Online Pyaar .... - 2 in Hindi Short Stories by Lotus books and stories PDF | Online Pyaar .... - 2

The Author
Featured Books
  • ब्लॅकमेल - प्रकरण 9

    प्रकरण ९ दुसऱ्या दिवशी ऑफिसला आल्यावर पाणिनीने सौंम्याला देव...

  • रानभूल

    मिरगाची शितडी पडली आणि पाऊस खराच झाला. पुढच्या चार दिवसात हर...

  • कोण? - 20

    भाग – २० मग साहेब उत्तरले, “ हे बघ सावली आमचे कामच असते संशय...

  • शेतीसाठी भांडण? बरं नाही

    शेतीच्या लहानशा तुकड्यासाठी भांडण? हे बरं नाही. शेतकरी शेतीच...

  • प्राक्तन - भाग 2

    प्राक्तन-२दोन तीन दिवस उलटून गेलेले... ती शांतच होती, मनानेह...

Categories
Share

Online Pyaar .... - 2

इतनी बड़ी बात सुन कर सपना को झटका तो लगता है
मगर वो इस बात को मानने से बिल्कुल इनकार कर देती हैं
क्योंकि उसको लगता है उसका दोस्त उसको दीपक से अलग करने के लिए झूट बोल रहा है
मगर फिर भी सपना के मन में एक झूठ पनपने लगा था
क्योंकि अब दीपक का व्यवहार सपना के प्रति बदलने लगा था दीपक बात बात पर सपना से गुस्सा करने लगा था और सपना से बहुत कम बात करता था सपना दीपक की इस बेरुखी से टूटने लगी वो दीपक से हद से ज्यादा प्यार करने लगी थी और दीपक को ख़ुद से दूर जाते बर्दाश्त नहीं कर सकती थी और आत्म हत्या करने की कोशिश करती है सपना के पापा जी सपना को हॉस्पिटल ले जाते है
समय रहते ही dr sapna को बचा लेते हैं
सपना के हाथ में दीपक का नाम लिखा होता हैं
जिसे देख कर पापा जी बड़े प्यार से सपना से दीपक के बारे मे पूछते है सपना डरते हुए अपने और दीपक के बारे मे सब बता देती है सब से और बोलती है में दीपक के बीना नही जी सकती अपनी मासूम सी बेटी को प्यार में तड़पते देख कर उनका दिल भी रो पड़ा और अपनी देती को प्यार से समझते हुए दीपक से उसकी शादी करने का वादा करते है सपना के आशू पोछते हुए कहते है में खुद तुम्हारा रिश्ता लेकर दीपक के परिवार वालो के घर जाते है इस से पहले तुम call पर मेरी दीपक से बात करा दो
सपना थोड़ा घबरा जाती है सोचती हैं दीपक उसका कॉल उठाएगा या नहीं क्योंकि कई दिनो से उन दोनो मे बात नही हुई थी इसलिए वो पापा के मोबाइल से उसे कॉल करती हैं और पापा को ही बात करने को बोलती है
कॉल जैसे ही उठता है पापा जी को एक औरत की आवाज़ सुनाई देती हैं तो पापा जी कहते है क्या में दीपक से बात कर सकता हूं जी अभी वो सो रहे है क्या आपको उन्हे कोई msg देना है तो मुझे बता दो में उन्हे बता दूंगी उस औरत की बात से पापा जी को कुछ शक होता हैं जी जरुर मगर क्या में ये जान सकता हूं की आप दीपक की कोन हो
जी में दीपक की पत्नी अनिता
बस इतना सुनते ही उनके पैरो तले से जमीन खिसक गई
और प्यार के इतने बड़े दलदल के फरेब से अपनी बेटी को कैसे निकाले ये सोच कर ही वो सिहर जाते है
पापा को इतना परेशान देख सपना डर जाते है और बहुत हिम्मत से सपना को ये सच बताते हुए कहते है जो फरेब तुम्हारे साथ हुआ है उसके लिए तुमने अपनी जिंदगी खत्म करने का सोचा भी नही बेटा तुम इतनी मासूम भी ना बनो की कोई आकर तुम्हारी मासूमियत छीन ले
और अब तुम ये सोचो जो तुम्हारे साथ हुआ आगे किसी लड़की के साथ न हो दीपक जैसे फरेबी लोगो की शिकार न हो बेटा तुम्हारी जिंदगी का बहुत बूरा हादसा है
और इससे तुम्हे अब सबब लेना है न की अपनी जिंदगी को ख़त्म करना इस बात का बहुत बड़ा असर सपना पर होता हैं जिस प्यार के लिए वो अपनी जान दे रही थी
अब उसे से उसने ज़िंदगी का सबसे बड़ा सबब लिया

तो दोस्तो कैसी लगी आप सब ये कहानी
में हर लड़की हो या लडका सब से ये कहता हूं
बिना जानें समझे ये गलती न करे