story of a struggle books and stories free download online pdf in Hindi

एक संघर्ष की कहानी

एक संघर्ष की कहानी

पुराने समय में एक किसान की फसल बार - बार खराब हो रही थी। कभी तेज बारिश की वजह से, कभी तेज धूप की वजह से, कभी ठंड की वजह से उसकी फसल पनप नहीं पा रही थी।
एक दिन इससे दुखी होकर किसान भगवान पर नाराज हो गया। वह भगवान को लगातार कोस रहा था। तभी वहां भगवान प्रकट हुए। किसान ने भगवान से कहा कि भगवन् आपको खेती की बिल्कुल भी जानकारी नहीं है, आप गलत समय पर बारिश कर देते हो, कभी भी तेज धूप और ठंड बढ़ा देते हो। इससे हर बार मेरी फसल खराब हो जाती है। आप मेरी अगली फसल तक मेरे अनुसार मौसम कर दीजिए। जैसा मैं चाहूं, वैसा ही मौसम रहे। ये बातें सुनकर भगवान ने कहा कि ठीक अब से ऐसा ही होगा। ये बोलकर वे अंर्तध्यान हो गए।
अगले दिन से किसान ने फिर से गेहूं की खेती शुरू कर दी। अब जब वह बारिश चाहता था, तब बारिश होती, फसल के लिए जब उसे धूप की जरूरत होती, तब धूप निकलती। इस तरह उसकी इच्छा के अनुसार मौसम चल रहा था। धीरे - धीरे उसकी फसल तैयार हो गई। हरे-भरे खेत को देखकर किसान बहुत खुश था। जब फसल कटाई का समय आया तो उसने देखा कि फसल की बालियों में गेहूं थे ही नहीं, सब की सब खोखली बालियां थीं। ये देखकर उसने फिर से भगवान को याद किया। भगवान प्रकट हुए तो इसकी वजह पूछी।
भगवान ने कहा कि तुम्हारी फसल ने बिल्कुल भी संघर्ष नहीं किया है, इसी वजह से ये खोखली हो गई हैं। जब फसलें तेज बारिश में, तेज हवा में खुद को बचाए रखने का संघर्ष करती है, तेज धूप से लड़ती है, तभी उसमें दाने बनने की प्रक्रिया शुरू होती है। जिस तरह सोने को चमकने के लिए आग में तपना पड़ता है, ठीक उसी तरह फसलों के लिए भी संघर्ष जरूरी होता है। ये बात किसान को समझ आ गई और उसे अपनी भूल का अहसास हो गया।
'जब तक हमारे जीवन में बाधाएं नहीं आती है, तब तक हमारी प्रतिभा में निखार नहीं आता है। बाधाएं ही हमें साहसी बनाती हैं। परेशानियों की वजह से ही हमारा सही विकास होता है।'


माता का वरदान

दुर्गा बनकर आ रही , काली माँ अवतार |
पाठ पढ़ाने प्रेम का , करने भव को पार ||

बस्ती बस्ती अरु गली , मचा एक बस शोर।
दीप जलाने प्रेम का , माता आयी भोर ||

माता मंदिर सज रहा , चौराहे चौबीस |
सन्ध्या कीर्तन कर रहें , ढोलक बजते बीस ||

माता रानी दीजिए , हम भक्तों को दान |
तेरे गुण गाते रहें , दे दो माँ वरदान ||




प्यार तो नाम है , सांस का

प्यार कोई मौसम नहीं , जो आये और चला जाये ...
प्यार कोई फूल नहीं , जो खिले और मुरजा जाये ...
प्यार कोई, बारिश का नाम नहीं, जो बरसे और थम जाए ...
प्यार सुरज भी नहीं , जो चमके और डूब जाये ...
प्यार तो नाम है , साँस का , जो चले तो ज़िंदगी , और रुके तो मौत बन जाये ...