nirjala ekadashi fast story in Hindi Short Stories by दिनेश कुमार कीर books and stories PDF | निर्जला एकादशी व्रत कथा

Featured Books
Share

निर्जला एकादशी व्रत कथा

जानें क्यों कहा जाता है इसे भीमा एकादशी
 
निर्जला एकादशी का एक वृत्तांत महाभारत में पांडवों के भाई भीम से जुड़ा है जिस कारण इसे भीमसेनी एकादशी के नाम भी जानते हैं.
 
आज निर्जला एकादशी है. इस व्रत को अन्न और पानी के बिना रखा जाता है. उपवास के कठोर नियमों के कारण सभी एकादशी व्रतों में निर्जला एकादशी व्रत सबसे कठिन होता है. निर्जला एकादशी का व्रत ज्येष्ठ माह में शुक्ल पक्ष के दौरान किया जाता है. अंग्रेजी कैलेण्डर के अनुसार निर्जला एकादशी का व्रत मई अथवा जून के महीने में होता है. निर्जला एकादशी का एक व्रतांत महाभारत में पांडवों के भाई भीम से जुड़ा है जिस कारण इसे भीमसेनी एकादशी के नाम भी जानते हैं.
 
निर्जला एकादशी व्रत कथा-
 
एक बार भीम ने व्यासजी से कहा कि हे पितामह! भाई युधिष्ठिर, माता कुंती, द्रोपदी, अर्जुन, नकुल और सहदेव आदि सभी एकादशी का व्रत करने को कहते हैं, परंतु महाराज मैं भगवान की भक्ति, पूजा आदि तो कर सकता हूं, दान भी दे सकता हूं किंतु भोजन के बिना नहीं रह सकता.
 
इस पर व्यासजी कहने लगे, हे भीमसेन! यदि तुम नरक को बुरा और स्वर्ग को अच्छा समझते हो तो प्रत्येक मास की दोनों एकादशियों को अन्न मत खाया करो. भीमसेन बोले महाबुद्धिमान पितामह! मैं आपके सामने सच कहता हूँ मुझसे एक बार भोजन करके भी व्रत नहीं किया जा सकता, तो फिर उपवास करके मैं कैसे रह सकता हूँ. मेरे उदर में वृक नामक अग्नि सदा प्रज्वलित रहती है, अत: जब मैं बहुत अधिक खाता हूँ, तभी यह शांत होती है.
 
अत: आप मुझे कोई ऐसा व्रत बताइए जो वर्ष में केवल एक बार ही करना पड़े और मुझे स्वर्ग की प्राप्ति हो जाए. इस पर श्री व्यासजी विचार कर कहने लगे कि हे पुत्र! बड़े-बड़े ऋषियों ने बहुत शास्त्र आदि बनाए हैं जिनसे बिना धन के थोड़े परिश्रम से ही स्वर्ग की प्राप्ति हो सकती है. इसी प्रकार शास्त्रों में दोनों पक्षों की एका‍दशी का व्रत मुक्ति के लिए रखा जाता है.
 
ऐसा सुनकर भीमसेन घबराकर कांपने लगे और व्यासजी से कोई दूसरा उपाय बताने की विनती करने लगे. कहते हैं कि ऐसा सुनकर व्यासजी कहने लगे कि वृषभ और मिथुन की संक्रां‍‍ति के बीच ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की जो एकादशी आती है, उसका नाम निर्जला है. इस एकादशी में अन्न तो दूर जल भी ग्रहण नहीं किया जाता. तुम उस एकादशी का व्रत करो. इस एकादशी के व्रत में स्नान और आचमन के सिवा जल का प्रयोग वर्जित है. इस दिन भोजन नहीं करना चाहिए और न ही जल ग्रहण करना चाहिए, क्योंकि भोजन करने से व्रत टूट जाता है. इस एकादशी में सूर्योदय से शुरू होकर द्वादशी के सूर्योदय तक व्रत रखा जाता है. यानी व्रत के अगले दिन पूजा करने के बाद व्रत का पारण करना चाहिए.
 
व्यासजी ने भीम को बताया कि इस व्रत के बारे में स्वयं भगवान ने बताया था. यह व्रत सभी पुण्य कर्मों और दान से बढ़कर है. इस व्रत मनुष्य समस्त पापों से मुक्त हो जाता है.
 
निर्जला एकादशी का महत्त्व
 
एकादशी व्रत हिन्दुओ में सबसे अधिक प्रचलित व्रत माना जाता है. वर्ष में चौबीस एकादशियां आती हैं, किन्तु इन सब एकादशियों में ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी सबसे बढ़कर फल देने वाली समझी जाती है क्योंकि इस एक एकादशी का व्रत रखने से वर्ष भर की एकादशियों के व्रत का फल प्राप्त होता है...