Kerala Tour in Hindi Travel stories by Kiran books and stories PDF | केरल यात्रा: देवभूमि के सौंदर्य का सफर

The Author
Featured Books
Categories
Share

केरल यात्रा: देवभूमि के सौंदर्य का सफर

केरल, जिसे 'भगवान का अपना देश' कहा जाता है, भारत के दक्षिण-पश्चिमी कोने में स्थित है। अपनी हरी-भरी हरियाली, बैकवाटर्स, और सांस्कृतिक धरोहर के लिए प्रसिद्ध केरल में यात्रा का अनुभव अत्यंत रोमांचक और मनोहारी होता है। हाल ही में मैंने केरल की यात्रा की और इस खूबसूरत राज्य की प्राकृतिक सुंदरता और संस्कृति का अनुभव किया। इस यात्रा का अनुभव मैं आपके साथ साझा कर रहा हूं।


 यात्रा की शुरुआत


हमारी यात्रा की शुरुआत कोच्चि से हुई, जिसे कोचीन के नाम से भी जाना जाता है। कोच्चि एक प्रमुख बंदरगाह शहर है और यहां का इतिहास, संस्कृति और आधुनिकता का मिश्रण अत्यंत आकर्षक है। जैसे ही हम कोच्चि हवाई अड्डे पर उतरे, वहां की नम और ताजगी भरी हवा ने हमारा स्वागत किया।


 कोच्चि: इतिहास और आधुनिकता का संगम


कोच्चि में सबसे पहला स्थान जिसे हमने देखा, वह था फोर्ट कोच्चि। यह स्थान अपने पुर्तगाली, डच और ब्रिटिश वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है। यहां के पुराने चर्च, जैसे कि सेंट फ्रांसिस चर्च, और चीनी मछली पकड़ने के जाल देखने लायक थे। फोर्ट कोच्चि की गलियों में घूमते हुए हमें ऐसा महसूस हुआ जैसे हम इतिहास के किसी अध्याय में प्रवेश कर चुके हों।


कोच्चि में स्थित मट्टनचेरी पैलेस, जिसे डच पैलेस भी कहा जाता है, यहां का एक प्रमुख आकर्षण है। इस महल में केरल के राजाओं की शाही चित्रों और मुगलों के समय की चित्रकारी देखने लायक थी। यह महल केरल की समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर का प्रतीक है।


 मुन्नार: चाय बागानों का स्वर्ग


कोच्चि के बाद हमारा अगला गंतव्य था मुन्नार, जो अपनी हरियाली, चाय बागानों और ठंडी हवा के लिए प्रसिद्ध है। मुन्नार की यात्रा के दौरान हमें चाय के बागानों की अनंत हरियाली और वहां के पहाड़ियों की ठंडी हवाओं ने मंत्रमुग्ध कर दिया। 


मुन्नार में सबसे पहले हमने एराविकुलम नेशनल पार्क का दौरा किया, जो नीलगिरि तहर के लिए प्रसिद्ध है। यह स्थान अपने हरे-भरे घास के मैदानों और ऊंचे पहाड़ों के लिए जाना जाता है। पार्क में ट्रेकिंग करते हुए हमें प्रकृति की सुंदरता का करीब से अनुभव करने का मौका मिला।


इसके बाद हमने टाटा टी म्यूजियम का दौरा किया, जहां हमें चाय की खेती और उत्पादन की प्रक्रिया के बारे में जानने का मौका मिला। यहां की ताजगी भरी चाय का स्वाद अविस्मरणीय था।


 अल्लेप्पी: बैकवाटर्स का जादू


मुन्नार के बाद हमारी यात्रा का अगला पड़ाव था अल्लेप्पी, जिसे अलाप्पुझा भी कहा जाता है। अल्लेप्पी अपने बैकवाटर्स और हाउसबोट्स के लिए विश्व प्रसिद्ध है। जैसे ही हम अल्लेप्पी पहुंचे, हमने एक हाउसबोट किराए पर ली और बैकवाटर्स के सफर पर निकल पड़े। 


बैकवाटर्स की शांत जलधारा, चारों ओर हरियाली और छोटे-छोटे गांवों का दृश्य अद्भुत था। हाउसबोट पर रात बिताने का अनुभव बेहद खास था। नाव के धीमे-धीमे चलते हुए पानी की लहरों की आवाज और ताजगी भरी हवा ने मन को शांति और सुकून दिया।


 थेक्कडी: वन्यजीव और प्रकृति


अल्लेप्पी के बाद हमारा अगला गंतव्य था थेक्कडी, जो पेरियार वन्यजीव अभयारण्य के लिए प्रसिद्ध है। यह स्थान अपने घने जंगलों, वन्यजीवों और पेरियार झील के लिए जाना जाता है। यहां पर हमने जंगल सफारी का आनंद लिया और हाथियों, बाघों और विभिन्न प्रकार के पक्षियों को करीब से देखने का मौका मिला।


पेरियार झील पर बोट राइड करते हुए हमने प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लिया। यहां की शांत और ठंडी हवा ने हमें मंत्रमुग्ध कर दिया। थेक्कडी की यात्रा वन्यजीव प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है।


 कोवलम: सुनहरी तटों का आनंद


थेकेड़ी के बाद हमारी यात्रा का अंतिम पड़ाव था कोवलम, जो अपने सुनहरी समुद्र तटों के लिए प्रसिद्ध है। कोवलम का समुद्र तट केरल के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। यहां की लहरों की आवाज और तट पर बिखरी रेत ने मन को रोमांचित कर दिया।


कोवलम में हमने समुद्र तट पर सैर की और सूर्यास्त का अद्भुत दृश्य देखा। समुद्र की लहरों के साथ खेलने का अनुभव और तट पर लगे नारियल के पेड़ों की छांव में विश्राम करना अत्यंत सुखद था।


 स्थानीय संस्कृति और भोजन


केरल की यात्रा केवल प्राकृतिक सुंदरता तक सीमित नहीं थी। यहां की संस्कृति और भोजन ने भी हमें प्रभावित किया। केरल का पारंपरिक भोजन 'साद्य' का स्वाद लिया, जिसमें केले के पत्ते पर परोसे गए विभिन्न प्रकार के व्यंजन शामिल थे। नारियल और मसालों से भरपूर केरल का खाना बेहद स्वादिष्ट था।


केरल की यात्रा मेरे जीवन का एक अविस्मरणीय अनुभव था। यहां की हरियाली, शांत बैकवाटर्स, चाय बागान, वन्यजीव और सुनहरी समुद्र तटों ने मेरे दिल पर एक अमिट छाप छोड़ी। यह यात्रा न केवल मेरी आंखों के लिए सुखद थी, बल्कि मेरे मन को भी शांति और सुकून प्रदान करने वाली थी।


केरल वाकई में 'भगवान का अपना देश' है, जहां की सुंदरता और शांति आपको बार-बार आने के लिए मजबूर कर देगी। मुझे उम्मीद है कि मेरी यह यात्रा वृतांत आपको भी केरल की सुंदरता का एक झलक दिखा सकेगा, और आप भी इस अद्भुत राज्य की यात्रा करने का मन बना लेंगे।