Ishq e Prapanch - 41 in Hindi Love Stories by Khushbu Pal books and stories PDF | इश्क ए प्रपंच - 41 - ब्लैक लिस्ट

Featured Books
Share

इश्क ए प्रपंच - 41 - ब्लैक लिस्ट

😘 😘 Jinu 😘 😘 😘:



करण तुम्हें पता है ना तुम्हारा हर कॉन्ट्रैक्ट कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के अप्रूवल के बाद ही आगे बढ़ेगा।

नैना हां पता है इसीलिए तो मैं उन सब का अप्रूवल ले चुकी हूं। बस तुम ही बताना रह गया था।

करण को समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या बोले और किस तरह से बोले ना तो वह इस डील को मना कर सकता था क्योंकि एक टॉप फ्रेंच ब्रांड नैना को अपना ब्रांड एंबेसडर। बना रहा था वह भी पूरे एशियन। रीजन के लिए।

वहीं पर जो लोरी को ऑफर आई हुई थी, वह सारी छोटे-छोटे ब्रांड की थी। कोई भी उनको उसके देश से बाहर नहीं जानता था और अब तो उसको यह भी डर लगने लगा था कि अगर यह सारी बातें जो यहां पर हुई हैं यह हमारे देश में वापस जाने के बाद वहां की मीडिया को पता चलेगी तो जिन लोगों ने उसे ऑफर किया था और वह भी पीछे हट जाएंगे।

नैना संभल जाओ, अभी भी कह रही हूं, संभल जाओ क्योंकि अगर तुम इसी तरीके से लोरी को सपोर्ट करने के लिए हदें पार करते रहे तो कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर तुम्हारा साथ नहीं देंगे और अगर तुमने कंपनी नहीं संभाली जा रही है तो छोड़ दो तुम्हारी जगह पर खड़े होने के लिए बहुत लोग मौजूद हैं।

दरअसल स्टार किंग! कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स करण के इस रवैया से बिल्कुल भी खुश नहीं थे कि वह हर जगह पर लोरी को सपोर्ट करने के लिए नैना को परेशान कर रहा था। हर कोई यह समझ रहा था कि करण जानबूझकर नैना को परेशान कर रहा है और तो और!

सिर्फ कंपनी के इंटरनल मेटल्स में ही नहीं कंपनी के बाहर पब्लिक इवेंट में भी और क्योंकि अब नैना इंटरनेशनल ब्रांड के साथ काम करने वाली है। वह यह कंपनी के लिए बहुत ज्यादा गर्व की बात है।

अगर! अब करण उसको परेशान करेगा तो कंपनी के जो भी बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स है वह करण को ऐसे नहीं जाने देंगे और सबसे बड़ी बात यह है कि उन्हें लोरी से बहुत ज्यादा उम्मीदें थी,। पर जहां वह सब यह सब सोच रहे थे कि जब लोरी वापस लौटेगी तो टॉप टेन मॉडल बन चुकी होगी। पर यहां तो लोरी के बारे में कोई बात ही नहीं कर रहा था।

उन लोगों ने लोरी को सुपर मॉडल बनाने के लिए भेजा था उसके लिए अपना पैसा इन्वेस्ट किया था पर अब तो ऐसा लग रहा है कि उन लोगों ने अपना पैसा और समय दोनों बर्बाद कर दिया है।

नैना लोरी से इतना आगे निकल चुकी थी की लोरी उस जगह तक पहुंच भी नहीं पाएगी अब!

कविता ने गुस्से से नैना की ओर देखा और मन ही मन! मैं यह सोचने लगी कि जब वह लोग आराम फरमा रहे थे उस समय पर नैना ने काम में लग कर उसने अपने और लोरी के बीच की दूरी को इतना बढ़ा दिया है कि अब लोरी उस तक चाहकर भी नहीं पहुंच सकती है और ऐसा पहली बार हुआ था कि एक मैनेजर के तौर पर एक आर्टिस्ट को कैसे संभालें और उसे समझ में नहीं आ रहा था।

वैसे तो डायना को सिंपल सी सक्सेक्स पार्टी! पर स्टार किंग के लोगों की वजह से यह युद्ध का मैदान बन चुका था इसलिए डायना को सिक्योरिटी गार्ड बुलाने पड़े।

घास को अपनी ओर आता देख कर कविता ने कहा, इसकी जरूरत नहीं है। हम खुद बाहर चले जाएंगे।

तीनों जैसे ही बाहर निकले लोरी अपने आपको संभाल नहीं पाई और वहीं रोड पर बैठकर घुटने के बल रोने लग गई।

यह सब चीजें राजवीर ने देखी जो नैना को लेने आया हुआ था और चुपचाप एक कोने में अंधेरे में छुपकर खड़ा हुआ था उसने लोरी की वीडियो फोन पर रिकॉर्ड कर लिया और मन में सोचा, अभी तो एक छोटे से झटके से यहां रोड पर पड़ी हुई है। अभी तो बहुत बड़ी लड़ाई बाकी है।

राजवीर अब सब कुछ अपनी आंखों से देख रहा था और उसे समझ में आ रहा था कि उन इन लोगों की किस्मत बहुत ज्यादा खराब है तभी राजबीर ने पीयूष को फोन किया और कहा कि इस कविता के बारे में सारी डिटेल पता करवाओ यह किस कंपनी में काम करती है।? कहां रहती है सब कुछ।

आखिर इतने वैसे भी नैना को बहुत परेशान किया है। लौटते लौटते कुछ इसके लिए भी करना तो बनता है ताकि यह जिंदगी भर याद रखें। तभी राजवीर ने सोचा कि नैना इन लोगों के खिलाफ अपनी लड़ाई तो जीत चुकी है तो अब मैं उसकी कोई मदद नहीं कर रहा हूं। मैं कोई गलती कर रहा हूं।

इन तीनों के पार्टी से निकलकर जाने के बाद नैना सबके साथ मिल जुलकर हंसी मजाक कर रही थी और सब के साथ पार्टी इंजॉय कर रही थी। लेकिन वह राजवीर को बहुत ज्यादा देर इंतजार नहीं कराना चाहती थी इसीलिए उसने डायना से बहाना बना दिया कि उसकी तबीयत कुछ ज्यादा अच्छी नहीं लग रही है। इसीलिए वह जाना चाहती है और वह पार्टी से निकल गई।

तीनों जैसे ही बाहर आए तो राजवीर उसे एक अंधेरे कोने में खड़ा दिखाई दिया नैना यह सोचकर आश्चर्य में थी कि एक ऐसा इंसान जो पार्टी का अट्रैक्शन हो होता है पर उसके लिए अंधेरे कोने में वीरान में खड़ा हो जाता है।

राशि और मीरा दोनों दोनों के बीच में कबाब में हड्डी नहीं बनना चाहते थे इसीलिए वह दोनों ने अपने लिए टैक्सी बुक कर ली और नैना जाकर राजवीर के साथ गाड़ी में बैठ गई।

राजवीर ने जैसे ही उसकी ओर देखा ड्रेस स्लीवलैस होने की वजह से उसके कंधे खुले हुए थे और ठंडे हो रहे थे।

राजवीर ने कहा, क्या तुम राशि को नहीं बोल सकती थी कि घर से निकलने से पहले तुम्हारे लिए एक जैकेट ले ले और यह कहते हुए उसने अपना कोर्ट� निकालकर नैना को पहना दिया।

नैना ने मुस्कुराते हुए कहा, आज मैं राशि को जैकेट लेने के लिए कह देती तो यह कोर्ट मुझे कैसे मिलता? और वैसे भी राजवीर ओबरॉय का कोट किसी को भी ऐसे ही थोड़ी ना मिल जाता है। बहुत किस्मत वालों को मिलता है।

तीनों जब घर पहुंचे तो घर वह नहीं रहा जैसे वह छोड़ कर गए थे घर का नक्शा एकदम बदल चुका था पूरा घर फूलों से खुशबूदार मोमबत्ती और से सजा हुआ था यह देखकर नैना के आवाज भारी हो गई और उसका गला रूंध गया उसने धीरे से। राजगीर से कहा आराम नहीं कर सकते थे। थोड़ा आराम कर लेते। अभी हमें कल वापस जाना है उसके बाद वहां जाकर काम में बिजी हो जाने वाले हो।

नैना मन ही मन सोचने लगी कि इस सब में वह राजगीर का तो बिल्कुल भी ध्यान नहीं रख पा रही है। राजवीर ने कहा, ठीक है अगर बदले में ही कुछ करना चाहती हो तो तुम मुझे मसाज दे दो।

नैना खुशी-खुशी इसके लिए तैयार हो गई और जब कमरे में पहुंचे तो उसने कहा, आगे से मैं आपका ध्यान रखूंगी।

राजवीर वैसे मुझे तुम्हारा ध्यान रखने की जरूरत है। अपने आप को देख रही हो जब से यहां आई हो, तुम्हे ठीक से सोने तक नहीं नहीं मिला है। बैठो मैं तुम्हारे पैरों की मसाज करता हूं।

नैना विदेश में छा गई नैना ने लोरी को पीछे छोड़ा नैना ने देश का नाम रोशन किया और भी ना जाने क्या-क्या?

नैना की तारीख में ऐसे आर्टिकल अगले दिन सुबह की हेडलाइन थी। नैना के सारे फ्रेंड्स बहुत ज्यादा खुश है क्योंकि नैना जब उन्हें शांत रहने के लिए और सही वक्त आने का इंतजार करने के लिए कहा था तो उन्होंने इंतजार किया और अब इस वक्त नाना की जीत के साथ उसकी तारीफ ओके।

समय नहीं मिल रहा था।

इससे यह भी सामने आया था कि नैना बहुत ही जल्द हो, हल्ला मचाने वालों में से नहीं है। वह बस शांत रहकर अपना काम करने करके तरक्की हासिल करने वालों में से है

अब जब नैना वापस लौट रहे थे तो उसका स्टेटस वह भी नहीं था, जहां यहां आते वक्त था, अब उसके बाद कोई उसे कभी भी एक आउटडेटेड मॉडल नहीं बोल पाएगा।

वहीं दूसरी तरफ लोरी बहुत ही ज्यादा बेइज्जत हो चुकी थी और वह इसलिए हुआ था क्योंकि उसके बारे में इतनी बड़ी-बड़ी बातें जिन को पूरा ना कर पाना लोरी की प्रतिभा के परे था तो उसे तो सुकन्या सक्सेना के बराबर काब बता दिया गया था?

सब कुछ सुन कर कविता और लोरी को इतना गुस्सा आया कि उसकी नजरों में जो सामान आया उसने पटक कर तोड़ डाला। इन दोनों को सामान तोड़ता देखकर ने गुस्से में कहा, अब बस बहुत हो गया तुम दोनों सामान तोड़ना बंद करो, बुरा तो करण को भी लग रहा था पर इन दोनों से ज्यादा दुखी है क्योंकि। स्टार किंग।

कब कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स उसे पहले ही वार्निंग दे चुके थे कि वह बात-बात पर लोरी का जो साथ और लोरी को इस तरीके से प्रमोट कर रहा है वह गलत है पर करण तो प्यार में पागल था,। उसने बात नहीं मानी और अब तक जबकि लोरी उम्मीद पर खरी नहीं उतर पाई तो वह यह सब सोच रहा था कि वह वापस जाकर उनको क्या जवाब देगा। कैसे उनका सामना करेगा करण को कुछ भी ज्यादा समझ में नहीं आ रहा था। इस समय उसका दिमाग भी कुछ बंद हो चुका था।

तभी कविता ने कहा, क्या हम मम्मी की मदद लें?

करण मम्मी की इस समय मैं कुछ भी नहीं करूंगा।

करण ने कभी भी अपनी मां का जिक्र नहीं किया था क्योंकि उसके पिता की मौत के बाद उसकी मां ने एक फेमस डायरेक्टर से शादी कर ली और तब से उनका परिवार टूट गया। करण कोई बात नहीं करना चाहता था। उसने कहा अभी नहीं वापस जाने के बाद देखता हूं कि मुझे क्या करना है क्या नहीं?

कविता करण की आवाज में गुस्सा समझ सकती थी। इसीलिए उसने करण से कहा, मुझे उम्मीद है। तुम्हें यह तो नहीं लग रहा है कि यह सब कुछ मेरी वजह से हुआ है। मैंने कुछ नहीं किया है, जो भी किया है वह तुम दोनों के लिए ही किया है। मुझसे ज्यादा उम्मीद तुम्हें नैना पर गुस्सा होना चाहिए। उसने

कविता अभी बोल ही रही थी कि तभी उसके हाथ में उसका फोन बजने लगा।

कविता को नहीं पता था कि कौन सी खबर इसका इंतजार कर रही है जैसे ही उसने अपना मोबाइल उठा कर देखा यह कॉल उसके ऑफिस में था।

वह गर्भ म्यूजिक बैंड जिसको कविता मैनेज कर रही थी उसे एक रात क्लब में ड्रग्स करते हुए पकड़ा गया और जब यह सब कुछ हुआ उस वक्त कविता गायब थी क्योंकि उसके पास में अपने काम के लिए समय ही कहां था वह तो दूसरों की जिंदगी में ज्यादा बिजी थी।

उसे तो पता ही नहीं था कि उसके पीछे-पीछे ऑफिस के अंदर क्या-क्या हो चुका है और तो और ऑफिसर इतना गुस्से में था कि यह तहत था कि वह कविता की एक भी बात नहीं सुनेगा। तभी ऑफिसर ने चिल्लाते हुए कहा।

ऑफिसर आज से काम पर आने की कोई जरूरत नहीं है। मैंने तुम्हारा का तुम्हें काम से निकल जाने का लेटर तुम्हें भेज दिया है और अब मैं यह देख लूंगा कि तुम कैसी लापरवाह औरत को कहीं भी काम ना मिले तुम्हें पूरे अमेरिका में ब्लैक लिस्ट किया जाएगा।