Pyar ya Dhoka - 1 in Hindi Love Stories by Anshu Kumar books and stories PDF | प्यार या धोका - 1

Featured Books
Share

प्यार या धोका - 1

प्यार या धोरवा

यह कहानी एक लड़का के जिन्दगी पर आधारित है जो अपने जीवन में बहुत कुछ हासिल करना चाहता है परन्तु जिन्दगी के हर मोड़ पर उसको एक व्यक्ति मिलता है और........

एक लड़का था, जिसका नाम अंशु था, वह अपने जिन्दगी में बहुत कुछ हासिल करना चाहता था। इस कहानी का पहला पाठ है यह 1. अंशु एक गाँव में पैदा हुआ था, जहाँ उसके दादाजी किसान वही उसके पिता जवान, मेरा मतलब है आर्मी के जवान । जब अंशु 4 साल का हुआ तो वह स्कुल जाने लगा। स्कुल के पहले दिन उसे एक मैडम दिखी जिसे देखते ही अंशु को किसी की याद आने लगती है। स्कुल का या अंशु का कोई दोस्त न होने के कारण वह पहला दिन अकेला एक कौने में बैठा हुआ था, तभी वह दे- है कि ढों बच्चे आपस में लड़ रहे थे, तब अंश उनके पास गया और उनहें छुडाया नहीं बल्कि और लड़ाई लगवा दी। जब वह दो बच्चे लड़ रहे तब वह मैडम आती है और उनका लड़ना बंद कराती है, फिर वह बच्चे मिलकर मैडम कोगाली देने लगे। तब अंशु जाकर प्रधानअध्यापक महोदय यानी Pincipal को बताता है फिर Principal आते है और उन बच्चों को रोकते है। फिर कुछ दिनो बाद 26 जनवरी आता है तब अंशु गाना - गाने में हिंसा लेता है, वह गाना गाकर जैसे ही वापस आता है वैसे ही वह दोनों बच्चे अंशु को सीढ़ी पर से धक्का दे देते है।
अंशु चीढ़ी से गीर जाता है और उसका सर फट जाता है तब वह मैडम आती हैं और अंशु को अपने गोद में उठा कर ले जाती है और मलहम-PATTI बंधती है, फिर कुछ दिनों बाद अंशु और वह दोनों बच्चों की दोस्ती हो जाती है वह तीनों मिलकरबहुत मजे करते हैं। मजे करते-करते कब वह 3 कक्षा में पहुंच गए पता ही नही चला। कक्षा 3 में कुछ नए बच्चे आते है, खेर बच्चों को छोड़ों "एक लड़की आती है 'सर पर छोटे- छोटे बाल, गुलाबी गुलाबी गाल और ओठ /-उसको देखते ही अंशु उसका दीवाना हो जाता है।। हा, मे मानता हुँ की अंशु एक छोटा बच्चा है। पर अंशु को अपने बचपन मे प्यार हो गया था । वो लड़की अंशु को पसंद नही करती थी क्यों की अंशु उन बच्चो के साथ रहता था जो भूत शैतान और गाली देते थे।। अंशु भी उन बच्चो के साथ रह कर बिगड़ गया था। एक बार क्लास म जब अब टीचर ने अंशु को मर दिया तो अंशु ने उस टीचर को गाली दे थी और उस लड़की न सुन लिया।। वो लड़की अंशु को बहुत अच्छी लगती थी अंशु उसे बात करना चाहता था पर अंशु उस लड़की को जर भी अच्छा नही लगत था। फिर कुछ दिनों बाद जब वह लड़की खेलते खेलते घिर गई तो अंशु उसकी मदत करता है, फ़र वह दोनों दोस्त बन जाते ह पर अब ३ क्लास खतम होने मे १ महीने ही बचे थे।। वो दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन जाते ह, साथ साथ खेलते, साथ साथ पढ़ते, साथ मे बैठते पर अब ये सब खत्म होने वाला था।। क्युकि?????....................................