रश्मी और मेहुल का याराना - 5 in Hindi Love Stories by Mehul Pasaya books and stories Free | रश्मी और मेहुल का याराना - 5

रश्मी और मेहुल का याराना - 5


हा मॉम बतायेगा वो अभी अभी ही तो आया है अगर आप लोगो ने उसके सामने ऐसी बाते की तो चला जयेगा अगर वो चला गया तो मे आपको कभी माफ नही करूंगी याद रखना हम कबसे बोल रहे है की वो ऐसा नही है फिर भी आप उसके अगैंट्स बोले जा रहे है

ओके बेटा हम नही बोलेंगे पर बाद मे हमे ही झेलन पडेगा सब और कुच नही

डोंट वरि मॉम ऐसा कुच नही होगा जिससे आपका दिल दुखे  ओके

ठीक है चल बहुत लेट हो गया आज तो अब तुम भी सो जाओ ठीक है क्यू की तुम तुम्हारे दोस्त को लेने गये थी सो थक गये होंगी अब आराम करो जाओ वैसे बहुत रात हो गये है

ओके मॉम मे जारी सोने आप भी सो जाओ सारा दिन बस काम ही करती रहती हो आराम भी कर लिया करो ओके

हा बेटा हम जा रहे है

गुड नाइट मॉम

शुभ रात्रि बेटा

ओह शुध भाषा क्या बात है

नेक्स्ट मॉर्निंग...

रश्मी बेटा रश्मी उठो तो जल्दी कितना सारा टाईम हो गया है अब तो उठ जाओ चलो

अरे मॉम क्या कर रहे हो सोने दो ना मॉम

अरे वो तुम्हारा दोस्त चला गया

वॉट क्या बोल रहे हो मॉम

हाहाहा मजाक कर रही हू तुम्हे उठाने का बहाना मिल गया आखिर

हद है मॉम ऐसे मजाक मत करो प्लीज

ओके नही करेंगे बट ये फॉर्मूला अपनाना पडेगा तुम्हे उठाने के लिये

हद है यार

ओके अब जाओ अपने दोस्त को भी तो उठाओ जाओ वरना वो नाराज़ ना हो जाये कही की हमे जल्दी क्यू नही उठाया

पर मॉम लड़को को कोनसा काम होता है जो जल्दी उठ कर आयेंगे

ओके जैसी तुम्हारी मर्ज़ी

ओके जाते है...

मेहुल... मेहुल उठो सुभ हो गये

अरे यार सोने दो ना मम्मी प्लीज

हे मम्मी ये नीन्द मे क्या बड बडा रहे है

मेहुल उठो सुभ हो गये

अरे सोने दोना मॉम

अरे उठो मेहुल..........

ओह गोड ये क्या किया

तुम उठ नही रहे थे कुम्भकरण कहिके

प्लीज सोने दो मुझे

अरे घुमने नही जाना है क्या ओके मत उठो सोये रहो हम जाते है यहा से बाई

अरे रुको रुको उठ ते है रुको 

ये हुए ना बात गुड बॉय अब रेडी हो जाओ

ओके

हम चाय लेके आते है

ओके

रश्मी हा मॉम उस लडके का नाम तो बताओ ताकी हम नाम से बुला सके है

हा मॉम नाम मेहुल है उसका

नाम तो अच्छा है सो काम भी अच्छे ही होंगे

ओह कॉम ऑन मॉम चिल अप नॉव ओके

नमश्ते आंटी जी सुभ प्रभात

शुभ प्रभात बेटा

और बताओ नाश्ते मे क्या लोगे

जी नही आंटी सिर्फ चाय पिला दो

ठीक है चाय पिलो

अरे मेहुल तुम्हारे यहा तुम कॉफ़ी पिते हो या चाय

अरे रश्मी जब मे यहा चाय पिता हू ती जाहिर सी बात है की मे वहा भी चाय ही पिता हौंगा है ना

हा ये तो है

अच्छा रश्मी बेटा अपने डेड को बुला के लाओ गार्डन मे है

जी मॉम अभी लाते है बुलाकर 

हा ले आओ बूलाके

   पढ़ना जारी रखे...
                             पर इसके लिये इन्तज़ारि है जरुरी...

Rate & Review

Hardas

Hardas 10 months ago

Mehul Pasaya

Mehul Pasaya Matrubharti Verified 10 months ago