Garib ki dosti - last part in Hindi Love Stories by Harsh Parmar books and stories PDF | गरीब की दोस्ती - 7 - अंतिम भाग

गरीब की दोस्ती - 7 - अंतिम भाग


आखरी पार्ट
___________
आगे आपने ये पढ़ा की कैसे राजू ने अपने जीवन मे अपनी महेनत से अपने परिवार का घर चलाया और अपने माँ-बाप का नाम रोशन किया | सब लोग अपने अपने घर जाने लगे संजय और राजू भी अपनी फेमिली के साथ घर आ गए.

आज सबके लिए बहुत बड़ा दिन था | संजय और राजू की फेमिली आज बहुत खुश थे | खुश क्यु ना हो उनको जो आज अपने बेटे ने इतनी सारी खुुशियाँ जो दी है | रात को बहुत देर से आये हुए थे | थोड़ी सी थकान हो रही थी फिर सब लोग अपने अपने कमरे मे सोने के लिए चले गए | राजू सो रहा था लेकिन राजू को नींद नही आ रही थी | राजू अपने दिल पर हाथ रखके दिल को बोलने लगा की आज तुमने मुझको बहुत खुशी दी है | दिल ने सामने से आवाज़ दी की मेने कुछ नही किया जो भी किया है तुमने ही किया है | मेने तो सिर्फ तुम्हारा होशला बढ़ाया है अच्छा काम तो तुमने किया है क्यु की तुम मेरे होशले पर खरे उतरे हो | एक दूसरे से बाते करते करते राजू को कब नींद आ गई पता हि नही चला |
दूसरे दिन राजू अपनी जॉब के लिए निकलता है तब सीला उसको बिच मे रोककर बोलती हैं की आज शामको जल्दी आना खाना खाने बहार जाएंगे | राजू ने बोला आज कोनसा नया दिन हैं जो हम लोग बहार खाना खाने जाएंगे | सीला ने बोला नया दिन तो नहीं है पर आज तुम्हारे साथ मुझे खाना खाना हैं | राजू ने बोला खाना तो हम घर पे हि खा सकते हैं फिर बहार खाने की क्या जरूरत हैं|

फिर राजू चला गया अपनी जॉब पे | बिच रास्ते मे सोचने लगा सीला ने मुझको अकेले मे क्यू बोला की आज हम खाना बहार खाने चलते है । राजू ने अपने मन मे सोचा ऐसे हि मज़ाक़ मे बोल दिया होंगा खाने के लिए । फिर राजु अपनी जॉब पे काम करने लगा।

दिन ढलता गया ओर शाम हो गई । राजू अपना काम कर रहा था तब उसका मोबाईल बजने लगा ओर देखा तो अंजान नंबर था । राजू ने कॉल उठाया ओर बोला हेल्लो कोंन । सामने से आवाज़ आई मे सीला बोल रही हु ।मेने आपको शुबह बोला था शामको खाना खाने बहार जाएंगे । राजू ने बोला मे अपना काम छोड़कर कैसे आ सकता हु । सीला ने गुस्से मे आकर बोला एक दिन काम नही करोंगे तो तुम थोड़े मर जाओंगे। राजू ने बोला ऐसी बात नही हैं पर मे काम छोड़कर नही आ सकता खाने के लिए। सीला ने ओर गुस्से मे आकर बोला ठीक है मत आना । मे अपने भैया को कॉल करके बोल दूंगी तुमको जॉब से निकाल देंगे । राजू ने बोला ऐसा मत करना आप मे अभी निकलता हु । राजू ने कॉल कट करके बोस की ऑफिस मे जाकर बोला साहब मुझे कुछ काम है मे बहार जा रहा हु । बोस ने बोला ठीक हैं जाओ.

राजू ऑटो मे बैठकर बाजार गया । बाजार आकर सीला को कॉल लगाया ओर बोला मे बाजार आ गया हु आप कहा हो । सीला ने बोला मे रास्ते मे हि हु पांच मिनिट मे पहुँचती हु । राजू ने सीला को बोला मे यहां स्वीट नमकीन की दुकान के आगे खड़ा हु । सीला ने बोला ठीक हैं मे आती हु .

सीला का बॉयफ्रेंड था पर किसीको पता नही था । सीला अपने बॉयफ्रेंड के साथ बाजार आ रही थी ये राजू को भी पता नही था। सीला गाडी चला रही थी ओर बाजार मे जहा राजू खड़ा था उस से थोड़ी दूर गाड़ी को रोका । फिर सीला ने गाडी को स्पीड से चलाके राजू के उपर गाडी चला दी ओर वहा से रफू चककर हो गई .

राजू लोही से लठपथ होकर बचाने के लिए आवाज़ दे रहा था पर वहां किसीने उसकी मदद नही की । लोगो की भीड़ इकठा हो गई पर किसीने कोई मदद नही की । राजू खून से लतपथ तड़पता रहा ओर कुछ देर बाद राजू ने आवाज़ देना हि बंद कर दिया । राजू की सांसे अब थम चुकी थी । राजू इस दुनिया को अलविदा कर चुका था .

किसीने पॉलिस स्टेशन कॉल किया की यहा किसीका एक्सीडन्ट हो गया है । थोड़ी देर बाद पोलिस आई ओर डेड बॉडी को चेककर सिविल हॉस्पिटल भेज दिया । पोलिस ने लोगो से पूछा की गाडी का नंबर किसीने देखा था । किसीने भी नही बोला की हमने देखा है । फिर पोलिस पास वाली शॉप मे जाकर बोला की इस शॉप का cctv केमेरा निकालों । शॉप से cctv केमेरा निकाला ओर गाड़ी की पहचान की । दूसरी तरफ राजू की डेड बॉडी को सिविल हॉस्पिटल लाया गया डॉक्टर ने चेक किया ओर बोला की इसकी डेथ हो गई है । बॉडी को मुर्दा घर मे रखा गया.

दूसरी तरफ पोलिस गाड़ी का पीछा करने लगे ओर गाड़ी को बिच रास्ते हि रोक के उन दोनो को पकड़ लिया । पोलिस ने सीला को बोला तुम लोगो को समज मे नहीं आता है क्या । बिच बाजार मे किसी इंसान पर गाडी ठोक के चले जाते हो । सीला ने बोला साहब बैठके बात करते है । सीला ओर पोलिस ने बैठके बात की फिर पोलिस ने बोला तुमको जेल नही जाना है तो 10 लाख लगेंगे सीला ने बोला ठीक है पैसे शामको कॉल करके देने आउंगी । फिर वहा से चले गये अपने घर .

सीला ने घर आकर बोला की पापा राजू की एक्सीडन्ट मे मौत हो गई हैं । सीला के पापा ने बोला कैसे मौत हो गई । सीला ने बोला पता नही पापा । बाजार मे राजू कुछ लेने गया था तब पीछे से किसीने उस पर गाड़ी चढ़ाड़ी । राजू की मोम पापा को बताया तो वो राजू के मौत के समाचार सुनके गिर गये ओर बेहोश हो गये । संजय भी आ चुका था ओर फिर सब लोग राजू के मोम पापा को सिविल हॉस्पिटल लेकर गये वहा उनको ट्रीटमेंट करवाया । फिर राजू की डेड बॉडी दिखाई राजू की मोम ओर पापा बहुत रोने लगे । राजू के पापा ने संजय के पापा को बोला हम राजू की डेड बॉडी मेरे गाव लेकर जाऊंगा उसका वहा अंतिम संस्कार करवाऊंगा । संजय के पापा ने बोला ठीक है । सिविल हॉस्पिटल की एम्बुलंस मे बिठाया ओर अपने गॉव चले गये वहा राजू का अंतिम संस्कार किया । फिर राजू के मोम पापा कभी वापस उस सिटी मे नहीं गये ।

गरीब की दोस्ती की कहानी यही थी । सीला ने राजू को किस वजह से धोखा दिया वो एक पहली सा राज रह गया । लेकिन मे ये कहना चाहता हु की आपको कही ऐसा कोई गरीब मिले जिसकी आप मदद कर सकते हो तो अच्छा है लेकिन किसीकी मदद करके उसकी जान मत लेना कभी प्लीज 🙏🙏
*************************************

स्टोरी अच्छी लगी हो तो कॉमेंट शेर ओर रेटिंग्स देना ना भूले
आगे बहुत प्यार दिया हैं आप लोगो ने मेरी स्टोरी को पढ़कर इस तरह इस स्टोरी पे भी प्यार दीजियेंगा 🙏🙏



ीीीीीाीीाीीाीीााीीीाीीीाीीीीीीीीाााीीाीीीीाीीाीीाीीाीीााीीीाीीीाीीीीीीीीाााीीाीीीीाीीाीीाीीाीीााीीीाीीीाीीीीीीीीाााीीाीीीीाीीाीीाीीाीीाााीीीाीीीीाीीीीीीीीीााााीीाीीीीीाीीाीीीाााीीीाीीीीाीीीीीीीीीााााीीाीीीीीीीीाीीीाााीीीााीीीीाीीीीीीीीीीााीीीीााााीीीीीीीीाीीीााााीीीीीीीाााीीााीाीीीााीीीीीीीीीीाा

Rate & Review

Uttam Dabhi

Uttam Dabhi 2 months ago

ArUu

ArUu Matrubharti Verified 5 months ago

Khushboo Bhardwaj RANU

समझ नहीँ आया कि शीला को राजू को मारने की क्या जरूरत थी। कहानी का अन्त कुछ और होता तो अच्छा लगता। वैसे कहानी सही चल रही थी, थोड़ा और आगे बढ़ाना चाहिये था।😊😊

Varsha Shah

Varsha Shah 6 months ago

Harsh Parmar

Harsh Parmar Matrubharti Verified 6 months ago