witch story in Hindi Horror Stories by Ravinder Sharma books and stories PDF | चुड़ैल की कहानी

Featured Books
Share

चुड़ैल की कहानी

मै आपको अपने मित्र नीलेश की बहन नीलिमा और उसकी साली नीतू की आप बीती आप लोगो को बताना चाहती हु | कुछ दिनों पहले नीलेश ने मुझे बताया था कि उसकी बहन की मौत हो गयी है ये सुनकर मै बहुत दुखी हो गयी और मैंने उसकी मौत का कारण पूछा तो उसने पुरी घटना मुझे सुनाई | कुछ दिनों पहले नीलेश उसकी बहन नीलिमा और साली नीतू के साथ कही घुमने गये थे | नीलेश की बहन और नीतू दोनों बहुत अच्छी दोस्त थी | लौटते वक़्त काफी रात हो गयी थी | रास्ते में उसकी बहन की तबियत खराब हो गयी थी उसे काफी ठण्ड लग रही थी |

हमारा घर अभी भी 100 किमी दूर था और रास्ते में कोई भी रुकने की जगह नहीं मिल रही थी | थोड़ी देर के बाद हमे एक होटल दिखाई दी तो नीतू ने होटल में रुककर उसकी बहन को आराम देने को कहा| उस होटल के काउंटर पर हमने जब रूम के लिए पुछा तो उसने बताया कि सभी रूम फुल थे क्योंकि उस रास्ते पर केवल वही एक ढंग की होटल थी | लेकिन तभी होटल के मेनेजर ने बताया कि एक रूम खाली था Room No. 13 | हमने उस समय अन्धविश्वासी वाली बातो को ना सोचकर रूम ले लिया |
जैसा कि आप लोग जानते है कि रूम न . 13 को अशुभ माना जाता है और कई होटलों में इस नंबर का कोई रूम नहीं होता है लेकिन ये होटल कई साल पुराना था | जैसे ही वो तीनो उस रूम में गये तो उन्हें नेगेटिव एनर्जी महसूस हुई | उस रूम की कंडीशन तो ठीक थी लेकिन ऐसा लग रहा था जैसे बरसों से यहा कोई रहने नहीं आया हो |उन्होंने कुछ ज्यादा नहीं सोचा | अब वो अपनी बहन नीलिमा के लिए काउंटर से पैनकिलर लेने को गया |

काउंटर से टेबलेट लेकर जैसे ही रूम में आया तो देखा कि उसकी बहन बालकनी में खडी बाते कर रही थी नीलेश में सोचा नीतू और उसकी बहन दोनों बालकनी में बाते कर रही है लेकिन जैसे ही उसके पास गया तो उसकी बहन के अलावा कोई नहीं था | उसने उसकी बहन से पुछा कि तुम किससे बाते कर रही थी तो उसने सिर्फ सर हिला कर मना कर दिया | तभी नीतू वाशरूम से आयी | नीलेश घबरा गया की अगर नीतू वाशरूम में थी तो नीलिमा किससे बात कर रही थी | नीलेश ने नीलिमा को टेबलेट दी और सो जाने को कहा |
अब नीतू और नीलिमा दोनों बेड पर सो गये और नीलेश सोफे पर सो गया | सुबह जब क्लीनर कमरे की सफाई के लिए आया तो दरवाज़ा खुला था | और वो जब अंदर आया तो देखा की कमरे में खून की खून था और नीलिमा मर चुकी थी | क्लीनर जोर से चिल्लाया तो मेरी नींद खुल गयी और देखा कि नीलिमा की मौत हो चुकी थी और नीतू बेहोश हो गयी थी |

नीलेश जोर जोर से रोने लगा और मेनेजर को बुलाया | मेनेजर ने तुरंत एम्बुलेंस को बुलाया और दोनों को हॉस्पिटल ले गये | नीलिमा तो मर चुकी थी लेकिन नीतू को थोड़ी देर में होश आ गया |जैसे ही नीतू को होश आया तो उसके पीछे उसकी बहन की आत्मा थी जो उससे बोल रही थी तूने मुझे मार दिया, यह कहकर वो गायब हो गयी |

नीलिमा काफी बुरी तरह डर गयी अब नीलेश में नीतू से सारी घटना पूछी तो उसने बताया कि - रात को जब मै पानी पीने उठी रात तो देखा नीतू फिर से बालकनी में बैठी थी और कुछ बडबडा रही थी और मै जैसे उसके पास गयी और उससे पूछा कि वो यहा क्या कर रही है तो उसने मुझे जोर से धक्का दिया और मेरा सर दीवार से टकरा गया और मै बेहोश हो गयी और इसके अलावा मुझे कुछ याद नहीं है - || जैसे ही नीतू हॉस्पिटल से छुटी तो वो नीलेश के साथ उस होटल में गयी और उसने काउंटर पर मेनेजर से बात करने को कहा तो उसने बताया की आपकी घटना के दुसरे दिन मेनेजर की मौत हो गयी थी | वो दोनों शॉक हो गये |उन्होंने क्लीनर से माजरा समझने की कोशिश की तो उसने बताया कि आप जिस रूम में रुके थे वो प्रेतबाधित था और रात में वहा कोई नहीं रुकता है लेकिन मेनेजर ने पैसो के चक्कर में रूम आपको दे दिया | इस रूम में पहले भी दो मौते हो चुकी है | अब सारी बात नीलेश को समझ में आयी | इस घटना के बाद नीलेश काफी सदमे में चला गया और कभी किसी होटल में नहीं रुका |