे थे जिनके कपड़ो पर चील का एक चिन्ह बना हुआ था।






वियाँश वंशिका की बाहें थामे खड़ा उसकी आंखो में देख रहा था जिससे वंशिका अनकमफोर्ट फील कर रही थी वो अनजान लोगो से बहुत जल्दी डर जाती थी जिस तरह से कोई छोटा बच्चा डरता हो।
वंशिका धीरे धीरे कांपने लग जाती हैं उसे इस तरह से अनकंफर्टेबल होता देख वियांश उसके हाथो को छोड़ कर सीधा खड़ा हो जाता है तभी उसके कानो में मीठी मिश्री जैसी आवाज आती हैं

" I am sorry गलती मेरी ही थी मैं देख कर नही चल रही थी"





जब वियांश ये आवाज सुनता है तो उस ओर देखता है जहां वंशिका डरी सहमी इधर उधर देख रही थी वियांश सोचता है की वंशिका उसके जवाब के इंतजार में खड़ी है तो वो वंशिका को माफ करते हुए कहता है






वियाँश शांत लहजे में:– its totally ok और आपको सॉरी बोलने की जरूरत नहीं है ( वंशिका उसकी ओर देख कर हल्की सी स्माइल कर देती है) वैसे आपका नाम...( वियाँश आगे कुछ बोल पाता लेकिन तब तक वंशिका गार्ड को उसकी ओर बढ़ता देख वहां से भाग जाती है) ( आवाज को धीरे करते हुए) क्या है ...नाम तो बता देती।




वंशिका वहां से जा चुकी थी मगर वियांश उसी तरफ नजर गड़ा कर खड़ा था जहां से वंशिका भाग कर गई थी उसके होटों पर दिलकश मुस्कान थी तभी वहां रिंदाश आ जाता है जब वो वियांश को मुस्कुराता हुआ देखता है तो हैरान हो जाता है वो हैरानी से उस ओर देखता है जहां वियांश देख रहा था फिर वापिस वियांश की तरफ देखता है।






रिंदाश हैरानी से अपना हाथ आगे बढ़ा कर वियांश के कंधो पर रख कर हल्का सा हिला कर कहता है :– वियांश are you ok।






वियांश जो कब से खोया हुआ था रिंदाश की आवाज से उसकी तंद्रा टूटती है मगर अब उसके चेहरे पर पहले जैसी मुस्कुराहट नही थी इस वक्त उसके चेहरे पर एक गुस्सा था उसकी आंखें लाल हो चुकी थी जिनमे बदले की आग थी वो रिंदाश की तरफ पलटता है और गुस्से में हाथो की मुट्ठी बना कर कहता है






वियांश :– कहां हे लवकुश वो मिला या नहीं।





रिंदाश उसकी बात सुनकर हैरानी से कहता हे :– इसका मतलब तूने लवकुश के आदमियों को नही देखा।





वियांश रिंदाश की कही बात सुनकर उसे इस तरह से देखता है जैसे कह रहा हो :– अरे कहना क्या चाहते हो।





वियांश के चेहरे के एक्सप्रेशन को समझ कर रिंदाश उसे जवाब देते हुए कहता है :– लवकुश यहां आया ही नहीं उसके आदमी शायद यहां किसी को ढूंढ रहे थे जो उन्हे मिला नही तो वो यहां से चले गए और हमेशा की तरह इस बार भी वो लवकुश बच गया।






वियांश रिंदाश की बातो पर कोई रिएक्ट नही करता क्योंकि अभी वो सिर्फ और सिर्फ वंशिका के ख्यालों में खोया हुआ था वियांश ने आज तक किसी भी लड़की को एक नजर भी नही देखा उसके आस पास रहने वाली औरते भी सिर्फ गिनी चुनी थी जो सिर्फ काम पर ध्यान देती थी मगर पहली बार ऐसा हुआ था की वियांश खुद आगे बढ़ कर किसी को देखने में दीवाना था और वो भी उस लड़की को जिसने उसे एक नजर भर कर भी नहीं देखा जिस लड़के के पीछे हजारों लड़कियां दीवानी थी वही ये लड़की वियांश सिंघानिया को इग्नोर करके चली गई।





रिंदाश सुनकर वियांश उससे कहता है :– चल चलते हैं।




दूसरी तरफ





वंशिका को भागते भागते अंधेरा हो गया था तभी वंशिका पीछे पलट कर देखती है तो गार्ड अब भी उसके पीछे भाग रहे थे वो भागती भागती एक सुनसान सड़क पर आ जाती है।




तभी वहां एक कार फुल स्पीड में चली आ रही थी उस कार की पार्किंग लाइट ऑन थी मगर वंशिका पीछे की ओर देखते हुए आगे भाग रही थी कार वंशिका के बिल्कुल पास आ गई थी और इसी के साथ वंशिका ने कार की ओर देखा तो लाइट की वजह से देख नही पाई जब उसने देखा की कार उसके बिल्कुल पास आ गई तो डर के कारण उसके हाथ पैरो ने उसका साथ छोड़ दिया वो वही खड़ी रह गई जिससे कार से उसकी टक्कर हो गई जिससे उसके सर से बहुत सारा खून बहने लग गया .......



वंशिका को भागते भागते अंधेरा हो गया था उसी के साथ वो एक सुनसान जंगल के पास से निकलती हुई सड़क पर आ गई थी जहां पर अंधेरा और गहरा हो गया था वंशिका उस सुनसान सड़क पर अंधा धुंध भाग रही थी उसे किसी भी चीज का होश नही था वो तो जल्द बाजी में अपना ट्रॉली बैग भी रेल में छोड़ आई थी उसके पास सिर्फ उसका डॉक्यूमेंट्स बैग था जो उसके कंधो पर लदा हुआ था। वो तो शुक्र था की उसकी बहन ने उसे इस बैग के बारे में याद दिला दिया था वरना .........





Countinue........

आखिर किसने किया है वंशिका का एक्सीडेंट ..??

क्या बो बचाएंगे वंशिका को ..???

जानने के लिए पड़ते रहिए "माफियाओं की दुनिया में इनोसेंट गर्ल"।

और दोस्तो अगर आप ऐसे ही करते रहे न में पार्ट देना ही छोड़ दूंगी।
प्लीज यार 1 मिनिट भी नही लगता रेटिंग और समीक्षा देने में।
हमे फॉलो भी कर लेना।