Sath Zindgi Bhar ka - 47 in Hindi Love Stories by Khushbu Pal books and stories PDF | साथ जिंदगी भर का - भाग 47

Featured Books
Share

साथ जिंदगी भर का - भाग 47

ढूंढते हैं हम तुमको दर ब दर

जाने कब कहां मिलोगे

हमसे हमसफर

कैसी दूरियां कैसा फैसला

हम यहां पर आए हैं

सुन के प्यार की सजा

अब बिना तुमसे दूर होंगे हम

तुम पर दिल क्या जा निसार है

हमको सिर्फ तुमसे प्यार है

हमको सिर्फ तुमसे प्यार है

जागते रहे हम तो रात भर

एक लम्हा एक पल भी

सोए ना नजर हाल है

बुरा हमारा है

कैसे हां ऐसे हाल में

यूं तो हम पर ना करो सितम

हमको तुम पर एतबार है

कह रही है दिल की बेखुदी

बस तुम्हारा इंतजार है

हमको सिर्फ तुमसे प्यार है

हमको सिर्फ तुमसे प्यार है

कैसी लगी आपको यह कविता बताइएगा जरूर

एकांश अपने केबिन में कुर्सी सेटिंग कर बैठा था आज आस्था को दूर हुए 5 साल बीत गए थे

5 साल जो सबके लिए तो सिर्फ 5 साल ही थे लेकिन एकांश के लिए पांच सदियों से कम नहीं थे

हर दिन हर रात हर पल आस्था की याद उसे सताती रही

उसने अपने आपको काम में बहुत बिजी कर लिया काफी कुछ बदल चुका था

बीते वक्त में उतरा और करण की शादी के लिए रेवा ने शर्त रखी थी सबको लगा था कि वह एकांश से शादी करना चाहती है लेकिन उसने हर्ष और अपनी शादी की बात की सब ने इस रिश्ते के लिए ना ही कहा लेकिन हर्ष अपनी जिद पर अड़ा रहा

रेवा की वजह से उतरा की शादी में दिक्कत होने लगी करण और दुष्यंत जी उतरा के साथ थे

लेकिन उसकी मां रेवा का ही साथ दे रही थी मजबूरन सब ने उन दोनों के रिश्ते के लिए हां कह रही थी

वरद को एकांश ने अपने पास बुला लिया था आस्था के जाने के गिल्ट से वो अपने आप को माफ ही नहीं कर पा रहा था

एकांश के बहुत समझाने पर उसने फिर से अपने काम पर जाना स्टार्ट कर दिया था ऐसे में ही ऐश्वर्या ना जाने कब उसे पसंद करने लगी और वरद उसने उसे इनकार किया लेकिन ऐश्वर्या ने अपने दिल और Zid से उसे जीत ही लिया था

सब की रजामंदी से ऐश्वर्या वरद मैं और स्वप्न श्रावणी ने भी शादी कर ली थी

यकीनन सबकी जिंदगी बहुत बदल चुकी थी अगर कुछ नहीं बदला था तो वह था एकांश का आस्था के लिए प्यार और उसकी तलाश रूद्र का एकांश के लिए गुस्सा आस्था के घर से जाने के बाद रूद्र ने आज तक एकांश से बात नहीं की थी

हां वह अपने भाई सा का हर कदम पर साथ देता यहां तक कि एकांश का बिजनेस बढ़ाने की वजह से उस पर काम का लोड ना आए इसलिए रूद्र ने उसी की कंपनी ज्वाइन कर ली वह वहां लीगल एडवाइजर के तौर पर एकांश का साथ देने लगा

रूद्र ने बिजनेस लॉ में स्टडी की थी लेकिन बात आज तक नहीं की आस्था के जाने के बाद रुद पूरी तरह बदल चुका था उसका वह नटखट पर मस्ती करना सब कुछ छूट चुका था

आस्था के बारे में रूद्र और उसकी मीठी नोकझोंक के बारे में उसके साथ बिताए लम्हों के बारे में सोचते हुए कब एकांश के आंखों से आंसू बहने लगे उसे समझ ही नहीं आया

आस्था का वह मासूम सा चेहरा याद करके एकांश के होठों पर स्माइल आती तो आंखों में नमी आती कुंवर सा आकाश ने उसे आवाज दी एकांश की यह हालत उसे देखी नहीं जा रही थी

कहिए आकाश क्या बात है एकांश ने अपने आंसू पहुंच लिए वह घर जा रहे हैं आप ना सारा और उसकी फैमिली आई हुई है एक आकाश ने कहा और एकांश ने हां में सिर हिला दिया

अपना कोर्ट उठाकर वह घर के लिए निकल गया सारा रूद्र की गर्लफ्रेंड है उसकी और रुद्र की मुलाकात मुंबई में हुई थी वह भी एक वकील की थी मुंबई में ऑर्गेनाइजेशन सेमिनार को अटेंड करने के लिए स्पेशली न्यूयॉर्क से आई हुई थी

उन दिनों दोनों की नजदीकी कब प्यार में बदल गई उन्हें समझ ही नहीं आया आज वह और उसकी फैमिली सब पैलेस पर आए हुए थे रुद्र उससे शादी के लिए इंकार कर रहा था

उसी बारे में आज फाइनल डिसीजन होना था सॉरी एवरीबॉडी आई नो कि बड़ों के मामले में मुझे बात नहीं करनी चाहिए लेकिन अब यह सब हमें बर्दाश्त के बाहर है

रूद्र जस्ट टेल मी वन थिंग आपको मुझसे शादी करनी है या नहीं क्योंकि ऑलमोस्ट हम पिछले 3 साल से रिलेशन में हैं और आप क्लीयरली जवाब नहीं दे रहे हो सारा नहीं गुस्से से कहा अब को सारा करनी है हमें आपसे शादी बट अभी नहीं कर सकते यू हैव टू wait अदर वाइज मूव ऑन कर लो

रूद्र के ऐसे कहने से सब परेशान हो चुके थे क्योंकि रूद्र जबकि सारा के साथ होता था तो पूरे दिल से मुस्कुराता खुश रहता तभी तो सारा cr Christian ✝️ ( क्रिश्चियन ) होते हुए भी सभी ने इस रिश्ते के लिए परमिशन दे दी थी

मूव ऑन इतना इजी है रूद्र आपके लिए रूद्र फॉर गॉड सिक हम 3 साल से साथ में हैं और कौन सी मजबूरी बताओ हमें कुछ दिन क्या पूरी जिंदगी वेट कर सकते हैं हम आपका लेकिन कम से कम वजह तो मालूम होनी चाहिए हमें

सारा की आंखों में आंसू आ गए सिर्फ और सिर्फ रूद्र के लिए उसने अपने लाइफ में बहुत बदलाव किए थे हालांकि रुद्र ने उसे हमेशा कहा कि वह जैसी है उसे वैसे ही रहे फिर भी सारा को उसके लिए बदलना अच्छा लगा

रूद्र बस कीजिए अब कब तक जिद्द करनी है सुनीता जी भी उसे समझा कर थक चुकी थी छोटी मां हम बात कर रहे हैं ना उनसे एकांश निभाते हुए कहा मां कहिए ना इनसे हमें इनसे बात नहीं करनी रूद्र ने एकांश को इग्नोर किया लेकिन हमें करनी है रुद्र .......... एकांश .......... कुंवर सा जब रूद्र आपसे बात नहीं करना चाहते तो क्यों जबरदस्ती कर रहे हैं

आप कब तक दूसरों की लाइफ स्टाइल करेंगे क्या पता रेवा ने उसे ताना मारते हुए कहा

उसन शादी भी एकांश के लिए भी की थी ताकि उसे नजदीक साथ रहकर वह उसका प्यार पा सके

लेकिन एकांश उसकी ओर देखता भी नहीं था बस रेवा उसी का गुस्सा निकाल रही थी आप से किसी ने कुछ नहीं पूछा रेवा भाभी तो बेहतर है हमसे और हमारे भाई सब से दूर ही रूद्र के ऐसे कहने पर एकांश के चेहरे पर स्माइल आ गई

भले ही वह बात ना करें लेकिन साथ उनसे अभी तक नहीं छोड़ी थी रूद्र हमें आपसे बात करने में कोई दिलचस्पी नहीं है कुंवर सा रूद्र तो ठीक है मत कीजिए

लेकिन एक बात अगर वह भी यहां होती तो उन्हें बिलकुल अच्छा नहीं लगता आपका इस तरह शादी के लिए मना करना एकांश यू नो व्हाट कुंवर सा अगर वह यहां होती तो हालत ऐसी नहीं होती हम शादी के लिए मना करते हैं नहीं

रूद्र की आंखों में आंसू आ गए वह आज भी हमारे साथ है हमारे पास है सिर्फ महसूस करने की देरी है अगर आपने उन्हें सच में अपना माना हो तो लौट आए

आप यह शादी जरूर जल्द से जल्द करेंगे क्योंकि उन्हें बिलकुल अच्छा नहीं लगता आपकी वजह से किसी का दिल दुखे में सारा की ओर हाथ करके कहा रूद्र खामोश रहा

ठीक है आपके कहने से नहीं सिर्फ उनके लिए हम तैयार हैं रूद्र सच में रूद्र आप रेडी है ना शादी के लिए सारे ने नम आंखों से मुस्कुराते हुए कहा रुद्र ने भले ही उसे ना बताया हो कि वह कौन है

लेकिन वह इतना जानती थी कि रुद्र की जान बसती है उनमें एंड एम सॉरी रूद्र ने अपना कान पकड़ते हुए कहा और सारा मुस्कुरा कर उसकी बाहों में चली गई रूद्र ने भी अपनी पकड़ उस पर मजबूत कर ली

हम भी यही हैं सारा और रूद्र भाई सा श्रावणी ने जिस पर सारा शर्मा कर रुद के पीछे छुप गई तो फिर अब क्या और कैसे करना है क्योंकि यह सूर्यवंशी के सबसे छोटे बेटे की शादी है और लास्ट भी तो धूमधाम से तो होनी ही चाहिए

सुनीता जी ने अपने बेटे को खुश देख बहुत खुश हुई अगर आपको बुरा ना लगे तो मैं कुछ कहूं मेरी ( सारा कि मॉम ) ने कहा जी कहिए ना आपकी बेटी की भी शादी है आप जो चाहे कह सकते हैं

दादा सा जी वह मै और जोसफ चाहते हैं कि इंगेजमेंट न्यूयॉर्क में हो और शादी आप जहां चाहे आप का कल्चर के हिसाब से कर देंगे

यह ठीक है इंगेजमेंट न्यूयॉर्क में तो शादी हमारे पुश्तैनी हवेली से होगी इस घर की एक भी शादी वहां से नहीं हुई कम से कम यह शादी तो वहां से हो

दादा सा के कहने पर सब ने अपनी सहमति जताई रूद्र और सारा ने सभी के पैर छूकर उनसे आशीर्वाद लिया

रूद्र ने इशारे से ही सारा को एकांश के पैर छूने को कहा लेकिन खुद वैसे ही खड़ा रहा एकांश ने उसका इशारा देख लिया था उसके चेहरे पर स्माइल आ गई उसने सारा को तो ब्लेसिंग दी साथ मैं जाते वक्त रूद्र के सर पर भी हाथ रखा और अपने कमरे में चला गया रूद्र ने भी खुशी से अपनी आंखें बंद कर ली

एकांश के कमरे में

जान और कितना दूर रहना है अब तो लौट आओ एकांश अपनी आंखें बंद किए हुए उसे याद कर रहा था

डोंट वरी भाई सा हमें यकीन है भाभी सा बहुत जल्द वापस आ जाएंगे सपने में उसके कंधे पर हाथ रखा जी कुंवर सा मुझे भी लगता है पिल्लू जरूर आएगी

वरद एकांश मुस्कुरा दिया लेकिन उसके मुस्कान के पीछे का दर्द किसी से छुप नहीं पाया वह लौटकर नहीं आएगी उन्होंने कहा है हमसे

हमने बुलाया ना फिर भी वह वापस नहीं आएगी एकांश के कामों में आस्था की वही अल्फाज घूम रहे थे उसने जोर से अपनी आंखें बंद की और उसकी रेलिंग पर की पकड़ भी मजबूत हो गई

बस अब एकांश और आस्था की दूरियां मुझसे तो बर्दाश्त नहीं हो रही है

अगले पाठ में मैं हमारी आस्था लौट आएगी हमारी जिंदगी में और ना उसके कुंवर जी के अब उसकी एंट्री कब कैसे और किस तरह होगी जरा आप दिमाग लगाकर सोचिए

तब तक मैं आगे का पाठ कल तक डालूंगी रात में सोचती हूं कुछ आस्था की धमाकेदार एंट्री कैसे होगी कल मिलते हैं

गुड नाइट जल्दी जल्दी कमेंट कीजिए और मुझे बताइए थैंक यू कल का पाठ में 4000 words में डालूंगी सो जुड़े रहिए और खड़े पढ़ते रहिए तेरा मेरा साथ हमेशा