इंटरनेट वाला लव - 10 in Hindi Love Stories by Mehul Pasaya books and stories Free | इंटरनेट वाला लव - 10

इंटरनेट वाला लव - 10

" ओके भाई "

" अच्छा भाई ये न्यू ड्राईवर कब आया आपके पास "

" हा समीर रुको बताता हूं दरसल ये ड्राईवर मेरे पास आया था कुच दिन पहले और मुझे बोला की मुझे जॉब चाहिये तो मेरे पास कोई शिट खाली नही थी जॉब इसे देने के लिये तो ये ड्राईवर की जॉब देदी अब यही ड्राईवर रहेगा ड्राइविंग के लिये "

" तो अब मे क्या करुँगा भाई आपने मेरे बारे में कुच नही सोचा और ड्राइविंग की जॉब इसे देदी "

" अरे अरे समीर रिलैक्स तुम मेरे साथ रहोगे ओके और मेरे साथ काम करोगे और फिर तुम अपनी तन्ख्वाह की फिक्र मत करो वोह मे बिल्कुल सही काम पे दूंगा और तुम्हे उदास होने की जरुरत नही है ठीक है "

" हा भाई तो ठीक है बाकी आपने ड्राइवर वाली बात कही तो मे तो हैरान हो गया था "

" अरे समीर तुम भी ना कमाल करते हो छोटी छोटी बातों पे इतना शोक जाते हो चिल डूड "

" ठीक है भाई खैर अब करना क्या है आगे वोह तो बताओ "

" हा एक काम है आपके लिये समीर वोह ना एक बिल्डिंग की ड्रॉइंग है उसमे से जो बिछो बिच वाला रुम है ना उसको रेसेर्वीचेस कर्वानी है यानी वोह टूटा हुआ रुम तुम्हे रेपैर करवाना है ज्यादा टूटा हुआ नही है बस उसका कलर पलास्टर और थोदी दीवाल का भाग सही कराना है ओके "

" ओके भाई हो जायेगा आप बेफिक्र रहिये और हा वोह ना एक बात बतानी थी आपको की ये बिल्डिंग वाला काम सिर्फ एक ही है या और भी बिल्डिंगज है वहा "

"अरे नही समीर दरसल वोह बिल्डिंग ना हमारे भाई की है तो उन्होने कहा था की ये रेपैर करवा दो ऐसा बोला था वैसे आपको कोई ऐतराज तो नही ये काम करवाने मे देखो ये सिर्फ एक ही बिल्डिंग करवानी है और कुच नही और हा फिर कभी ऐसा काम नही देंगे और फिर तुम मेरे साथ ही रहने वाले हो डोंट वरि ओके इ एएम विथ यू समीर और हा निरास मत होना वहा मजदूर है उनको बोलना की कोई जल्दी नही है आराम से करे ओके "

" अरे डोंट वरि भाई आपका हुक्म सर आंखो पर और आप भी निचिन्त रहिये मे सब कर दूंगा बस आप देखते जाओ "

" चलो भई सुन कर खुशी हुए ठीक है करादेना आप ये काम पर तुम्हे वहा आज ही काम शुरु करना पडेगा ठीक है क्यू की वहा डेड दिन मे वोह काम पुरा हो जाना चाहिये क्यू की तीसरे दिन को वहा कुच प्रोग्राम है ठीक है "

" अरे डोंट वरि भाई हो जयेगा हमने बोलाना आप निचिन्त रहिये ओके "

" ठीक है समीर तुमसे उमीद है और भरोशा भी और हमे पता है ये दो चिज है जो मेरि तुम पर वोह कभी टुट ने नही दोगे "

" चलो हम एक वादा करते है आपसे की इस जिन्दगी मे ना मर जायेन्गे पर कभी आपका भरोसा  नही तोड़ेंगे क्यू की आज तक आपने जितनी भी मदद की है वही हमारे लिये बहुत मायने रखती है "

" ठीक है वोह तो करते रहेंगे जब तक जिन्दा है "

" ओके भाई अब चल्ते है फिर शाम को जल्दी वापस भी तो आना है "

               To be continue...



Rate & Review

Mehul Pasaya

Mehul Pasaya Matrubharti Verified 11 months ago

Writer Mehul

Writer Mehul 11 months ago

Parul

Parul Matrubharti Verified 11 months ago