Aatmagyan - 3 books and stories free download online pdf in Hindi

आत्मज्ञान - अध्याय 3 - आंतरिक शांति की किरण

 

बोधि वृक्ष की कृपालु छाया के नीचे, स्वामी देवानंद के शिक्षण फूलते रहे, उनके शिष्यों के हृदय और मन का पोषण करते। उन्होंने करुणा की महत्ता सीखी थी और अब वे आंतरिक शांति के गहराई में समाने के लिए तैयार थे।

देवानंद ने अपने अनुयायों को ध्यानाभ्यास के माध्यम से आगे बढ़ाया, उन्हें मन को शांत करने और उस अनंत शांति से जुड़ने का मार्गदर्शन किया। मिलकर, वे चुपचाप ध्यान में बैठे, अपने विचारों की उत्तेजना को शांत करते, जैसे कि एक शांत सरोवर पर उठती हुई लहरों की तरह।

जब शिष्यों ने अपनी अपनी चेतना की गहराई में खुद को समाया, तो उन्हें अपनी आंतरिक भय, संदेह और चिंताओं की लहरों से भी मुक़ाबला करना पड़ा। देवानंद ने उन्हें समझाया कि यह यात्रा का प्राकृतिक भाग है, क्योंकि इन्हीं आंतरिक बाधाओं का सामना करने और उन्हें तर्क करने के माध्यम से सच्ची शांति प्रकट होती है।

एक दिन, जब सूर्य एक गर्म चमक बिखेर रहा था, एक जवान आदमी अर्जुन नाम के व्यक्ति ने देवानंद के पास आकर अपनी आवाज में भारीपन के साथ कहा। "स्वामी, मैं जीवन की हलचल और चुनौतियों के बीच आंतरिक शांति ढूंढ़ने में संघर्ष करता हूँ। मैं कैसे एक त्रांकशीलता की भावना का विकास कर सकता हूँ जो बाहरी परिस्थितियों द्वारा हिलाई नहीं जा सकती?"

देवानंद ने अर्जुन की दृष्टि से मिलकर कहा, उनकी आंखों में करुणा भरी थी। "प्रिये अर्जुन, आंतरिक शांति बाहरी अशांति की अनुपस्थिति पर नहीं निर्भर करती, बल्कि हमारी अपनी अंतरंग सामंजस्य पर निर्भर करती है। यह स्थिति स्वीकार, समर्पण और सचेतता में जड़ी होती है।"

उन्होंने जारी रखा, "ध्यानाभ्यास के माध्यम से, हम सोचों को निर्धारण के बिना अवलोकन करना सीखते हैं, मन की तरंगों से अलग करना सीखते हैं। इस विशाल जागरूकता में, हमें शांति का एक स्रोत मिलता है, जो जीवन की चुनौतियों की लहरों से अभिप्रेत नहीं होती।"

देवानंद के शिष्यों ने समय के साथ आंतरिक शांति की बदलावपूर्ण शक्ति का अनुभव किया। उन्होंने समझा कि सच्ची सामंती अंदर से उत्पन्न होती है और बाहर तक फैलती है, जो उनके दूसरों और दुनिया के साथी रहने पर प्रभाव डालती है।

जैसे ही शांति नगर ने उनकी प्राप्त आंतरिक शांति की प्रकाशमय छाप देखी, उत्सुक ग्रामीण उनके पास आकर संतोष और मार्गदर्शन की खोज में आए। वे उनकी चिंताओं को सब्र से सुनते और उनकी आत्मिक गहराइयों तक प्रविष्टि करने वाले वचनों की प्रस्तुति करते।

एक शाम, एक थके हुए यात्री प्रिया शांति नगर में पहुंची, अपने अतीत के गलतियों के भार से आवेगशील हो गई। उसका दिल पछतावे और स्वार्थ-संदेह से भरा हुआ था, और वह एक ताजगी की शुरुआत के लिए वांछित कर रही थी।

दया और करुणा के साथ, देवानंद ने प्रिया को अपने प्रतिष्ठित सामर्ध्य में स्वागत किया। उन्होंने क्षमा और पुनर्मिलन की कहानियाँ साझा की, उसे याद दिलाया कि आंतरिक शांति का मार्ग स्व-करुणा और स्वीकृति से प्रारंभ होता है।

"प्रिये प्रिया, सच्ची शांति तब उभरती है जब हम अपनी खामियों को ग्रहण करते हैं और मानते हैं कि गलतियाँ हमारे मानवीय यात्रा का हिस्सा हैं," उन्होंने कहा। "अपनी क्षमता को विकसित करके और भूतकाल को छोड़कर हम वर्तमान क्षण की प्रभावी शक्ति को प्रकट करने के लिए द्वार खोलते हैं।"

उनके शब्दों से प्रभावित होकर, प्रिया की आंखों से आंसू बहने लगे जब वह अपने दिल से बोझ को हटते हुए महसूस करने लगी। उस पल में, उसे समझ आया कि उसकी शक्ति है अपने जीवन के लिए एक नया कथन बनाने की, जो प्यार, क्षमा और आंतरिक शांति में जड़ी है।

अध्याय ३ शिष्यों के आध्यात्मिक सफर में एक महत्वपूर्ण चरण को चिह्नित करता है, जब वे आंतरिक शांति के राज्य में उतरने के लिए प्रवेश करते हैं। ध्यानाभ्यास और स्वामी देवानंद द्वारा प्रदान की जाने वाली ज्ञान के माध्यम से, उन्होंने जाना कि शांति बाहरी गंभीरता पर निर्भर नहीं होती, बल्कि यह एक अंदरूनी स्थिति है जिसे हम अपने अंदर से पैदा कर सकते हैं और पोषण कर सकते हैं।

जब वे अपने यात्रा को जारी रखते हैं, करुणा और आंतरिक शांति के प्रकाशमय प्रकाश के साथ, उनके शिष्य दूसरों को भी स्वयं-खोज और परिवर्तन के अपने रास्ते पर उत्प्रेरित करते हैं। शांति नगर में प्यार और शांति की छाप छोड़ने के साथ, वे समुदाय में एक सुरक्षित स्थान बन गये, जहां करुणा, आंतरिक शांति और असीम आनंद सहित एक समय के साथी सम्बंधित अस्तित्व को प्रोत्साहित किया जाता है।

Share

NEW REALESED