Hold Me Close - 9 in Hindi Love Stories by Harshu books and stories PDF | Hold Me Close - 9 - नजदीकियां

The Author
Featured Books
Share

Hold Me Close - 9 - नजदीकियां




कुछ देर बाद रेवा वही बेड पर बैठकर एक किताब पढ़ रही थी । तभी अर्जुन बाथरूम से नहाकर बाहर आता है और मिरर के सामने खड़े होकर अपने गीले बाल सुखाने लगता है । रेवा की नजर अर्जुन पर जाती है और वही थम जाती है । उसके गीले बालों से अभी भी पानी टपक रहा था ।

"फिर से शर्टलेस घूम रहे है ! वैसे ये सच मैं बहुत हॉट है .. मानना पड़ेगा ! लेकिन ये जितने हॉट है इनका बिहेवियर उतना ही कोल्ड..", रेवा ने मन मैं ही कहा।

"क्या देख रही हो ? ", अर्जुन ने रेवा की ओर देखते हुए पूछा । अर्जुन के इस सवाल से रेवा हड़बड़ा जाती है और उसके हाथो से किताब नीचे गिर जाती है ।

"वो..में..में..कुछ भी तो नही ! किताब पढ़ रही हूं मैं ", रेवा ने नीचे गिरी हुई किताब उठाते हुए कहा।

अर्जुन ने अपने कदम रेवा के ओर बढ़ाए । अर्जुन को अपनी ओर आता हुआ देख रेवा का दिल जोरो से धड़कने लगा । इससे पहले कि रेवा अपनी जगह से उठ पाती अर्जुन ने उसे घेरते हुए कहा – "तुम मुझे देख रही थी ना ??मुझे ऐसे देखकर तुम्हारी नियत बिगड़ रही है? तुम अट्रैक्ट हो रही हो न मेरे तरफ ? "

"बिलकुल भी नही ! में भला आपको क्यों देखूंगी ? और मैं अट्रैक्ट नही हो रही आपकी तरफ! "रेवा ने अपनी नजरे झुकाते हुए कहा ।

"रियली ? ", अर्जुन ने थोड़ा और रेवा की नजदीक जाते हुए पूछा ।

अर्जुन की गर्म सांसे रेवा अपने चेहरे पर महसूस कर रही थी । रेवा ने अर्जुन के सीने पर अपना हाथ रखते हुए उसे अपने से दूर करना चाहा लेकिन तभी अर्जुन के मुंह से आह निकल गई।

"क्या हुआ ?", रेवा ने पूछा ।

"तुम्हे इतने जोर से धक्का देने की जरूरत थी क्या ?", अर्जुन ने रेवा से दूर जाते हुए कहा ।

"मैने कहा धक्का दिया मैंने तो बस...", रेवा बोलते बोलते चुप हो गई । उसने देखा की अर्जुन के सीने पर एक गोली लगने का निशान था जहा से खून बहे रहा था । 

"I am sorry ! आप बैठिए यहां मैं दवाई लगा देती हूं ", रेवा ने first-aid बॉक्स निकलते हुए कहा ।

"कोई जरूरत नही है उसकी ! ठीक हो जाएगा ये ! और तुम चलो हमे लेट हो रहा है ", अर्जुन ने कहा और शर्ट पहन लिया ।

"आप सुनते क्यों नही हो मेरी बात ? मैने कहा ना एक बार की में दवाई लगा दूंगी ! बैठिए यहां चुपचाप ! ", रेवा ने अर्जुन को जबरदस्ती बेड पर बिठाते हुए कहा।

"शर्ट उतारिए .. में दवाई लगा देती हूं ", रेवा ने कहा।

अर्जुन ने अपने शर्ट के बटन खोले ।

"दर्द हो रहा है बहुत ?", रेवा ने दवाई लगाते हुए पूछा ।

रेवा की इस बात पर अर्जुन ने अपना सिर ना मैं हिला दिया.।

रेवा अर्जुन के चोट पर दवाई लगा रही थी । और बीच बीच मैं उसकी चोट पर फूंक मार रही थी ताकि ज्यादा दर्द का एहसास ना हो । रेवा को अपने इतना करीब देखकर अर्जुन की हार्टबीट तेज हो रही थी । पहली बार कोई लड़की अर्जुन के इतने करीब थी। आज से पहले कभी भी अर्जुन को इतना सुकून कभी फील नही हुआ था जितना रेवा के करीब होने से हो रहा था । वो एक अलग ही फीलिंग थी जिसे शायद अर्जुन भी नही समझ पा रहा था।

"आपको ये सब करने की क्या जरूरत है ? ये ऐसे किसीको मारना अच्छी बात नही होती । खुद को भी हार्म कर लेते है आप ", रेवा अकेली की बोले जा रही थी लेकिन अर्जुन का ध्यान रेवा की बातों पर बिलकुल नही था । वो बस एक टक रेवा के चेहरे को निहार रहा था ।रेवा की बालों की एक लट उसके गालों को बार बार चूम रही थी और रेवा उसे अपने चेहरे से दूर करने की नाकाम कोशिश कर रही थी। अर्जुन अपना हाथ रेवा के चहरे की ओर बढ़ा ही रहा था तभी रेवा ने कहा –" आपसे एक बात पूछूं ?"

हम्मम अर्जुन ने कहा।

आपकी कोई गर्लफ्रेंड नही है क्या ? रेवा की इस सवाल पर अर्जुन ने जवाब दिया –" है तो.. मेरी गर्लफ्रेंड्स है ..बहुत है ! और रोज रात एक एक गर्लफ्रेंड के घर जाता हूं ।

क्या ! रेवा ने चौंकते हुए पूछा।

"कैसे बचकाने सवाल कर रही हो मुझ से ! अगर मैं किसीसे प्यार करता तो उसीके साथ शादी भी करता न ! और डोंट वरी तुम्हें कभी अकेला नही छोड़ूंगा मैं ! ", अर्जुन ने जवाब दिया ।

"और अगर आपको कभी किसी दूसरी लड़की से प्यार हो गया तो ?? तो मैं कहा जाऊंगी ? ", रेवा ने अर्जुन की आंखों में देखते हुए पूछा।

"नही होगा प्यार किसी दूसरी लड़की से ! Trust me", अर्जुन ने रेवा को यकीन दिलाते हुए कहा ।

" थैंक यू " रेवा की इस थैंक यू पर अर्जुन ने कहा –" ये किसके लिए ?"

"आपने मेरी जान बचाई लेकिन मैने आपको थैंक्स भी नही कहा", रेवा ने हिचकिचाते हुए कहा ।

"हम्म्म्म अर्जुन ने बस इतना ही रिएक्ट किया ।

"खडूस कहीके ! इतने प्यार से थैंक्स बोल रही थी लेकिन फिर भी कोल्ड रिप्लाई दे दिया ", रेवा बड़बड़ाती है ।

"हो गया ", रेवा ने कहा ।

"इतनी जल्दी !! अगर तुम ऐसे मुझे दवाई लगाओगी तो रोज मैं ऐसी 10 गोलियां खा सकता हूं ", अर्जुन ने धीमी आवाज मैं कहा ।

"कुछ कहा आपने ? ", रेवा ने पूछा ।

"कुछ नही.. लेट्स गो", अर्जुन ने कहा ।