beautiful girl in Hindi Short Stories by दिनेश कुमार कीर books and stories PDF | खूबसूरत लड़की

Featured Books
Share

खूबसूरत लड़की

रोहन नाम था लड़के का, शादी होने वाली थी उसकी ।
छोटे से कमरें में किराए पर रहता था । लेकिन शादी के बाद उसे बड़े घर की जरुरत थी । अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए घर में दिखने में अच्छा लगे । यही सब सोचकर उसने शादी से पन्द्रह दिन पहले एक फ्लैट लिया । वो फ्लैट बड़ी बिल्डिंग में सातवें माले पर थी।अच्छी व्यवस्था, दिखने में अच्छे रूम सारी चीज़े उसके हिसाब से सेट थीं ।उसने वो फ्लैट ले लिया । ज्यादातर फ्लैट में लोग अपने मेन दरवाजे को बंद रखते हैं । और सुरक्षा के लिए जरुरी भी यही है। लेकिन रोहन अकेला था तो उसे इन सब बातों का ध्यान भी नहीं कम आता था । अक्सर वो दरवाजा बंद करना भूल जाता था ।उसके दरवाजे के ठीक सामने एक सीसा लगा था । वो सीसा इस तरह सेट था कि सीढ़ियों से हर आने जाने वाले का चेहरा उसमे नज़र आता था ।
एक दिन की बात है रोहन अपना दरवाजा बंद करना भूल गया था। लेकिन जब उसे याद आया तो उसने सीधे दरवाजे की तरफ देखा दरवाजा खुला होने की वजह से सामने का सीसा उसे दिख रहा था, और सीसे में दिख रही थी एक खूबसूरत लड़की जो सीढ़ियों पर बैठी थी। चुप चाप एक दम शांत।
रोहन को ये बात अजीब लगी क्योंकि वो लड़की इस बिल्डिंग की नहीं लग रही थी। उसने तुरंत सिक्योरिटी को कॉल कर के बुलाया । और जैसे ही फोन रखकर वो वापस सीढ़ियों पर गया तो वहाँ कोई नहीं था। सिक्योरिटी आया और सिक्योरिटी के साथ रोहन भी उस लड़की की तलाश में पूरी बिल्डिंग छान मारी लेकिन कही कोई नहीं दिखा। और न ही किसी और ने ऐसी लड़की को देखा।
वो वापस थक कर अपने फ्लूर पर लौटा , उसने अपना दरवाज़ा खोला , और जैसे ही दरवाजा खुला वैसे ही एक अजीब सी सुगन्ध से कमरा महक उठा। और फिर जो उसने देखा वो हैरान करने वाला था, उसके कमरे की सारी चीज़ें बिखरी पड़ी थी। उसने वही सोचा जो एक सामान्य इंसान उस वक़्त सोचता। उसे लगा कि घर में चोर आया था, और हो न हो ये उसी लड़की की करतूत लगती है। उसने जल्दी से आलमारी खोली पैसे और जरुरी कागजात देखे। लेकिन सब कुछ सही सलामत था। उसने सिक्योरिटी को फिर फ़ोन किया और दरवाज़े पर उसका इंतज़ार करने लगा। जब सिक्योरिटी आया तो वो दोनों वापस रूम में घुसे और इस बार सिक्योरिटी और रोहन दोनों हैरान हो कर कमरे को देखने लगे। सिक्योरिटी हैरान इसलिए था क्योंकि सारा का सारा सामान अपनी जगह था। और रोहन हैरान था कि ये सब इतनी जल्दी कैसे ठीक हो गया वो भी अपने आप? सिक्योरिटी ने उसको बोला सर आप आज - कल ज्यादा काम कर रहे हो थकान की वजह से ये सब हो रहा है मेरी मानिये थोड़ा आराम कर लीजिए।
लेकिन रोहन को अपने ऊपर पूरा विश्वास था। उसने जो देखा। और जो उसके साथ हुआ था। जैसे - तैसे वहाँ कई दिन गुज़ारे सब सामान्य रूप से चल रहा था।
और फिर वो दिन भी आया जब उसकी शादी हो गयी।
अनामिका नाम था लड़की का। अनामिका सभ्य और सौम्य स्वभाव की थी। दोनों अपनी जिंदगी से खुश थे। पर किसे पता था कि खुशियों की कोई गारंटी और वारंटी नहीं होती हैं।
रात का समय था, 2 बजे थे घड़ी में। सहसा रोहन ने आँखे खोली तो अनामिका उसे बिस्तर पर नज़र नहीं आयी। वो उठा और दूसरे कमरे में गया अनामिका वहाँ भी नहीं थी। अब वो थोड़ा घबराया कि अचानक दरवाज़ा खुलने की आवाज़ हुई वो दरवाज़े की तरफ गया तो देखा अनामिका दरवाज़ा खोलकर बहार जा रही थी। रोहन अन्नु ... अन्नु... चिल्लाता हुआ दरवाज़े से बहार आया तो देखा की अनामिका सीढ़ियों से नीचे जा रही है, उसने अनामिका को वापस बुलाया लेकिन उसका कोई जवाब नहीं दिया अनामिका ने। वो भी अनामिका के पीछे जाने लगा कि अचानक पीछे से अनामिका की आवाज़ आयी। वो पीछे मुड़ा तो देखा की अनामिका तो दरवाज़े पर खड़ी है। और अनामिका उसकी तरफ देखकर ये बोलने लगी क्या हुआ प्रिय रोहन शादी के बाद अब छोड़कर भाग रहे हो?
उसके चेहरे पर स्माइल थी। रोहन भी उसके साथ हँस पड़ा, उसने अनामिका को कुछ बताया नहीं। वो परेशान होती शायद यही समझ कर वो चुप रहा। दरअसल बात यह थी कि अनामिका उस वक़्त बाथरूम में थी जब रोहन उसे ढूंढ रहा था। लेकिन वो किसी के पीछे सीढ़ियों तक तो आया था। लेकिन वो कौन था? जो अनामिका कि तरह था?
उसने यही बात सोची और फिर सोचता रहा उसकी रातों की नींद गायब हो गयी थी। जैसे - तैसे चार बजे उसे हल्की नींद आयी। और जैसे ही उसने ऑंखें बंद की उसे महसूस हुआ कि कोई उसके चेहरे के बेहद करीब लेटा है इतना करीब कि रोहन को उसकी सांसे महसूस हो रही थी। एक पल को उसने सोचा अनामिका होगी, फिर अचानक उसे कुछ याद आया। याद यह आया की अनामिका तो दूसरी तरफ उसके पीछे सो रही है। तो फिर ये आगे कौन है? वह बुरी तरह डर गया। उसने डर कर ही अपनी आंखें खोली और खोली तो चौंक गया।।