Meera - 16 books and stories free download online pdf in Hindi

मीरा - 16

नोट- क्षमा करें दोस्तों, मैं कहानी तो प्रस्तुत कर देता हूँ लेकिन स्वीकृत होने में बहुत समय लग जाता है। मैं खुद इस बात से बहुत परेशान हूं....

 Aaditiya p.o.v.

भुल गई ऐसे कैसे भूल  सकती है......... please मुझे मत भूलो.... Please..(उसकी आँखों में आशू थे)मैं रो नहीं सकता ....अगर वो मुझे भूल गई तो क्या....मैं हमेशा उस्के  साथ रहुंगा.... हम पहले कि तरह  साथ नहीं होंगे लेकिन अब मैं उसे अकेला नहीं छोड़ूँगा............कभी नहीं....I really love you Meera.....yes I love you... ....तुम्हें खोने के बारे में तो  मैं सोच भी नहीं सकता.... मुझे अब एहसास हुआ तुम्हारे लिये मेरे प्यार का..........................you are my life .....my everything.......(अपने आशु पूछता है)...........

वार्ड के अंदर सब आदित्य को देख रहे थे ओम ने राधा को उसके पास नहीं जाने दिया  उनका हाथ पकड़ रखा था...

Radha -आप मुझे क्यों रोक रहे हैं.... 

Om-वो थोड़ा stress में है...उसके पास मत जाओ वो तुम्हारे सामने खुद को weak नहीं दिखाएगा...

Radha -लेकिन मुझे....

Om-न राधा....

आदित्य के खड़े होते ही सब उसे देखते हैं.......आदित्य उनकी तरफ मुस्कुराता है..........मीरा दवा की वजह से सो गई थी ..........डॉक्टर प्रकाश आदित्य की तरफ आते हैं....

Prakash -मीरा का अभी दिमाग पर जोर देना बेकार है... इसलिए उनके लिए यह सही होगा अगर वो उन्हें देखे जिन्हें वो पहचान पा रही है...जब उनका health stable हो जाएगा तब अगर आप उन्हें मिले तो अच्छा होगा....I hope आप समझ रहे होंगे....

Aaditya - yes डॉक्टर I understand..........uncle aunty आप  अभी घर जा सकते हैं ...मैं हूं मीरा के साथ.... और फिर में उसके साथ ज्यादा भी नहीं रह सकता क्योंकि अभी उसकी हालत ठीक नहीं है... अगर वो ज्यादा जोर देगी  मुझे याद  करने के लिए तो ये उसके लिए अच्छा नहीं हैं...अभी वो कुछ देर तक सोई रहेगी तो मैं यहां रह सकता हूं ......आप शाम तक आ जाना.......फिर मैं यहां से चला जा.....ऊ..गा...(आखिरी शब्द बोलते उसकी आवाज भारी हो जाती है)

ओम आदित्य के कंधों पर हाथ रखता हैं .......

Om-आदि...मीरा को तुम जल्दी ही याद आ जाओगे....

Aaditya -uncle मैं ठीक हूं...आप जाकर आराम करो...और आंटी आपके स्पेशल पराठे लेकर आना शाम को....(मुस्कुराते हुए)

Radha-बिल्कुल...बच्चा...

ओम या राधा चले जाते हैं... डॉक्टर नर्स के साथ बाहर चले जाते हैं...आदित्य मीरा के पास जाकर बैठ जाता है....उसका हाथ अपने हाथो में लेता है....और  अपने गालो के पास लेकर आता है......

Aaditya - I love you Meera....अब से मैं हमेशा तुम्हारे साथ रहूंगा....चाहे सामने से नहीं तो पीछे से...(उसके हाथ पर kiss कर कर)जल्दी जल्दी सही हो जा...अब... मुझे मेरी मीरा वापस चाहिए...

आदित्य के पास फोन आता है ......

Aaditya -hmmm aashish...

Aashish -मीरा की हालत कैसी है अब...

Aaditya -ठीक है....लेकिन वो apni memory खो चुकी है....

Aashish-अब तो उन लोगो तक पहूंच पाना बहुत मुश्किल हो जाएगा...

Aaditya -(दिल में) वो तो मरेंगे......  उनको कानून से नहीं मेरे हाथों से सज़ा मिलेगी....

Aashish -hello adi...

Aaditya -oh sorry मैं भी परेशान हूं....

Aashish -आज में  उस एरिया में चलने वाले ट्रक की जानकारी ढूंढ रहा था....इस एरिया में ट्रक ज्यादा चलते हैं...ड्राइवर का कहना है कि उस दिन उनकी strike थी...पर मुझे ये पता चला उस दिन कुछ अवैध ट्रक वहां से गए थे....हम जल्दी ही उन तक पहुंच जाएंगे...

Aaditya -मुझे तुम पर पूरा भरोसा है....

Aashish -अगर Meera को कुछ भी याद आता है तो मुझे बताना..

Aaditya-आशीष ये खबर बाहर नहीं आनी चाहिए.....

Aashish -पर ये मेरे हाथ में नहीं है...

Aaditya -हम्म... मुझे पता है...मैं तुम्हारे डीजीपी से बात करता हूं...

Aashish -hmmm...

आदित्य कॉल कट करता है... फिर राजीव को कॉल करता है...राजीव कॉल उठाता है...

Rajiv - good afternoon sir...

आदित्य - अभी यहां के डी जी पी से बात करो and उनको मीरा के केस  को बाहर नहीं  लाने को कहो...

Rajiv -okk sir...

आदित्य कॉल कट कर कर मीरा का हाथ पकड़ता है...

Aaditya -उनको में जो सजा देना चाहता हूं वो कानून नहीं दे सकता.... मुझे कानून पर भरोसा है...पर ये तुम पर हुआ है...उनके लिए फासी काफ़ी नहीं है...(आदित्य के चेहरे पर बहुत गुस्सा था)🤬🤬

आदित्य मीरा को बस देखता रहता है नर्स कई बार अंदर आई पर आदित्य ने उसकी तरफ एक बार भी नहीं देखा...

Nurse -oh God ....ये क्या कर दिया तुमने...सर कैसा रहेगा...मैम के बिना...हालत देखो उनकी..इंसान नहीं मूर्ति लगता है.... 😮‍💨😮‍💨(दिल में) 

Om and  राधा evening में आते हैं...आदित्य तब भी मीरा के पास थे......राधा आदित्य के सिर पर हाथ रखती है....

Radha-तब से ऐसे ही बैठा है ना...

आदित्य कुछ नहीं बोलता....

Radha -चलो अब खाना खा लो...

Aaditya -hmmm....

आदित्य खाना खाता है. पर ज्यादा नहीं खाता.... तो राधा और ओम उसको अपने हाथों से खिलाते हैं.... खाना खा लेने के बाद......मीरा को होश आ रहा था....

Aaditya -मीरा को होश आ रहा है मुझे चलना चाहिए... Byy uncle byy aunty...(साइड हग करते हुए)

आदित्य वहां से चला जाता है...बाहर उसकी कार थी...जिसमे रॉकी था.........

मीरा को होश आने पर वो राधा को देखकर मुस्कुराती है.... डॉक्टर आकर उसको चेक करते हैं... फिर आराम करने का बोलकर चले जाते हैं.... राधा वही रुकती है... और ओम वापीस घर चले जाते हैं.....

आदित्य के कार जब रुकते हैं तब तक रात हो चुकी थी...वो एक बिल्डिंग के अंदर जाते हैं...अंदर 4 लोग घुटनो के बल बैठ  रखे था....  उन का चेहरा  बुरी तरह से डर के मारे पसीने पसीने हो रखा था...उनको रस्सी से  बांध रखा था...आदित्य वहा आकर शोफे पर बैठ जाता है.... Rocky जाकर एक थप्पड़ उनमे  से एक को मारता है...

Rocky -भोको...कुत्तों...जो अभी भोक  रहेथे .........

उस रात......

एक काले रंग की वैन एक पेड़ के पास  रूकती हैं .... और  किसी चीज़ को बहार फ़ेककर ..... वहां से चली जाती है.....वो मीरा थी.. बेहोशी  की हालत में पेड़ को पकड़ते हुए उठना चाहती है... पर उसके हाथ पकड़ नहीं बना पा रहे थे...अपने  पेट  को पकडकर वो  दर्द से कराहाती है....उसका पूरा शरीर गरम हो गया था...जो उसके लिए परेशानियाँ पैदा कर रहा था...वो बोहोत तेज सांस ले रही थी.. दर्द से तड़प रही थी....अपने पैरों को ज़मीन पर पटक रही थी कि खड़ी हो सके...किसी तरह से खड़ी होती है....एक ट्रक जो कुछ दूरी पर खड़ा था...उसके पास चार आदमी नशे में थे...और झूम रहे थे...मीरा को देखकर वो एक दूसरे की तरफ देखते हैं...। 

1आदमी- आ...आज तो मजा आ जाएगा...

2आदमी- चल....

वो लोग मीरा के पास आते हैं...उन्हें झूमते हुए देखकर मीरा जंगल के अंदर भागती हैं...उसके पैर उसका साथ नहीं दे रहे थे..पर वो जबरदस्ती भाग रही थी...मीरा को  भागता देखकर वो भी उसके पीछे  भागते  हैं....

3आदमी -अबे...कुछ उठा के मार उसके...

 उन्मे से एक आदमी वहां पर पड़ी एक मोटी लकड़ी उठाकर मीरा के सिर पर मारता है...मीरा गिर जाती है...वो उसके चारो तरफ गोल घेरा बना लेते हैं...

1आदमी-क्या माल है यार....

3आदमी-ये हुस्नपरी रात को ...

4आदमी -अपने भाग खुल गए...

मीरा कराहती है.... 

2आदमी- जानेमन तुम तो अभी से शुरू हो गए...

1आदमी-पहले तो मैं ही जाऊंगा...

2आदमी-चुप  कर पहले मैंने देखा था उसको..

3आदमी-मैं तुम्हारा बॉस हूं....पहले मैं....

मीरा के सिर से खून आ रहा था...और उसका शरीर इतना गर्म हो गया था उसके कपड़े उसको खा रहे थे...पर वो खुद के हाथ जमीन पर मार रही थी...

मीरा - (मुस्किल से बोलते हुए) सोचना...भी...मत.मेरे करीब आने की...

वो तिसरा आदमी उसके पैर पकड़ लेता है...उसके कपड़े   और चेहरा. नोचता  है...मीरा अपने पैर झटकना शुरू कर देती है...और बहुत जोर से उसको लात मारती हैं..वो आदमी पीछे गिर जाता है...मीरा पास में पड़ी लकड़ी उठाती है...और पूरी ताकत से जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी खडी होती हैं...

3आदमी -(खड़े होते हुए)साली मुझे मारा...पकड़ो उसको...

बाकी तीनों मीरा के पास आते हैं वो उनको जोर से डंडे से मारती है पूरी ताकत लगाकर...वो गिर जाते हैं...मीरा वहा से भागती हैं रस्ते में बहुत सारी झारी थी मीरा उन के बिच में छुप जाती है..वो उसको हर जगह ढूंढते है...

4आदमी-अबे कहा चले गई...

खाई की तरफ देखते हैं......

3आदमी -लगता है खाई में गिर गई....

1आदमी-अरे यार...

2आदमी-चलो अब वापस चलते हैं...

वो लोग वहां से चले जाते हैं....मीरा अपने शरीर को घसीटती है...और आगे बढ़ने की कोशिश करती है पर पैर के फिसलने से....

आआआ.........

एक रॉक से टकराती है जिस का  नुकिला सिरा उसके सिर पर लगता है पीछे की तरफ... और वो बेहोश हो जाती हैं...

Present time....

वो इंसान रोने लग जाता है....और आदित्य के पास आता है अपने घुटनो के बल .....

Person -गलती हो गई साहब.....साहब....माफ कर....

तपक्कककक..........

एक थप्पड़ उसके गालों पर पड़ता है जिससे वो ज़मीन पर गिर जाता है ये आदित्य ने मारा था...आदित्य उसका कॉलर पकड़कर उठाता है...उस आदमी के मुंह से खून आ रहा था...आदित्य उसके चेहरे पर मुक्का मारता है...जो उसके मुंह पर लगता है वो  जमीन पर खून की उल्टी कर देता है...आदित्य फिर उसको वापस उठाता है और पीछे धक्का देता है....बाकी तीनो डर के मारे थरथराने लगे......आदित्य खड़े होकर उनके पास जाता है......Rocky एक चाबुक आदित्य को देता है...वो चारो पीछे जाने लगते हैं....

चारो(एक साथ)-साहब नहीं...माफ़ कर दो....साहब .........आआआ...

चटक्ककककक.........चटक्ककककक.......

 चाबुक की आवाज ... उन चारो की चिक पूरे कमरे में गूंज रही थी... आदित्य उनकी आवाज सुनकर ओर तेज उनको मार रहा था.......

Aaditya -सा**...मा*****...भ****का***...तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरी मीरा को......

मीरा के बारे में सोचते ही उसका गुस्सा ओर बढ़ गया....चाबुक की आवाज  ओर तेज हो गई उनकी चीखे बढ़ने लगी...पूरी फर्स पर खुन है...उन चारो का होश बिगड़ने लगा...वो बेहोश होने वाले थे...आदित्य रुक जाता है....

Aaditya-मुझे ये ज़िंदा नहीं चाहिए...एनके छोटे-छोटे टुकड़े करके शहर में जगह-जगह फेंक दो...ध्यान रखना ये बेहोश ना हुए हो.......

अंदर  जो  बॉडीगार्ड खड़े थे..उनहोने कभी आदित्य का ये रूप नहीं देखा था वो भी डर गए थे...और काप रहे थे......आदित्य वहां से पलट कर चलता है... रॉकी उसके साथ आता है... कार में पहुंच कर आदित्य रॉकी की तरफ देखता है...

Aaditya -मीरा की  kidnapping के पीछे किसका हाथ है पता करो...

Rocky -ma'am  की  किडनैपिंग के पीछे किसी बड़े आदमी का हाथ है ... उस तक पहुंचना आसान नहीं है...पर बॉस...मैं उस तक पहुंच कर रहूंगा.......

Aaditya -हम्म..Driver start the car....

आदित्य कार में खिड़की की तरफ चेहरा करता है और रोने लगता है....