रश्मी और मेहुल का याराना - 8 in Hindi Love Stories by Mehul Pasaya books and stories Free | रश्मी और मेहुल का याराना - 8

रश्मी और मेहुल का याराना - 8

ओके

वैसे जुगनु भैया गाना चलाओ ना कार मे सब हाजिर है

अरे रश्मी कैसी बाते कर रही हो ड्राईवर को ड्राइविंग के वक़्त कुच और करने की जरुरत नही इतना तो पता होगा ना तुमको

अरे पर मेने सिर्फ गाना चालाने को कहा कोई बडा काम तो नही दिया जुगनु भैया को

हा पर तुम मुझे भी बोल सक्ती थी ड्राईवर गाडी चलाते वक़्त कुच और काम नही करते पता है कुच भी हो सक्ता है

और हा जुगनु भाई तुमने रश्मी को कुच बताया भी है या नही

सर मे तो सब बता देता हू पर ये इक बात रह गये थी और डोंट वरि सर रश्मी जी केयर लेस नही है उनको सब पता है ऐसा नही है की रश्मी जी गैर जिम्मेदार है ऐसा बिल्कुल नही है आप फिक्र मत करिये

पर ऐसे ये हमेशा ऐसे आपको बोलते है क्या गाना चालू करवाने के लिये

हा सर ये तो मुझे डेली बोलते है की गाना चालू कर दो ऐसे

अगर कोई ड्राईवर के बाजू मे बैठा होगा तो उसे बोल दिया जाना चहिये ये तो बिल्कुल जरुरी नही की ड्राईवर आगे है तो उसे ही बोला जाये

ओके बाबा अब नही बोलेंगे ओके हमेशा बाजू वाले को ही बोलेंगे ओके

गुड और ऐसे कभी मत करना नियम हमारी स्
सुरक्षा के लिये है हमे इसे मान ने चाहिये पता है गवर्मेंट ऐसे नियम इसके लिये ही कहती है नियम का अप्नाओ

ओके ओके जरूर करेंगे

अरे रे तुम लोग बस करो अब लडो मत और रश्मी जो भी इन्होने बोला है याद रखना क्यू की इनकी बात बिल्कुल सही है ओके

ओके मॉम डेड इ अग्री विथ यू

हा अब कुच और बात करो या लड़ते ही रहोगे

और रश्मी के पापा आप ना ऐसी बातो को लडाई मत बोलो क्यू की मेहुल बेटे ने जो भी कहा है वो सही कहा है और इसे लडाई नही कहते

ओके गाइज़ रिलैक्स हम जो करने आये है वो करे प्लीज

ओके श्योर

लोकेशन चेंज...

बबलू भैया वो लड्की तो आय ही नही

लगता है वो आज नही आयेगी पप्पू भाई पर अश्ली बात तो ये है की हमारा पप्पू बन गया है

हद है वो लड्की ही नही आये फूटी किस्मत हमारी जो वो लड्की आज नी आये

अब क्या करे

कुच नही अब वापस चलो हम दुसरे दिन आयेंगे


नो नो अब हम नही आयेंगे फिर कभी ओके

ठीक है जैसी तेरी मर्जी

हम्म

सम टाईम लेटर...

फाइनली हम इस जगह आ गये

ड्राईवर गाडी रोको

अरे रश्मी तुम्हारी मुन्नी तो बडी तेज़ है बहुत जल्दी पहुचा दिया

हा अखिर मुन्नी किसकी है हा

हा वो तो है

खैर चलो बहार का नजारा देखते है ओके

हा चलो अंकल आंटी जी आइये

हा चलो 

ओके आंटी जी और अंकल जी हम आते है आप लोग यहा तब तक घुमिये ठीक है यहा गार्डन बहुत बडा है ओके हम यहा पास मे जाते है ठीक है और वापस आके दुसरी जगह जायेंगे ठीक है

ओके पर आप दोनो जल्दी आना ठीक है

हा हम जल्दी आयेंगे

ओके चलो मेहुल

हा चलो

सम टाईम लेटर...

रश्मी ये जगह बहुत ही खूबसुरत है रियली इट्स वेरी नाइस

रियली यहा तो हम हर रोज आते है क्यू की यहा है ही ऐसी जगह

ओके सो इस जगह को फील कर ते है लेट्स गो

ओके

(डेडीकेट करते है इस स्टोरी के द्वारा ये दोस्ती वाला गाना)

तुम लड़की हो..

 मैं लड़का हूँ तुम आई तो..

सच कहता हूँ आया मौसम..

 दोस्ती का.. के आया मौसम..

दोस्ती का..

मैं लड़की हूँ..

तुम लड़के हो यूँ लगता है..

जब मिलते हो आया मौसम..

दोस्ती का..

के आया मौसम..

दोस्ती का..


ला ला ला ला..

जाने क्यों लगता

है मेरी तुम्हारी पहले से पहचान है जाने क्यों लगता है मेरी तुम्हारी पहले से पहचान हैतुम मान इतना जो दे रहे हो मुझपे ये एहसान है एहसानों की..

बातें छोड़ो, आओ हमसे नाता जोड़ो आया मौसम दोस्ती का…

के आया मौसम..

दोस्ती का..

मैं का जानू का चीज़ होवे है प्यार करजवा पे लागी नजर की कटार मैं का जानू का चीज़ होवे है प्यार करजवा पे लागी नजर की कटार अरी दीवानी,

 ना कर नादानी तेरी बातें हैं बड़ी तूफ़ानी नहीं ये मौसम दिल्लगी का नहीं ये मौसम ख़ुद्कुशी का तारा रु रु रू रु हे हे रिश्ता नहीं है दोनों को फिर भी बाँधे कोई डोर है रिश्ता नहीं है दोनों को फिर भी बाँधे कोई डोर है इस दोस्ती को क्या नाम दे हम ये बात कुछ और है दीवानापन कह सकते हो दिल की धड़कन कह सकते हो कि आया मौसम दोस्ती का..


पढ़ना जारी रखे...
                         क्यू की आपको पता है इसके लिये इन्तज़ारि है है जरुरी...

Rate & Review

Mehul Pasaya

Mehul Pasaya Matrubharti Verified 9 months ago