My words my identity - 5 in Hindi Poems by Shruti Sharma books and stories PDF | मेरे शब्द मेरी पहचान - 5

मेरे शब्द मेरी पहचान - 5


--- जीत का एहसास ----

की जीत उसी का हिस्सा होगा ,
जिसमें पराक्रम का वास होगा ,
लालसा का जिसमें नास होगा ,
बल के साथ साथ बुद्धि का भी हाथ होगा ,
जो प्रभु की हर एक परीक्षा में पास होगा ,
जो सिर्फ अपने कर्मों का ही दास होगा ,
जिसे औरों के दुख दर्द का भी आभास होगा ,
जिसे औरों पर नही सिर्फ खुद पर विश्वास होगा ,
सही मायने में उसी ही जीत का एहसास होगा।।
उसे ही जीत का एहसास होगा ।।

-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-×-

---- मुस्कान ----

मुस्कान है एक सुंदर तौफा,
मिलता नही दोस्त बनाने का इससे अच्छा मौका,
मिल जाती है जिसे अपने दोस्त की मुस्कान,
हो जाता है खुश हर वो एक इन्सान।

इस सँसार में हर किसी को होती है मुस्कान पाने की तलब,
हो जाता है वो धन्य जिसे मिल जाते है अपनी माँ से मुस्कान की झलक।

मुस्कान से बढ़कर दुनिया में कोई तौफा न है कहीं,
मिल जाती है जिसे उसके लिए फिर जात पात में कोई फर्क नहीं,
दो इंसानो की दोस्ती में भी मुस्कान का ही होता है फासला,
मिट जाती हैं दूरियाँ फिर चाहे कोई भी क्यों न हो मसला।

मिल जाती है खुशी उसे मुस्कान पाकर जिसके जीवन में हो गम ही गम,
एक बार मुस्कुरा देने से नहीं हो जायेगा तुम्हारे जीवन में कुछ कम ,
बस दूसरों की मुस्कुराहट का कारण बन जाओगे,
अपने भविष्य में तुम खूब पुण्य कमाओगे।

कभी दुखी इन्सान की जगह खुद को रखकर देखना,
कोई भी खुशी ना मिलने पर खुद को रोने से बचाकर देखना,
कुछ समझ पाओ तो दुखी इन्सान का दुख समझ लेना,
किसी की खुशी के खातिर ही तुम बिना वजह मुस्कुरा देना।
बिना वजह ही मुस्कुरा देना।।

-×-×-×-×-×- -×-×-×-×-×- -×-×-×-×-×-×-×-

---- समय ----

समय के साथ चलना सीख लो,
समय के पास इत्ना समय नहीं की समय निकालकर
अलग समय दे सेक हर एक को,
जो चलता है हर पल समय के साथ,
कामयाबी नहीं छोड़ती कभी उसका हाथ।

समय से पहले न कभी किसी को कुछ मिला है
और न ही कभी मिलगा,
तू कर्म करता जा कयोंकि तेरे कर्मों से ही भविष्य तेरा खिलेगा।

जीवन में सुख दुख तो सिक्के के दो पहलुओं की तरह आते रहते हैं,
पर जो दुखों को भी खुशी खुशी स्वीकारता है ,
वही तो सच्चे अर्थों में इन्सान कहलाता है।

समय्ब्के साथ सब कुछ बदल जाता है,
पर एक सच्चे दोस्त का साथ हमेशा रहता है,
एक सच्चे दोस्त ही हैं जो कभी नहीं बदलते हैं,
क्योंकि अपने तो आखिर अपने ही रहते हैं।

समय तो इम्तहान की एक घड़ी होती है,
जिंदगी की सीख कभी मीठी तो कभी कड़वी होती है,
बस जीवन में दोस्त ही है जिसके सहारे जिंदगी की कडवाहट भी मिठास बन जाती है,
वो दोस्ती ही है जो जीवन की नईया पार लगाती है।

मेरे लिए मेरा दोस्त ही सबसे अच्छा है,
याद आता उसके साथ बिताया हर वो यादगार एक किस्सा है,
हर समय याद आता है मुझे मेरा दोस्त,
क्योंकि मेरा दोस्त मेरी जिंदगी का अनमोल हिस्सा है।।

ये समय का किस्सा भी बड़ा सा अजीब होता है ,
दोस्तों के साथ समय के बीतने का आभास ही नही होता ,
और दोस्त के बिना ये समय गुजरता ही नहीं है।।

-×-×-×-×- -×-×-×-×-×-×- -×-×-×-×-×-×-×- -×-×-×-×-×

✍🏻✍🏻--श्रुति शर्मा

Rate & Review

Vishnu Rampur

Vishnu Rampur Matrubharti Verified 11 months ago

સારી રીતે લખી છે

navita

navita Matrubharti Verified 12 months ago

Heema Joshi

Heema Joshi 1 year ago

Harsh Parmar

Harsh Parmar Matrubharti Verified 12 months ago

Jayshree

Jayshree 1 year ago