Five Orange Pips - Full Book in Hindi Adventure Stories by Sir Arthur Conan Doyle books and stories PDF | पांच नारंगी गुठलियाँ - संपूर्ण उपन्यास

पांच नारंगी गुठलियाँ - संपूर्ण उपन्यास

दी एडवेंचर्स ऑफ़ शेरलोक होम्स

पांच नारंगी गुठलियाँ

जब भी मेरी नजर '८२ और '९० सालो के बीच मैंने शेरलॉक होम्स के बारे में लिखी टिप्पणियाँ और अभिलेखों के उपर पड़ती है, तब मेरा सामना ऐसी बहोत सी अजीब और दिलचस्प बातो से होता है जिसमे से किसका चुनाव करे किसे छोड़ दे ये मेरे लिये आसान बात नहीं होती। तथापि, उनमें से कुछ पहले ही अखबारों के द्वारा सुर्खियां बटोर चुकी है और शेष बाते एक ऊँचे ओहदे पे काम करने वाले मेरे एक मित्र के समक्ष वो विशेष वातावरण निर्मिति में असफल रही जो की अखबारों का उदाहऱण के तौर पर सन्दर्भ देने का मूल मानस होता हैl उनमें से कुछ उनके विश्लेषणात्मक कौशल्य से मन को चकरा देते है, और हमेशा करते रहेंगे जो या तो आख्यायिका है, या समापन की बगैर की शुरुआत, जबकी अन्य जो सही मायने में लेकिन अंशिक स्पष्ट है और जिनके पास पूर्णत: तार्किक प्रमाणों के बावजूद पैदा हुए अनुमान और शंका के स्पष्टीकरण है जो की उन्हें बहोत प्रिय थाl तथापी, उन सबमें से शाश्वत रहती है तो वो उन विवरणों की एक असाधारण बात और वह चौका देने वाले परिणाम जो मुझे उन्हें थोड़ा श्रेय देने को लुभा रहे है इस तथ्य के बावजूद की अभी भी कुछ संबंध ऐसे है जो ना आजतक कभी या शायद भविष्य में भी कभीभी पूरी तरह नहीं स्पष्ट हो पाएँगेl

साल '८७ ने हमें बहोत बढ़िया या कम रुची वाले बहोत से लम्बी शृंखलाओं से नवाजा है जिसका लेखाजोखा मैंने बना रखा हैl मुझे ये आंकड़े मिले है की इन बारह महीनो ने मुझे मेरे सारे शीर्षकों में से adventure of the Paradol Chamber, Amateur Medicant Society जो मेरे फर्नीचर के गोदाम के निचले मेहराब के शानशौकत का हिस्सा बना हुआ है, British Barque ''Sophy Anderson'' जिससे नुकसान भी हुआ, singular adventures of the Grice Patersons in the island of Uffa, और अंत में Camberwell poisoning case जैसी कलाकृतिया दीl बाद में, जैसा की याद किया जा सकता है, शेरेलैक होम्स मृत व्यक्ति की घड़ी को घुमाकर, यह साबित करने में सक्षम थे की यह दो घंटे पहले घायल हो गया था, और इसलिए मृतक उस समय बिस्तर पर गया था - वक्त की कटौती जिस खूबी को को समाशोधन में सबसे बड़ा महत्व थाl ये सभी मैं भविष्य में पेश कर सकता हूं,लेकिन उनमें से कोई भी ऐसी एक भी अजीबोगरीब परिस्थितीओ की शृंखला को प्रस्तुत नहीं करता है जिसे मैंने अब वर्णित करने के लिए अपनी कलम उठाई हैl

वह सितंबर का उत्तरार्ध था, और भूमध्य रेखाएं असाधारण हिंसा स्थापित कर चुकी थीं। पूरे दिन हवा की झनझनाहट थी और बारिश की थपेड़े खिड़कियों पे आ टकराती थी, यहां तक की महान, हाथ से बने स्वनिर्मीत लंदन के दिल में भी हमें उन महान मौलिक ताकतों से, जो मानव जातीपर अपनी सभ्यता के सलाखों के माध्यम से एक पिंजरे में अनियमित जानवरों की तरह झुकाते हैं, उनसे, जीवन के दिनचर्या से तत्काल के लिए अपने दिमाग को बहकाने और अपनी उपस्थिति को पहचानने के लिए मजबूर होना पड़ा। जैसे ही शाम आ गई, तूफान ऊंचा और जोर से बढ़ गया, और हवा चिमनी में एक बच्चे की तरह रोने और चिल्लाने लगी। शेरेलैक होम्स फायरप्लेस के एक तरफ मुंह करके बैठे अपराध के अपने हिसाब को दोबारा जांच पड़ताल कर रहे थे, जबकि मैं दूसरी तरफ क्लार्क रसेल की अच्छी समुद्र-कहानियों में से एक पढ़ने में गहरा डुबा हुआ था जब तक कोई आँधी की चीख शब्दों में ना आने लगे और बारिश की बौछारे बढ़ते बढ़ते उन समुद्र में ना विलीन हो जाएl मेरी पत्नी अपने माँ के घर गई हुई थी,और कुछ दिनों के लिए मैं बेकर स्ट्रीट में अपने पुराने क्वार्टर में एक बार एक निवासी बन चूका थाl

"क्यों," मैंने मेरे साथी को देखते हुए कहा, "वह निश्चित रूप से दरवाजे की घंटी की आवाज थी। रात में कौन आ सकता था? तुम्हारा कोई दोस्त, शायद?"

"आप को छोड़कर मेरे पास मेरा कोई नहीं है। मैं आगंतुकों को प्रोत्साहित नहीं करता हूं।" उसने जवाब दिया

"एक ग्राहक, फिर?"

"यदि ऐसा है, तो यह एक गंभीर मामला है। कोई छोटी जरुरत या मामला इस तरह के किसी आदमी को अनचाहे दिन और अनचाहे वक्त नहीं ला सकतीl या मुझे लगता है की यह मकान मालकिन का कोई करीबी दोस्त होगाl

शेरेलैक होम्स का वो अनुमान गलत था, हालांकि, कोई बाहर आ खड़ा था और दरवाजे को खटखटा रहा था l उन्होंने अपनी लंबी बांह फैला के दीपक को अपने आप से दूर किया और कुर्सी खाली की जिसपे आया हुआ नया शख्स बैठ सकेl

"अन्दर आइए!" उन्होंने कहा।

तक़रीबन बाईस वर्ष का एक युवक, जो अच्छी तरह से तैयार और दुबले कद था, उसमे एक नजाकत और नाजुक आकर्षित असरदार बात थी, उसने अंदर प्रवेश कियाl उसने अपने हाथ में स्ट्रीमिंग छतरी रखी थी, और उसके लंबे चमकने वाले जलरोधक कपडे बाहर के उस भयंकर मौसम के बारे में बता रहे थे जिसमें से वह आया था। उन्होंने दीपक की चमक में उत्सुकता से उसे देखा, और मैं भी देख सकता था की उसका चेहरा पीला था और उसकी आंखें भारी थीं, जैसे की किसी ऐसे व्यक्ति की तरह जो बहुत बड़ी चिंता के वजह से ऐसा दिखता हैl

उसने कहा, "मैं आपसे क्षमा चाहता हूं," अपने सुनहरे सिर्फ नाक में अटकाने वाली ऐनक को अपनी आंखों में लगायाl

"मुझे भरोसा है की मैं घुसपैठ नहीं कर रहा हूं। मुझे डर है की मैंने तूफान और बारिश के कुछ निशान अपने गरम कक्ष में लाए हैं।"

होम्स ने कहा, "मुझे आप अपना कोट और छतरी दें।" "वे यहां हुक पर रख सकते हैं और जल्द ही सूख जाएंगे। मुझे लगता है आप आग्नेय दिशा से आए है"

"हाँ, हॉर्शम से।"

"उस मिट्टी और चाक मिश्रण जो मैं आपके पैर की अंगुली के टोपी पर देख रहा हूं वह काफी विशिष्ट है।"

"मैं सलाह के लिए आया हूँ।"

"वह तो आसानी से मिल जाती है।"

"और मदद"

"यह मिलना हमेशा इतना आसान नहीं होता है"

"मैंने आपके बारे में सुना है, श्री होम्स। मैंने मेजर प्रिंडर्गास्ट से सुना है की आपने उसे टैंकविले क्लब घोटाले में कैसे बचाया।"

"जी जरूरl उसे गलत तरीके से कार्ड पर धोखा देने का आरोप लगाया गया था।"

"उन्होंने कहा की आप सब कुछ हल कर सकते हैं।"

"उसने बहुत ज्यादा ही तारीफ कर दी।"

"की आप कभी हारते नहीं ।"

"मुझे चार बार हराया गया है - पुरुषों द्वारा तीन बार, और एक बार एक महिला द्वारा।"

"लेकिन आपकी सफलताओं की संख्या की तुलना में यह क्या है?"

"यह सच है की मैं आम तौर पर सफल रहा हूं।"

"तो आप मेरे साथ भी ऐसा कर सकते हो।"

"मैं विनती करता हूं की आप इस आग की तरफ अपनी खुर्सी खींचकर बैठे और मुझे आपके केस के बारे में कुछ जानकारी दे l

"यह कोई साधारण बात नहीं है।"

"मेरे पास आने वाले कोई भी नहीं हैं। मैं अपील की आखिरी आशा हूं।"

"और फिर भी मैं दावा करता हूं, महोदय, चाहे, आपके सभी अनुभवों में, आपने कभी भी मेरे परिवार में हुई घटनाओं की रहस्यमय और अकथनीय श्रृंखला पहले शायद ही कभी सुनी होगीl"

होम्स ने कहा, "आपने मुझे उत्सुकता से भर दिया है। में प्रार्थना करता हूं आप हमें प्रारंभ से आवश्यक तथ्यों को बताए और मैं बाद में उन विवरणों के बारे में पूछता हूं जो मुझे सबसे महत्वपूर्ण लगेंगेl"

युवक ने अपनी कुर्सी खींच ली और अपने गीले पैर को आग की तरफ बढ़ा दिया।

"मेरा नाम," उसने कहा, "जॉन ओपनशॉ है, लेकिन मेरे अपने मामलों में, जहां तक मैं समझ सकता हूं, इस भयानक कड़ी के लिए यह जानकारी बहोत कम हैl यह एक वंशानुगत मामला है, इसलिए आपको पूरी बात समझने के लिए मुझे इस के शुरुवात से बताने के लिए भूतकाल में वापस जाना होगा।

"आपको पता होना चाहिए की मेरे दादाजी के दो बेटे थे - मेरे चाचा एलियास और मेरे पिता जोसेफ। मेरे पिता को कॉवेन्ट्री में एक छोटा कारखाना था, जिसे उन्होंने साइकिल चलाने के आविष्कार के समय और बढ़ाया था। वह ओपनशॉ ना फटने वाले टायर के पेटेंट के मालिक थे और उनके व्यापार ने इस तरह की सफलता से छू ली थी की वह इसे बेचकर बाकी शेष की जिंदगी सेवानिवृत्त होके बहोत ही ख़ुशी और विलास में काटने में सक्षम थे ।

"मेरे चाचा एलियास अमेरिका लौट आए जब वह एक जवान व्यक्ति थे और फ्लोरिडा में एक वृक्षारोपी बन गए, जहां उन्होंने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया था। युद्ध के समय उन्होंने जैक्सन की सेना में लडे, और बाद में हुड के नीचे, जहां वह कर्नल के पद तक भी पोहोचे । जब ली ने शरण होना स्वीकारा तो मेरे चाचा अपने वृक्षारोपण के काम में लौट गए, जहां वह तीन या चार साल तक रहे । 1869 या 1870 के दौरान वह यूरोप वापस आए और हॉर्शम के पास ससेक्स में एक छोटी सी जगह ले ली। उन्होंने राज्यों में एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्तिथी बना दी थी, और इस का कारण नीग्रो के प्रति उनका विचलन था, और इसलिए फ्रैंचाइजी को विस्तारित करने में उनको मदद करने वाली रिपब्लिकन नीति भी उन्हें नापसंद थी । वह ऐसा एक एकमात्र व्यक्ति थेl भयंकर और शीघ्रकोपी, बहुत क्रोधित होता थे, और जब वह क्रोधित होता थे, सबसे बुरा व्यवहार करता थे। हॉर्शम में रहने वाले सभी सालों के दौरान, मुझे संदेह है की क्या उसने कभी शहर में पैर भी रखा हो l उसके पास एक घर और दो या तीन जमीने उसके घर के चारों ओर थे, और वहां वह अपना काम करता थे, हालांकि अक्सर सप्ताहों के अंत में वह कभी भी अपना कमरा नहीं छोड़ता थे। उसने जीवन में खूब ब्रांडी पी और बहुत भारी धूम्रपान किया, लेकिन सब अकेले, ना उसे कोई समाज से लेनादेना था, ना किसी भी दोस्त चाहता था, यहां तक की अपने भाई भी को नहीं।

"उसका यह बर्ताव से मुझे आपत्ति नहीं थी, असल में, उनमें मुझे एक अलग खूबी दिखी, क्योंकि उस समय जब उसने मुझे पहली बार देखा तो मैं बारह या उससे भी कम उम्र का था। यह बात 1878 में होगी, वह उसके आठ या नौ वर्ष बाद भी वहा ही रहे होंगे, इंग्लैंड में । उन्होंने मेरे पिता से आग्रह किया की वह मुझे उसके साथ रहने दे और वह मेरे प्रति बहुत दयालु थे । जब वह शांत रहते थे तो वह मेरे साथ बैकगैमौन और ड्राफ्ट खेलते थे, और वह दोनों नौकरों और व्यापारियों के साथ खेलते वक्त मुझे अपना प्रतिनिधि बना देते थे, इसकारण जब तक मैं सोलह वर्ष का हुआ, मैं घर का मालिक थाl मैंने सभी चाबियाँ रखीं थी और जहां मुझे पसंद आया, मैं जाता था, जो पसंद आए वह कर सकता था, जब तक मैं उसके अकेलापन को हानी नहीं पहुँचाता । हालांकि, इस गुटरगूँ में एक अपवाद था, क्योंकि उसके पास एक कमरा था, जिसमें अटारी के बीच एक लकड़ी का कमरा था, जिसे हमेशा बंद कर दिया गया था, और जिसे वह मुझे या किसी और को प्रवेश करने की अनुमति नहीं देते थे ।एक लड़के की जिज्ञासा के साथ मैंने कीहोल के माध्यम से अंदर देखने की कोशिश की लेकिन मैं कमरे में भीतर रखी पुरानी ट्रंक और बंडलों के संग्रह से अधिक कुछ भी देखने में सफल नहीं हो पाया था।

"एक दिन - मार्च 1883 में से एक - एक विदेशी डाक टिकट वाला एक पत्र कर्नल की प्लेट के सामने मेज पर पड़ा था। उनके लिए पत्र आना यह एक आम बात नहीं थी, क्योंकि उनके बिल पहले ही पैसे की भुगतान करके भर दिए जाते थे और उनका किसी भी तरह का कोई दोस्त नहीं था।

'’भारत से!’' उसने कहा की और वह उस पत्र को ले गएl

'’पांडिचेरी पोस्टमार्क!’’ यह क्या हो सकता है? उस पत्र को खोलने की जल्दबाजी में वहां पड़ी पांच छोटी सूखे नारंगी बींजे उनकी प्लेट पर गिर गए । मैंने इस पर हंसना शुरू कर दिया, लेकिन हंसी उनके चेहरे को देखकर रुक गई l उनके होंठ थरथरा रहे थे, उनकी आंखें फटी की फटी रह गई थीं, उनका चेहरा सफ़ेद पड़ गया था और वह लिफाफे को पढ़ते कांपते हाथ से बोले

'K.K.K.' वे चिल्लाए और फिर बोले, 'मेरे भगवान, मेरे भगवान, मेरे पापों ने आखिर हरा ही दिया है!'

"यह क्या है, चाचा? ' मैंने पूछा l

"मौत," उसने कहा, और मेज से बढ़ते हुए वह अपने कमरे में चला गए, जिससे मुझे वह डरावनी चीज, वह पत्र मिल गया । मैंने लिफाफा उठाया और देखा की अंदरूनी कागज पर लाल स्याही में घिरा हुआ देखा, सिर्फ गम के ऊपर, पत्र के तीन बार बार दोहराया गया था, शब्द 'K' । पांच सूखे बींजो में अब और कुछ नहीं बचा था। उनके इस डर का क्या कारण हो सकता है? मैंने नाश्ते की मेज छोड़ दी और जब मैं सीढ़ी पर चढ़ने लगा, तो मैंने देखा वे एक पुरानी जंग लगी चाभी को पकड़े निचे उतर रहे है, जो शायद उस अटारी की थी जो उनके एक हाथ में थी और दूसरे हाथ में एक कैशबॉक्स की तरह एक छोटा पीतल का बक्सा था l

"वे जो चाहे कर ले लेकिन मैं फिर भी उन्हें मात दे दूंगा'' दावे के साथ उन्होंने कहाl

'’मैरी को बताओ की मुझे मेरे अपने कमरे में एक दो दिन के लिए आग की व्यवस्था करे और हॉर्शम के वकील फोर्डहम को बुलाए ।‘'

"मैंने जैसा आदेश दिया था वैसा किया और जब वकील पहुंचे तो मुझे कमरे में से बाहर जाने के लिए कहा गया।

आग उज्ज्वल जल रही थी, और अग्निजाली में जला हुआ कागज काले राख के रूप में उड़ रहे थे जबकि पीतल के बक्से खुले और उसीके बगल में खाली दिख रहे थे । जैसा की मैंने बॉक्स में देखा, मैंने देखा, उस पर भी शुरुआत के साथ, ढक्कन पर वही शब्द मुद्रित किया गया था जिसे मैंने सुबह लिफाफे पर पढ़ा था।

'मेरे चाचा ने कहा, "मैं चाहता हु जॉन, तुम मेरी वसीहत के गवाह बनोl मैं अपने भाई, तुम्हारे पिता के लिए अपने सभी फायदे और इसके सभी नुकसान के साथ अपनी संपत्ति दे रहा हूँ l अगर आप इसका शांतिप्रिय और अच्छा आनंद ले सकते हैं तो ले लेकिन अगर आपको लगता है की आप नहीं कर सकते हैं, तो मेरी सलाह है ये मेरे लड़के की इसे आप अपने सबसे घातक दुश्मन के पास छोड़ दें। मुझे आपको ये दुविधा में डालने के लिए खेद है, लेकिन मैं यह नहीं कह सकता की आगे क्या होगा । कृपया उस पेपर पर हस्ताक्षर करें जहां श्री फोर्डहम आपको बताए।''

"मैंने निर्देश के अनुरूप में पेपर पर हस्ताक्षर किए, और वकील उसे उसके साथ ले लिया। वह एकमात्र घटना ने, जैसा कि आप सोच सकते हैं, मुझ पर गहरी छाप छोड़ी, मैंने इस पर विचार भी किया और बिना किसी सक्षम हेतु के बगैर मेरे मन को हर तरह बदल दिया। फिर भी मैं डर की अस्पष्ट भावना को हिला नहीं सकता था, जो पीछे छोड़ दिया गया था, हालांकि सप्ताह बीतने के बाद सनसनी कम उत्सुक हो गई और हमारे जीवन की सामान्य दिनचर्या को परेशान करने जैसा कुछ भी नहीं हुआ। हालांकि, मैं अपने चाचा में बदलाव देख सकता था। वह पहले से कहीं ज्यादा पीता थे, और वह किसी भी प्रकार के रोज की भागदौड़ के लिए कम इच्छुक बन गए थे।

उनका अधिकांश समय वह अपने कमरे में बिताते थे, लेकिन कभी-कभी वह ज्यादा शराब पीकर नशे में घर से बाहर निकल जाते थे और अपने हाथ में एक रिवाल्वर के साथ बगीचे के बारे बात करके चिल्लाते थे की वह किसी भी आदमी से डरते नहीं थे, ना मनुष्य से या शैतान से । जब गुस्सा उतर जाता तब भी वह दरवाजे पर घूमते हुए चले जाते और बड़े निर्विकार लगते थे जैसे एक आदमी जो अपनी आत्मा के साथ आतंक के खिलाफ लड़कर शरीर से उसे बाहर करना चाहता हो l इस तरह मैंने जब वो ठीकठाक होते, नमी के साथ चमकते हुए उनका चेहरा देखा है, जैसे अभी अभी मस्त घाटी से आए हो l

"श्री होम्स, अंतमें इस मामले को खत्म करने के लिए और अपने धैर्य का दुरुपयोग न करने के लिए एक रात ऐसी आई जिसने उन्हें उन शराबी सैलियों में से एक बना दिया, जिससे वह कभी वापस नहीं आए । जब हम उनकी खोज पे निकले तो वे हमें एक खराब पूल में नीचे मिले जो बगीचे के ढलान पर स्थित था । किसी भी हिंसा का कोई संकेत नहीं था और पानी दो फीट गहरा था फिर भी जूरी ने उनके ज्ञात सनकीपन को याद रखते हुए 'आत्महत्या' का फैसला सुनाया। लेकिन मैं जानता हु की वह मृत्यु के विचार से किस दौर से गुजर रहे थे l मामला ख़ारिज हुआ और मेरे पिता को संपत्ति मिली और कुछ 14,000 पाउंड की पूंजी जो उनके नामसे बैंक में थी l

''एक मिनिट " होम्स ने हस्तक्षेप किया, "आपका बयान सबसे उल्लेखनीय है, जिसे मैंने कभी नहीं सुना है। मुझे आप वो पत्र मिलने की और उसकी आत्महत्या की तारीख बताइये "होम्स ने पूछाl

"यह पत्र 10 मार्च, 1883 को मिला था । उनकी मृत्यु सात सप्ताह बाद, 2 मई की रात को हुई थी।"

"धन्यवाद। आगे बताए।"

"जब मेरे पिता ने हॉर्शम की संपत्ति पर कब्जा कर लिया, तो उसने मेरे अनुरोध पर, अटारी की सावधानीपूर्वक जांच की, जिसे हमेशा बंद कर दिया गया था। हमें वहां पीतल का बक्सा मिला, हालांकि इसकी सामग्री नष्ट हो गई थी। कवर एक पेपर लेबल था, जिसमें 'K.K.K.' के शुरुआती दिनों में बार-बार लिखा गया था, और 'पत्र, ज्ञापन, प्राप्तियां, और एक रजिस्टर' नीचे लिखा गया था।

ये, हम मानते हैं की कर्नल ओपनशॉ द्वारा नष्ट किए गए कागजात उनके जिंदगी से जुड़े थे l बाकी अटैच में अमेरिका में मेरे चाचा के कई बिखरे हुए कागजात और नोट-बुक थे जो शायद उनके लिए महत्वपूर्ण नहीं थे । उनमें से कुछ युद्ध के समय थे और दिखाते हैं की उन्होंने अपना कर्तव्य अच्छा किया है और एक बहादुर सैनिक के प्रतिष्ठा का जन्म हुआ था। अन्य दक्षिणी राज्यों के पुनर्निर्माण के दौरान एक तारीख के थे, और ज्यादातर राजनीति से जुड़े हुए थे, क्योंकि उन्होंने स्पष्ट रूप से उत्तर से नीचे भेजे गए कालीन-बैग राजनेताओं का विरोध करने में एक मजबूत भूमिका निभाई थी।

"ठीक है, यह '84 की शुरुआत थी जब मेरे पिता हॉर्शम में रहने आए थे, और सभी हमारे साथ 85 जनवरी तक भी साथ थे। नए साल के चौथे दिन मैंने सुना की मेरे पिता बहोत आश्चर्य चकित हुए क्योंकि हम नाश्ते की मेज पर एक साथ बैठे थे। वहां वह एक हाथ में एक नए खुले लिफाफे के साथ बैठा थे और दूसरे के बाहर की हथेली में पांच सूखे नारंगी बींजे थी।वह हमेशा कर्नल के बारे में मेरी मुर्गा-और-तेरा बैल की कहानी बताता थे, लेकिन इसबार वह बहुत डरा लग रहा था और अब परेशान था की वही बात खुद पर आ गई थी।

"'क्यों, पृथ्वी पर इसका मतलब क्या है, जॉन?' वह हकलाया

"मेरा दिल जोर से धड़क रहा है 'यह 'K.K.K. है,' मैंने कहा।

उसने लिफाफे के अंदर देखा। ''तो यह है'' वह बोला। ''ये बहुत सारे पत्र हैं। लेकिन यह उनके ऊपर क्या लिखा है?'

''कागजात को रौशनी में लाओ'' उसके कंधे पे झुकते हुए मैंने पढ़ा।

"क्या कागजात? क्या रौशनी?" उसने पूछा।

"बगीचे में की धूप और कुछ नहीं है लेकिन कागजात नष्ट हो गए हैं। 'मैंने कहाl

'ओह!' हम यहां एक गंभीर भूमिका में हैं और हम इस तरह की बचपना नहीं कर सकते हैं। ये कहा से आया है?'' उन्होंने कहा

"डुंडी शहर से," मैंने पोस्टमार्क पर नजर मारते हुए जवाब दिया

"कोई बेवकूफ व्यावहारिक मजाक है," उन्होंने कहा। 'मुझे धूपकडी और कागजात के साथ क्या करना है? मुझे इस तरह के बकवास का कोई नोटिस नहीं देगा ।'

मैंने कहा, "हमें निश्चित रूप से पुलिस से बात करनी चाहिए।"

‘'और कोई मेरे दर्द के लिए हँसे । इस तरह का कुछ भी नहीं।'

‘'तो मुझे ऐसा करने दो?'

"नहीं, मैं तुम्हें मना करता हूं। मुझे इस तरह के बकवास के बारे में कोई झगड़ा नहीं करना'’

"यह उनके साथ बहस करना व्यर्थ था, क्योंकि वह बहुत ही कठोर व्यक्ति थे । हालांकि, दूसरी और मैं एक भविष्य का आगाज देते दिल की बात सुन रहा थाl

"पत्र के आने के तीसरे दिन मेरे पिता घर से निकल गए, मेजर फ्रीबॉडी के पुराने दोस्त, जो पोर्ट्सडाउन हिल पर एक किले की कमान में है। मुझे खुशी है की उसे जाना चाहिए क्युकी मुझे लगता था की वह घर से दूर होने पर खतरे से बच सकता थे l उसमें, हालांकि, मैं गलती मेरी थी l उनकी अनुपस्थिति के दूसरे दिन मुझे प्रमुख से एक टेलीग्राम मिला, मुझे एक बार आने के लिए प्रेरित किया। मेरे पिता पड़ोस में घिरे गहरे चाक-गड्ढे में से एक पर गिर गए थे, और एक बहकी बहकी बाते कर रहे थे। मैं जल्दी उनके पास गया, लेकिन वह उसी हालत में चल बसे । जैसा की प्रतीत होता है, वह शाम को फारेहम से लौट रहे थे, वह जगह उनके लिए अनजान थी और चाक-गड्ढा में जा गिरेl जूरी को 'आकस्मिक कारणों से मौत' के फैसले को लाने में कोई हिचकिचाहट नहीं थी। सावधानी से मैंने अपनी मृत्यु से जुड़े हर तथ्य की जांच की, मैं कुछ भी ढूंढने में असमर्थ था जो हत्या के विचार का सुझाव दे सकता था। हिंसा का कोई संकेत नहीं था, कोई निशान नहीं, कोई चोरी नहीं, सड़कों पर अजनबियों का कोई रिकॉर्ड नहीं देखा गया था।

और फिर भी मुझे आपको यह बताने की ज़रूरत नहीं है की मेरा दिमाग इन सब से दूर था, और मैं निश्चित रूप से जानता था की उनके चारों ओर कुछ गलत साजिश बुनाई गई थी।

"इस भयावह तरीके से मैं अपनी वजूद में आया था। आप मुझसे पूछोगे की मैंने इसका ढोल क्यों नहीं पीटा? मैं जवाब देता हूं, क्योंकि मैं अच्छी तरह से आश्वस्त था की हमारी समस्याएं मेरे चाचा के जीवन में किसी घटना पर निर्भर थीं, और खतरे एक बात में दूसरे बात के रूप में दबाने जैसा होता ।

"जनवरी '85 की बात है, की मेरे गरीब पिता चल बसे उसे दो साल और आठ महीने बीत चुके थे । उस समय के दौरान मैं हॉर्शम में खुशी से रहता हूं, और मैंने आशा की थी की यह सारे दुःख आखिरी पीढ़ी के साथ खत्म हो गया है । हालांकि, मैंने बहुत जल्द आराम करना शुरू कर दिया था, हालांकि, कल सुबह सुबह बहुत ही ये गाज मुझपर आकर गिरी जैसे मेरे पिता पर आई थी ।"

युवक ने अपनी कमर से एक मोड़ा हुआ लिफाफा निकला और मेज पर मोड़कर उसने पांच छोटे सूखे नारंगी बींजो पर रख दिया।

"यह लिफाफा है," उसने आगे कहा। "यह पोस्ट लंदन - पूर्वी प्रभाग से है। भीतर के शब्द मेरे पिता के आखिरी संदेश पर थे: 'K.K.K.; और फिर लिखा है 'धूपकड़ी पर कागजात रखो।'"

"आपने क्या किया?" होम्स से पूछा

"कुछ भी तो नहीं।"

"कुछ भी तो नहीं?"

"सच्चाई बताने के लिए" - उसने अपना चेहरा अपने हाथों में छुपा दिया - "मुझे असहाय महसूस हुआ है। मुझे उन गरीब खरगोशों में से एक की तरह महसूस हुआ है जब सांप को देखकार विवश महसूस कर रहा है । मुझे समझ में आता है कुछ प्रतिरोधी, अनजान बुराई है जो कोई दूरदर्शिता में नहीं दिख रही और शायद उससे कोई सावधानी भी बरती नहीं जा रही है।"

"कृपया धीरज रखे!" शेरलॉक होम्स बोला । आप खो गए हैं लेकिन आपको हिंमत रखनी चाहिए, उम्मीद के अलावा कुछ भी आपको नहीं बचा सकता है। यह निराशा के लिए समय नहीं है।"

"मैंने पुलिस को देखा है।"

"आह!"

"लेकिन उन्होंने एक मुस्कुराहट के साथ मेरी कहानी सुनी। मुझे विश्वास है की इंस्पेक्टर ने राय बनाई है की पत्र सभी व्यावहारिक चुटकुले हैं, और मेरे संबंधियो की मौते वास्तव में दुर्घटनाएं थीं, क्योंकि जैसे की जूरी ने कहा था के उनका चेतावनीओ से कोई संबंध नहीं है l

होम्स ने हवा में अपने हाथों को हिलाया और नाराजी से कहा "अविश्वसनीय अयोग्यता!"

"उन्होंने मुझे एक पुलिसकर्मी की अनुमति दी है, जो मेरे साथ घर में रह सकता है।"

"क्या वह तुम्हारे साथ रात में आया है?"

"नहीं। उनके आदेश से उसे घर में रहना था।"

फिर होम्स सोच में पड़ गयाl

वह बोला, "तुम मेरे पास क्यों आए हो और सबसे मुख्य बात आप इसके पहले क्यों नहीं आए?"

"मुझे नहीं पता था। यह केवल आज था जब मैंने मेजर प्रिंडर्गास्ट से मेरी परेशानियों के बारे में बात की और उसे आपके पास आने के लिए सलाह दी गई।"

"आपको पत्र मिले हुए दो दिन हो चुके हैं। हमें इससे पहले कार्य करना चाहिए था। मुझे लगता है की आपके सामने जो कुछ भी है, उसके मुकाबले आपके पास कोई सबूत नहीं है - कोई सुझाव देने वाला विवरण जो हमारी मदद कर सकता है?"

जॉन ओपनशॉ ने कहा, "एक बात है।" वह अपनी कोट जेब में हाथ डाला और एक विकृत, नीले रंग के पेपर के टुकड़े को खींचकर, उसने टेबल पर रख दिया। उन्होंने कहा, "मुझे कुछ याद है," उस दिन जब मेरे चाचा ने कागजात जला दिए, मैंने देखा की राख के बीच रखे छोटे, असंतुलित अंश इस विशेष रंग के थे। मुझे अपने कमरे के तल पर यह सिंगल शीट मिली, और मुझे लगता है की यह उन कागजात में से एक हो सकता है, जो शायद दूसरों के बीच से निकल गए हैं और इस तरह से उस विनाश से बच निकला है। बींजो के उल्लेख से परे, मुझे नहीं लगता की यह हमें बहुत मदद कर सकता है। मुझे लगता है की यह कुछ निजी डायरी से एक पृष्ठ है। लेखन निस्संदेह मेरे चाचा का है। "

होम्स ने दीपक को स्थानांतरित कर दिया, और हम दोनों पेपर की तरफ झुक गए, जो की अपने घिरे किनारे से दिखाया गया था की यह वास्तव में एक किताब से फेंक दिया गया था।

उसपे लिखा था,

"मार्च, 1869," और नीचे निम्नलिखित गूढ़ नोटिस थे:

"चौथा हडसन आया। वही पुराना मंच।

"7 वें। सेंट ऑगस्टीन के मैककॉली, पैरामोर और जॉन स्वैन पर पिप्स सेट करें।

"9वीं। मैककॉली ने मंजूरी दे दी।

"10 वें जॉन स्वैन ने मंजूरी दे दी।

"12 वीं। परमोर का दौरा किया। सब ठीक है।"

"धन्यवाद!" होम्स ने ऐसा कहा और वह कागज को मोड़कर उसे लौटा दिया

''और अब आपको किसी भी बात को मुझसे दबाए नहीं रखना चाहीए, आपने जो कुछ कहा है, उस पर चर्चा करने के लिए हम समय भी नहीं हैं। आपको तुरंत घर जाना चाहिए और कार्य करना चाहिए।"

"मैं क्या करूँ?"

"एक काम करना है। इसे एक बार में किया जाना चाहिए। आपको इस टुकड़े उस पीतल के बक्से में रखना होगा जिसे आपने वर्णित किया है। आपको यह सुनिश्चित करना होगा की अन्य सभी आपके चाचा द्वारा कागजात जला दिए गए थे, और यह एकमात्र ऐसा कागज है जो आपके पास है। आपको ये दृढ़ विश्वास के साथ करना है । ऐसा करने के बाद, आपको एक बार निर्देश के अनुसार, बॉक्स को बाहर धुपकड़ी में रखना होगा। क्या आप समझे?"

"पूरी तरह से।"

"बदला लेने के बारे में मत सोचो, या इस तरह के कुछ भी, वर्तमान में। मुझे लगता है की हम कानून के माध्यम से इसे प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन हमें हमारा जाल बुनना होगा जबकि उनका पहले से ही बुना हुआ है। पहला विचार है की इसे खतरे को हटाना जो आपको धमकाता है। दूसरा रहस्य को पर्दाफाश करना और दोषी दलों को दंडित करना है।"

"मैं आपको धन्यवाद देता हूं, "आपने मुझे ताजा जीवन और आशा दी है। जैसा की आप सलाह देते हैं मैं निश्चित रूप से करूँगा।" युवा लड़के ने कहा और अपने ओवरकोट लेने के लिए बढ़ा

"कोई भी छोटी से छोटी बात भी नजरअंदाज मत करना । सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है की इस बीच अपने आप का ख्याल रखना, क्योंकि मुझे नहीं लगता की इसमें कोई संदेह हो सकता है कि आपको बहुत ही वास्तविक और अजीब खतरे से धमकी दी जाती है। आप वापस कैसे जाएंगे?"

"वाटरलू से ट्रेन द्वारा।"

"अभी तक नौ नहीं बजे है। सड़कों पर भीड़ होगी, इसलिए मुझे भरोसा है की आप सुरक्षित है और वैसे भी आप अपने आप को सब चीजों से तो नहीं बचा सकते।"

"मैं सशस्त्र हूं।"

"यह ठीक है। कल मैं आपके मामले पर काम करने के लिए तैयार हो जाऊंगा।"

"तो क्या आप हॉर्शम में आएंगे?"

"नहीं, आपका रहस्य लंदन में है। मैं वही इसे खोजूंगा।"

"तब मैं आपको एक दिन में, या दो दिनों में, बॉक्स और कागजात के रूप में समाचार के साथ बुलाऊंगा। मैं आपकी हर सलाह मानूंगा ।"

उसने हमारे साथ हाथ हिलाकर बिदा ली। हवा की अभी झनझनाहट चल रही थी और बारिश की थपेड़े खिड़कियों पे आ टकरा रही थी l एक अजीब, जंगली कहानी इन पागल तत्वों के बीच से हमारे पास आ गई थी - जैसे तूफान आंधी में कोई समंदर कोई लहर उड़कर आती हो और जिसे हमें अब एक बार फिर से पुन: स्थापित करने में मदद करनी हो l

"मुझे लगता है, वाटसन," उन्होंने आखिरकार टिप्पणी की, "हमारे सभी मामलों में से हमारे पास इससे कहीं अधिक शानदार मामला नहीं है।"

“अच्छा, हाँ। शायद उसे छोड़कर। और फिर भी यह जॉन ओपनशो मुझे शोल्टोस से ज़्यादा बड़े जोखिम में नज़र आ रहा है।”

“क्या आपने,” मैंने पूछा, “वो किस तरह के ख़तरे है उसे लेकर कोई स्पष्ट धारणा बनाई है?”

“इन जोखिम के प्रकार को लेकर तो कोई सवाल ही पैदा नहीं होता,” उन्होंने जवाब दिया।

“फिर वे क्या है? कौन है यह के॰ के॰ के॰, और क्यूँ वो इस बदकिस्मत परिवार के पीछे पड़ा है?”

“शेरलॉक हॉम्ज़ ने अपनी आँखें बंद की और अपने दोनो हाथों की उँगलियो को जोड़े हुए, अपनी कुहनिया कुर्सी के हत्थे पे टिकाई। “आदर्श तर्क करने वाला ”, उन्होंने कहा, “वह होगा, जब उसे एक अकेला तथ्य अपने पूरे अभिप्राय में दिखा दिया गया हो, तो उससे ना मात्र घटना की शृंखला अनुमानित कर पाए जिससे बात यह तक पहुँची है, बल्कि वह सारे परिणाम भी तर्क से पता लगाए जो आगे इससे निपजेंगे। जैसे क्यूविए एक हड्डी को ध्यान से देख के पूरे जानवर का वर्णन कर पाते थे, वैसे ही अवलोकनकारी को, जिसने वारदात के सिलसिले की कड़ियों में किसी एक को अच्छे से समझ लिया हो, वह बाक़ी की सारी कड़ियों के बारे में, पहले की और बाद की, सही ढंग से बता पाएगा, हम अभी उन परिणामों को नहीं समझ पाए है जिसे अकेला तर्क ही सिद्ध कर सकता हो। जिस समस्या ने पाँच इंद्रियों से सुलझाने की कोशिश में अच्छो अच्छो को बौखला दिया हो उसे जाँच से सुलझाया जा सकता है। कला को अपनी उच्चतम चोटी पे निभाने के लिए, हालाँकि, यह ज़रूरी है कि तर्क करने वाला उन सारे तथ्यों का इस्तेमाल कर पाए जो उसकी जानकारी में आए है, और यह अपने आप में सूचित करता है, जैसा कि तुम तुरंत देखोगे, कि हरेक ज्ञान का आधिपत्य, जो कि, इन मुक्त शिक्षा और संदर्भ ग्रंथो के दिनों में भी, किसी हद तक विरल सिद्धि है। यह असम्भव नहीं है, यद्यपि, कि कोई इंसान वो सारा ज्ञान प्राप्त कर ले जो उसके काम में उपयोगी हो, और मैंने अपने बारे में यह करने का प्रयास किया है। अगर मुझे ठीक से याद है तो, एक बार तुमने, हमारी दोस्ती के शुरुआती दिनों में, मेरी मर्यादाओं को बहुत ही सटीक तरीक़े से आँकी थी।”

“हाँ,” मैंने हँसते हुए जवाब दिया। वह एक अनूठा दस्तावेज़ था। मुझे याद है दर्शनशास्त्र, राजनीति शास्त्र और खगोल विद्या में शून्य अंकित किया गया था। वनस्पतिशास्त्र अस्थिर, शहर से ५० मिल के घेरे में कहीं के भी कीचड़ का दाग़ पहचान लेने के सम्बंध में भूविज्ञान पारंगत, रसायनशास्त्र विलक्षण, शरीर रचना विज्ञान बेढंगा, सनसनीख़ेज़ साहित्य और अपराध के रेकर्ड्ज़ अद्वितीय, वाइयलिन वादक, मुक्केबाज़, तलवारबाज़, वक़ील, और तम्बाकू तथा कोकेन से ख़ुद को ज़हर देने वाला। यह सब, मैं मानता हुँ, मेरे विश्लेषण के मुख्य मुद्दे थे।

हॉम्ज़ आख़री मुद्दे पे हंस दिए। “अच्छा,” उन्होंने कहा, “मैं अब भी कहता हु, जैसा मैंने तब कहा था, इंसान को अपने दिमाग़ की अटारी उस सारे असबाब से भर के रखनी चाहिए जिसका वो सम्भवित इस्तेमाल करने वाला हो, और बाक़ी का वो पुस्तकालय के कबाड़ख़ाने में रख सकता है जहाँ से वो उसे जब चाहे पा सके। अब, ऐसे केस के लिए जो आज रात हमें पेश किया गया है, हमें निश्चित रूप से चाहिए कि हम सारे संसाधन एकत्रित कर ले। कृपया, विश्वकोश का के॰ अक्षर उतार के मुझे दो, जो तुम्हारे पास की ताक़ पे पड़ा है। धन्यवाद। अब चलो हम परिस्थिति पर ग़ौर करते है और देखते है कि हम उससे क्या निष्कर्ष निकाल सकते है।सबसे पहले, हम इस अनुमान से शुरू कर सकते है कि कर्नल ओपनशॉ के अमरीका छोड़ने के पीछे कोई बहुत बड़ा कारण रहा होगा। उनकी उम्र के आदमी अपनी मर्ज़ी से अपनी आदतें नहीं बदलते और अपनी मर्ज़ी से मनोहर फ़्लोरिडा के जीवन के बदले में लंदन के एक प्रांतिक शहर के एकाकी जीवन को नहीं चुनते। उनका इंग्लंड में एकाकीपन के प्रति इतना लगाव, यह जताता है कि वे किसी व्यक्ति या किसी बात से डरे हुए थे, सो हम इस बात को कामचलाऊँ अवधारणा मान के चल सकते है कि किसी व्यक्ति या किसी बात का डर ही था जिसने उनको अमरीका से निकलने को मजबूर किया। रही बात इसकी कि वो क्या था जिससे वो डरते थे, तो हम उनको मिले डरावने ख़तों को कारण मान सकते है जो उन्हें और उनके उत्तराधिकारी को प्राप्त हुए। क्या तुमने उन ख़तों पर लगे पोस्ट्मार्क पे ग़ौर किया?”

“पहला पोंडिचेरी से था, दूसरा डंडी से, और तीसरा लंदन से।”

“पूर्विय लंदन से। इन बातों से तुम क्या नतीजा निकालते हो?”

“ये सारे बंदरगाह है। मतलब इन ख़तों का लिखने वाला किसी जहाज़ पर था।”

“बहुत ख़ूब। हमारे पास पहले से ही एक सुराग़ है। इस बात में कोई शक नहीं है कि यह संभावना—बहुत मज़बूत संभावना—है कि लिखने वाला जहाज़ पे था। अब चलों दूसरे मुद्दे पे ग़ौर करते है। पोंडिचेरी के केस में धमकी और अमल के बीच में सात हफ़्ते बीतते है, डंडी में सिर्फ़ तीन या चार दिन। क्या यह कुछ इंगित करता है?”

“सफ़र के लिए लम्बा अंतर”

“परंतु ख़तों को भी उतना ही अधिक अंतर तय करना था पहुँचने के लिए।”

“फिर मुझे मुद्दा नज़र नहीं आ रहा।”

“कम से कम एक अनुमान तो बाँध सकते है कि जहाज़ जिसमें यह आदमी आया या ये आदमी आए वो एक माल वाहक जहाज़ था। ऐसा लगता है कि वे हमेशा मिशन पे निकलने से पहले अपनी अजीब चेतावनी भेजते थे। तुमने ध्यान दिया कि संकेत मिलने के कितनी तुरंत बाद काम को अंजाम दिया गया जब डंडी की बात आइ। अगर वो पोंडिचेरी से स्टीमर में आते तो वो ख़त के साथ साथ ही पहुँचते। पर वास्तव में सात हफ़्ते बीत गए। मुझे लगता है कि वो सात हफ़्ते मेल बोट जिसमें की ख़त आया और मालवाहक जहाज़ जो लिखने वाले लाया उसके बीच का अंतर दर्शाते है।”

“यह संभव है।”

“उससे भी अधिक। यह मुमकिन है। अब तुम समझते हो यह नया केस क्यूँ प्राणघाती रूप से अत्यावश्यक है, और क्यूँ मैंने युवा ओपनशॉ को सावधानी बरतने को कहा। वार हमेशा ख़त भेजने वाले के सफ़र के अंत में हुआ है। पर यह ख़त लंदन से आया है, और इसलिए हम विलंब नही कर सकते।”

“अरे ईश्वर,” मैं बोल पड़ा। “इसका क्या अर्थ हो सकता है, यह अनवरत अत्याचार।”

“ज़ाहिर है कि वो काग़ज जो ओपनशॉ ले के चल रहा है वह मालवाहक जहाज़ में चलने वाले लोगों के लिए अत्यधिक महत्व के है। मुझे लगता है यह बिलकुल स्पष्ट है कि यह काग़ज़ात एक से ज़्यादा होने चाहिए। एक अकेला आदमी इस क़दर दो मौत को अंजाम नहीं दे सकता है कि मृत्यु समीक्षक धोखा खा जाए। वे कई सारे होने चाहिए और बहुत संसाधन और दृढ़ निश्चय वाले लोग होने चाहिए। उनको अपने काग़ज़ात चाहिए चाहे वो किसी के भी पास क्यूँ ना हो। इस तरह से के॰ के॰ के॰ किसी एक व्यक्ति के प्रथमाक्षर ना रह के किसी एक संस्था का चिह्न बन जाता है।”

“पर कौन सी सॉसायटी?”

“क्या तुमने कभी—,” शेरलॉक हॉम्ज़ ने आगे झुकते हुए और अपनी आवाज़ को गहराते हुए कहा—“क्या तुमने कभी कु क्लक्स क्लान के बारे में नहीं सुना?

“मैंने कभी नहीं सुना।”

हॉम्ज़ ने अपने घुटनो पे पड़ी किताब के पन्ने पलटे। “ये रहा,” उन्होंने झटपट कहा।

“‘कु क्लक्स कलान। नाम जो कि राइफ़ल का घोड़ा चढ़ाने की आवाज़ से भावित साम्य से जन्मा है। यह भयानक गुप्त संस्था गृह युद्ध के बाद किसी भूतपूर्व संघी सैनिक के द्वारा दक्षिण के राज्य में स्थापित की गई, और जल्द ही देश के विभिन्न हिस्सों में इसकी स्थानिक शाखायें स्थापित होने लगी, विशेषकर टेनेसी, लूईज़ीआन, केरोलिना, ज्योरजिया और फ़्लोरिडा। इसकी सत्ता को राजनैतिक रूप से प्रयोग में लाया जाता था, ज़्यादातर निग्रो मतदाताओं को भयभीत करने के लिए और जो इस नज़रिए का विरोध करे उसे देश से खदेड़ देने के लिए या उसकी हत्या कर देने ले लिए। इनके अत्याचार से पहले, जो निशाने पर होता था उसे एक ऊटपटाँग मगर परिचित स्वरूप में चेतावनी जारी होती थी—कुछ हिस्सों में ओक के पेड़ की टहनी, और दूसरे हिस्सों में ख़रबूज़े या संतरे के बीज। इसके मिलने पर शिकार व्यक्ति या तो खुले आम औपचारिक रूप से अपने नज़रिए का त्याग करता था या देश छोड़ कर भाग खड़ा होता था। अगर वो ज़रा सी भी बहादुरी दिखाता था तो निश्चित रूप से उसे मौत आनी थी, और अक्सर बड़े विचित्र और अप्रत्याशित तरीक़ों से। संस्था का संगठन इतना सही था, और इसके तरीक़े इतने सुनियोजित कि शायद ही कोई व्यक्ति था जो बहादुरी दिखा के बच निकलने में सफल रहा हो, और जिसमें तहक़ीक़ात के दौरान अत्याचार के निशान अपराधी तक पहुँचे हो। अमरीकी सरकार और दक्षिण की बेहतर बिरादरी के प्रयासों के बावजूद कुछ सालों तक यह संस्था ख़ूब फली। आख़िरकार, सन १८६९ में, इस आंदोलन का पतन हुआ, ऐसा होने पर भी इसी तरह के छुट-पुट हंगामे होते रहे है।”

“तुम देखोगे,” किताब को नीचे रखते हुए हॉम्ज़ ने कहा, “कि संस्था का अचानक से बिखर जाना और ओपनशॉ का अमरीका से उनके सारे काग़ज़ात ले के ग़ायब हो जाना संयोगिक है। यह कार्य कारण भी हो सकता है। यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि उनके और उनके परिवार के पीछे यह निर्दयी लोग लगे हुए है। तुम समझ सकते हो कि यह रजिस्टर और डायरी दक्षिण के कुछ शुरुआती लोगों की तरफ़ इशारा कर सकती है, और बहुत से लोग होंगे जो तब तक चैन की नींद नहीं सोएँगे जब तक कि इसे वापिस हाँसिल न कर ले।”

“मतलब जो पन्ना हमने देखा—”

“वो वैसा ही है जिसकी हम उम्मीद करते है। उस पर लिखावट कुछ ऐसी थी, अगर मुझे सही से याद है तो, ‘ए॰, बी॰, सी॰ को बीज भेजें—मतलब इनको संस्था की चेतावनी भेजी गई। फिर उसमें एक के बाद एक प्रविष्टि थी कि ए॰ और बी॰ साफ़ कर दिए गए, और देश छोड़ चले गए, और आख़िरी में लिखा था कि सी॰ की मुलाक़ात ली गई, जिसमें मुझे डर है कि सी॰ के लिए परिणाम अशुभ रहा। अच्छा, मुझे लगता है, डॉक्टर, कि इस अंधेरे केस पे हमने कुछ रोशनी तो डाली है और इस दौरान ओपनशॉ के पास एक मात्र चारा यहीं है कि वो वहीं करे जो मैंने उसे करने को बोला। इससे ज़्यादा आज रात कुछ कहने या करने को नहीं है, सो मुझे मेरा वाइयलिन बढ़ाओ और चलो आधे घंटे के लिए हम इस अभागे मौसम को और उससे भी ज़्यादा अभागे हमारे साथी जनो के तौर तरीक़ों को भूलने की कोशिश करें ”

सुबह मौसम साफ़ था, और सूरज झिने घूँघट की ओट से, जो कि शहर पे टंगा था, मंद मंद चमक रहा था। शेरलॉक हॉम्ज़ पहले से ही नाश्ते पे बैठे हुए थे जब मैं नीचे पहुँचा।

“तुम मुझे माफ़ करना मैंने तुम्हारा इंतेज़ार नहीं किया,” उन्होंने कहा, जैसा कि मैं देख रहा हु आज युवा ओपनशॉ के केस की छानबीन में मेरा दिन काफ़ी व्यस्त गुज़रने वाला है।”

“आप क्या क़दम उठाओगे?” मैंने पूछा।

“यह काफ़ी हद तक निर्भर करता है मेरी शुरुआती पूछताछ के परिणाम पर। आख़िरकार मुझे होरशम भी जाना पड़े।”

“आप वहाँ पहले नहीं जाओगे?”

“नहीं, मैं शहर से शुरुआत करूँगा। सिर्फ़ घंटी बजा दो और नौकरानी तुम्हारे लिए कॉफ़ी ले आएगी।”

राह देखते देखते मैंने टेबल पे पड़ा अख़बार उठा लिया जो खुला ही नहीं था और उसपे नज़रें दौड़ाई। एक शीर्षक पर मेरी नज़र ठहरी और मेरे हृदय में एक शीत लहर दौड़ गई।

“हॉम्ज़,” मैं चिल्लाया, “आपने देरी कर दी”

“आह!” उन्होंने अपना कप नीचे रखते हुए कहा, मुझे इस बात का डर था। कैसे किया गया?” वे काफ़ी संयत सवार में बोले पर मैं देख पा रहा था कि वो काफ़ी विचलित थे।

“मेरी आँखों ने ओपनशॉ नाम पकड़ लिया, और शीर्षक ‘वोटरलू तालाब के पास हादसा।’ यह रहा विवरण:

“कल रात नौ से दस के बीच में एच॰ प्रभाग के पुलिस कान्स्टेबल कूक ने, जो कि वोटरलू तालाब के पास फ़र्ज़ पे थे, मदद की बुहार और फिर पानी में छपाक की आवाज़ सुनी। रात, हालाँकि, बहुत ही अंधेरी और तूफ़ानी थी, यहाँ तक कि आस पास से गुज़रने वालो की मदद के बावजूद बचाव कार्य हो ना पाया।हालाँकि, चेतावनी जारी की गई और जल-पुलिस की मदद से आख़िरकार लाश को निकाला गया। लाश एक युवा सज्जन की साबित हुई जिसका नाम, उसकी जेब से निकले लिफ़ाफ़े के मुताबिक़ जॉन ओपनशॉ था, और जिसका घर होरशम के क़रीब था। ऐसा अनुमान लगाया गया कि वोटरलू स्टेशन से आख़री ट्रेन पकड़ने की जल्दी में भाग रहा होगा, इतनी जल्दी में और घने अंधेरे में वो रास्ता चूक गया और नदी की स्टीमबोट खड़े करनी की जगह (तटबंध) के किनारे से गिरा होगा। लाश पर हिंसा के कोई निशान नहीं थे, और इस बात में कोई शक की गुंजाइश नहीं थी कि यह व्यक्ति दुर्घटना का शिकार हुआ था, जिसकी असर इतनी सी होनी थी कि प्राधिकारीयों का नदी किनारे के तटबंध के मचान की हालत की तरफ़ ध्यान जाना था।”

हम कुछ देर सन्नाटे में बैठे रहे, हॉम्ज़ जितने खिन्न और विचलित थे उतने मैंने उन्हें आज तक कभी नहीं देखा था।

“यह मेरे ग़ुरूर को ठेस पहुँचाता है, वॉटसन,” आख़िरकार वो बोले। निशंक: यह काफ़ी तुच्छ अहसास है, मगर यह मेरे ग़ुरूर को ठेस पहुँचाता है। अब यह मेरे लिए निजी मामला बन गया है, और, अगर भगवान मुझे भला चंगा रखते है, मैं इस गिरोह को पकड़ के रहूँगा। वो मेरे पास मदद माँगने आया था, और मैंने उसे मौत के मुँह में धकेल दिया—!” वो अपनी कुर्सी से लपके और बेक़ाबू आवेश के साथ कमरे में चक्कर काटने लगे, उनके फीके गालों पर तमतमाहट थी और वे दोनो लम्बे पतले हाथ परेशानी से बाँध-खोल रहे थे।

“वे लोग कपटी नर-पिशाच रहे होंगे,” आख़िर उन्होंने चिल्लाकर कहा। “वहाँ जाने ले लिए उन्होंने झाँसा कैसे दिया होगा? वो तटबंध स्टेशन के रास्ते में नहीं पड़ता। ऐसी रात को भी पुल, निश्चित ही, उनके प्रयोजन के लिए तो भीड़ भरा ही था। अच्छा वॉटसन हम देखेंगे की आख़िरकार कौन जीतता है। अभी तो मैं बाहर जा रहा हुँ।”

“पुलिस के पास?”

“नहीं, मैं अपनी पुलिस ख़ुद रहूँगा। जब मैंने जाल बून लिया होगा तब वे आ के शिकार को पकड़ सकते है, उसके पहले नहीं।”

पूरा दिन मैं अपने व्यवसायिक काम मैं व्यस्त रहा और मुझे बेकर स्ट्रीट आते आते शाम हो गई। शेरलॉक हॉम्ज़ अब भी नहीं लौटे थे। उनके थके माँदे घर आने के पहले लगभग दस बजने को थे। वे अलमारी की तरफ़ बढ़े, और पाव रोटी से एक टुकड़ा तोड़ कर भुक्कड की तरह भकोसने लगे, पानी के घूँट के साथ उसे नीचे उतारते हुए।

“तुम भूखे हो,” मैंने कहा।

“भूख से मर रहा हु। मेरे ध्यान से ही यह बात निकल गई कि मैंने नाश्ते के बाद से कुछ नहीं खाया है।”

“कुछ भी नहीं”

“एक कौर भी नहीं। मेरे पास इसके बारे में सोचने का वक़्त ही नहि था।”

“और आप कितने सफल रहे?”

“भली भाँति”

“तुम्हारे पास सुराग़ है?”

“सुराग़ मेरी मुट्ठी में है। युवा ओपनशॉ लम्बे समय तक बिना बदले के नहीं रहेगा। क्यूँ, वॉटसन, चलो हम उनका शैतानी ट्रेड्मार्क उन्ही पर लगाते है। यह अच्छे से सोचा गया है!”

“आपका मतलब क्या है?”

उन्होंने अलमारी से एक संतरा उठाया, और उसको नोच कर, टुकड़े करके उन्होंने उसके बीज मेज़ पर निचोड़े। उन में से पाँच बीज उठाए और एक लिफ़ाफ़े में डाले। लिफ़ाफ़े के अंदर के हिस्से में उन्होंने लिखा “जे॰ ओ॰ के लिए एस॰ एच॰” फिर उसे सील किया और पता लिखा, “कैप्टन जेम्स कैल्हून, बार्क लोन स्टार, सवाना, ज्योरजिया।”

“जब वो बंदरगाह में प्रवेश करेगा तो उसे यह इंतेज़ार करता हुआ मिलेगा,” वे दबी हँसी हँसे। यह उसकी रात की नींद छिन लेगा। वो इसे बिलकुल वैसे ही अपने भाग्य का शगुन पाएगा जैसा कि उसके पहले ओपनशॉ ने पाया था।”

“और यह कैप्टन कैल्हून कौन है?”

“गिरोह का मुखिया। मैं दूसरों को भी ठिकाने लगाउँगा पर पहले यह।”

“फिर आपने इसका पता कैसे लगाया?”

उन्होंने अपनी जेब से एक लम्बा काग़ज़ निकाला जो पूरी तरह से दिनांक और नामों से भरा था।”

“मैंने पूरा दिन गुज़ारा,” उन्होंने कहा, “लोयड के रजिस्टर और पुराने दस्तावेज़ों की फ़ाइल पे, और सन ८३ की जनवरी और फ़रवरी में पोंडिचेरी से गुज़रने वाले हर जहाज़ के आगे के चलन का अभ्यास किया। अच्छा ख़ासा समान लादे हुए कुल छत्तीस जहाज़ थे जो इन दो महीनो में पोंडिचेरी बंदरगाह पे रुके थे। इनमे से, एक, लोन स्टार, ने तुरंत ही मेरा ध्यान आकर्षित किया, क्यूँकि, भले ही वह लंदन से निकल चुका था, यह वो नाम था जो यूनीयन के एक राज्य को दिया गया है।

“टेक्सस, मुझे लगता है।”

“मुझे पक्का नहीं पता था ना ही पता है कौनसा; पर मैं जानता था कि जहाज़ अमरीकी मूल का है।”

“फिर क्या?”

“मैंने डंडी के रेकर्ड तलाशे, और जब मैंने यह जाना कि बार्क लोन स्टार सन ८५ की जनवरी में वहाँ रुका था, मेरा शक यक़ीन में बदल गया। मैंने फ़ीर फ़िलहाल लंदन में जितने जहाज़ है उनका पता लगाया।”

“फिर?”

“लोन स्टार पिछले हफ़्ते ही यहाँ पहुँचा था। मैं ऐल्बर्ट गोदी पहुँचा तो पता लगा जहाज़ को तड़के ही नदी के ज्वार में सवाना की तरफ़ रवाना कर दिया गया है। मैंने ग्रेवसेंड में तार कर के पता लगाया कि जहाज़ वहाँ से निकल चुका था, क्यूँकि हवाए पूर्व की ओर चल रही थी मुझे इस बात पे कोई शक नहीं है कि जहाज़ गूडविन्स से आगे निकल चुका है और वाइट के द्वीप से ज़्यादा दूर नहीं है।”

“फिर आप क्या करोगे?”

“ओह वो मेरी पकड़ में है। वो और दो और लोग है, जैसा कि मुझे पता चला, जहाज़ में जो कि देशी अमरीकी है। बाक़ी के फ़िन और जर्मन है। मैं यह भी जानता हुँ कि यह तीनों पिछली रात जहाज़ में नहीं थे। मुझे यह स्टीवडोर से पता चला जो कल रात कार्गो में सामान चढ़ा रहा था। जब तक कि उनका जहाज़ सवाना पहुँचेगा, मेल बोट ख़त लेकर पहुँच चुकी होगी, और तार से सवाना की पुलिस को सूचना दे दी गई होगी कि इन तीन सज्जन की हत्या के आरोप में इंग्लंड में हाज़िरी आवश्यक है।”

इंसानो की बनाई योजना में, हालाँकि, कुछ न कुछ नुक़्स रह ही जाते है, और जॉन ओपनशॉ के हत्यारों को संतरे के बीज कभी नहीं मिलने थे जिससे कि उनको पता चलता कि उनके ही जैसा चालक और दृढ़निश्चयी कोई और उनके पीछे लगा था। इक्विनोटिकल प्रवाह उस साल काफ़ी प्रचंड थे। सवाना के लोन स्टार के समाचार प्राप्त करने के लिए हमने बहुत इंतेज़ार किया, पर हम तक कोई समाचार नहीं पहुँचे। आख़िरकार हमारे सुनने में आया कि कहीं दूर अटलांटिक सागर में किसी जहाज़ का चकनाचुर पिछला हिस्सा लहरों में तैरता नज़र आया था, जिस पर एल॰ एस॰ तराशा हुआ था, लोन स्टार के भाग्य के बारे में यह एक मात्र बात है जो हम जान पाएँगे।

***

Rate & Review

Priyaranjan Bhoi

Priyaranjan Bhoi 2 years ago

Time  Pass

Time Pass 2 years ago

ramgopal bhavuk

ramgopal bhavuk Matrubharti Verified 2 years ago

Rakesh Vartak

Rakesh Vartak 3 years ago

Vinayak

Vinayak 4 years ago