Bhootiya Express Unlimited kahaaniya - 5 books and stories free download online pdf in Hindi

भुतिया एक्स्प्रेस अनलिमिटेड कहाणीया - 5

एपिसोड ५ काळा जादू




मित्रो, जिस प्रकार सत्य के सतयुग का अंत हुआ, उसी प्रकार कर्मकांडी, षडयंत्रकारी, पाखंडी-नीच, कामी, लालची कलियुग का आरंभ हुआ...कलियुग के प्रारंभ होते ही सत्ययुग का देवपुरुष कलियुग में राक्षस जैसा व्यवहार करने लगा। राक्षसों का राह चलती लड़कियों को छेड़ना, राक्षसों का अपने बुजुर्ग माता-पिता को वृद्धाश्रम भेजना, राक्षसों का दूसरों की शीघ्र सफलता से जलना....कई ऐसे लोग जिन पर कलि की आदतों का असर नहीं होता, वे राक्षसों जैसा व्यवहार करने लगते हैं कलियुग. आज इस समय मैं कलयुग के उन लोगों में से एक की कहानी बताने जा रहा हूं जो कलियुग की आदत नहीं मानते थे। आज कलियुग में वह हमारे चारों ओर प्रगति कर रहे मनुष्य की सफलता पर जल रहा है...भले ही आप यह न जानते हों, लेकिन यह सत्य है। सत्य अकल्पनीय सत्य से कई गुना भिन्न होता है। अब समय आ गया है कि हम ठीक से काम करें इन लोगों को पहचानिए जो अच्छाई का मुखौटा पहनकर समाज में घूमते हैं। हा....इस कहानी में मैं आपको दिखाने जा रहा हूं कि अन्यथा परिणाम कितने भयानक हो सकते हैं!


□□□□□□□□□□□□□□□□□□□□□□□□

ये घटना 1996 की है. उस समय मेरे दादाजी रामचन्द्र तरूण रेलवे में कार्यरत थे। यह अप्राकृतिक घटना मेरे दादाजी के एक मित्र विलास के परिवार के साथ घटी। आइए देखें क्या हुआ.......उनके साथ =>

उस समय 25 साल के विलास ने रेलवे में नई-नई नौकरी ज्वाइन की थी। उनके परिवार में माँ-पापा 2 बड़े भाई-ये दोनों भी छोटी-मोटी नौकरियाँ करते थे.. दोनों की शादी हो रही थी।
विलास दोनों में सबसे छोटा अविवाहित था, लेकिन जैसे ही उसे नौकरी मिली, परिवार ने उसके सामने शादी का प्रस्ताव रखा। विलास राव भी इस प्रस्ताव पर सहर्ष राजी हो गए...क्योंकि लड़की भी उन्हें पसंद करती थी...आज की तरह शादी के बाद फोन गिफ्ट देना और घंटों बातें करना...ऐसी प्रथाएं न थीं और न हैं। एक उपकरण उपलब्ध है. इसलिए विलासराव कभी-कभी काम से छुट्टी लेकर नीता से छुप-छुप कर मिलते थे...जिससे दोनों का प्यार दिन-ब-दिन बढ़ता गया। घर में किसी को नहीं पता था कि ये दोनों चोरी-छिपे मिलते हैं। लेकिन मेरे दादाजी रामचन्द्र को यह सब पता था क्योंकि वह विलास राव के घनिष्ठ मित्र थे। 6 महीने बाद दोनों ने रीति-रिवाज से शादी कर ली। शादी के डेढ़ साल बाद दोनों भाइयों में संपत्ति को लेकर लड़ाई होने लगी... विवाद दिन-ब-दिन चरम पर पहुंचता जा रहा था। विलासराव लड़ना नहीं चाहते थे, इसलिए विलासराव ने अपना घर गांव के बाहर उस खेत में बनाने का फैसला किया, जिसे उन्होंने अपने हक में खरीदा था। सरकारी नौकरी होने के कारण पैसे की कोई कमी नहीं थी। उस समय निर्माण सामग्री भी सस्ती थी। लेकिन राजमिस्त्री. लेकिन बिगारी विलासराव से परिचित नहीं थे। एक दिन विलासराव इस मामले पर बात करने के लिए मेरे दादाजी के पास आए। कुल मिलाकर, उनके दादाजी संपत्ति के बारे में सब कुछ जानते थे। विलासराव के दादाजी को विलासराव के लिए घर बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं थी, लेकिन जब विलासराव के दादाजी ने घर बदलने का मुद्दा उठाया, तो विलासराव ने कहा।''रामचंद्र... मेरे घर की संपत्ति दोनों बड़े भाइयों के बीच है
.......परिवर्तन तो हर दिन होता है...! "
विलासराव ने मेरे दादा यानी रामचन्द्र से कहा।

"हां, तुम्हें पता है... दोस्त...! और मुझे भी पता है... कि तुम्हें उस संपत्ति में हिस्सा भी नहीं चाहिए!"
रामचन्द्र ने कहा।

"हे रामचन्द्र.... मुझे उस जायदाद में कोई दिलचस्पी नहीं..! मेरी नौकरी ही काफी है.... मेरे लिए.... मुझे बस एक चीज चाहिए... मेरी पत्नी और होने वाला बच्चा... खुश रहो।" ...
इतना ही!"
विलासराव ने अच्छे मन से कहा.

"अरे वाह विलास! तुम मुझे यह नहीं बताओगे कि यह तुम हो?"
क्या नीता भाभी प्रेग्नेंट हैं..?”
मेरे दादाजी यानि रामचन्द्र ने खुश होकर कहा। उनकी ख़ुशी आज सातवें आसमान पर पहुँच गई लग रही थी। मेरे दादाजी ने पल भर के लिए खड़े होकर राजन को गले लगाया और खुशी से उसकी पीठ थपथपाई.... और फिर से अपनी सीट पर बैठते हुए बोले।

"विलास! मुझे इस खुशखबरी पर एक पार्टी चाहिए!"
रामचन्द्र ने अपने दोनों हाथ अनोखे ढंग से उठाये
कहा

"ओह, मैं इसे जरूर दूँगा... अपने नये घर को...!"

"नया...घर...! ......मतलब....? मैं कुछ समझूंगा।"
नहीं?"
मेरे दादाजी ने ऐसे कहा जैसे समझ नहीं रहे हों।

"हाँ, रामचन्द्र नये घर में हैं! इसीलिए तो यहाँ आया हूँ...!"
ऐसा विलासराव ने कहा. सारी जानकारी सुनने के बाद रामचन्द्र ने कहा कि रामचन्द्र मुझे घर बनाने के विचार के बारे में सब कुछ विस्तार से बताएगा।

"क्या जगह ठीक है? क्या जंगल में है?"

"जंगल में नहीं है..! पैन गांव से थोड़ा बाहर है..!"
''क्या आसपास घर हैं...?'' रामचन्द्र ने कहा।
"अभी नहीं..! बाद में आबाद हो जाएगा।"
वहाँ...! मुझे भी ऐसा ही लगता है...!"

"हम्म....ठीक है...फिर! मैं एक बिल्डर को जानता हूं
मैं उससे बात करूंगा।"
मेरे दादा यानी रामचन्द्र की ये बातें सुनकर विलासराव बहुत खुश हुए। घर की समस्या सुलझने से उन्हें थोड़ी राहत मिली। कभी-कभी इधर-उधर की गपशप होती रहती थी। फिर विलासराव अपने घर के लिए रवाना हो गए। घर आकर उन्होंने यह खुशखबरी अपने दोनों भाइयों और माता-पिता को सुनाई। खुशखबरी सुनाते समय विलासराव मिठाई का एक डिब्बा लाए थे.... उन्होंने एक डिब्बा देकर अपनी खुशी जाहिर की प्रत्येक को पेड़ा। बाद में विलासराव के घर में काम शुरू हुआ। घड़ी की सुइयाँ आगे-पीछे होने लगीं और समय का पहिया घूमने लगा। और फिर 3-4 महीने बाद वो सुनहरा दिन आ गया, विलासराव को उनका हक का घर मिल गया.
गृहप्रवेश के दिन विलासराव और नीताबाई के सभी परिवार अपने नये घर में एकत्र हुए। कुल मिलाकर यह विलासराव और उनकी पत्नी नीताबाई के जीवन का बहुत ही ख़ुशी का पल था! तभी मेरे दादाजी भी काम से छुट्टी लेकर पूजा के लिए आये। पूजा के बाद विलासराव के सभी परिवार वाले हॉल में बैठे थे . विलासराव की पत्नी नीताबाई को छोड़कर... नीताबाई 8 महीने की गर्भवती थीं। वह अब रसोई में सबके लिए शिरा बना रही थीं। ठीक उनके सामने
वहाँ एक खिड़की थी. उस खिड़की से सारा दृश्य दिखाई दे रहा था। आसपास गाँव के लोगों का एक खेत था। चूँकि गर्मी का मौसम था, मैदान में घास मुलायम हो रही थी, ऐसा लग रहा था मानो लाल रोशनी में सोना लहलहा रहा हो। 150 -घर से 200 मीटर की दूरी पर, कुछ पेड़ों और झाड़ियों को छोड़कर यह एक दीवार की तरह खड़ा था, यानी कि झाड़ियों से परे कुछ भी नहीं देखा जा सकता था, नीताबाई अपने नरम मुस्कुराते चेहरे के साथ नसें बना रही थी, तभी अचानक एक सफेद चेहरे वाली महिला काली साड़ी पहनकर झाड़ियों के बीच से निकली... और अचानक रसोई की खिड़की से अपनी सफेद आंखों से देखा... मैं नीताबाई की आकृति को देखने लगी... दोस्तों हर इंसान में एक अलग शक्ति होती है... अगर कोई खड़ा है हमारे पीछे और हमें घूर रहा है, तो उस क्षण हमारे मस्तिष्क को ऐसा लगता है। हमारा आदमी उस सिग्नल पर चारों ओर देखता है, सेम-हुबे-हब। इसी तरह, नीताबाई को पता चलता है कि कोई उसे देख रहा है। वह अपनी आँखें दो बार झपकती है , नीचे, बाएँ और दाएँ देखती है... और सीधे खिड़की से बाहर देखती है। दूर काली साड़ी पहने एक महिला दिखाई दी, जिसका चेहरा धूप में सफ़ेद चमक रहा था। उसके बाल बिखरे हुए थे जो दोनों कंधों से नीचे लटक रहे थे। महिला की आंखों के नीचे काले घेरे थे और उसके होंठ भी काले थे। और उसके मुँह से काली लार निकल रही थी, नीताबाई सम्मोहित होकर उस महिला की ओर देखने लगी। उस महिला ने अपने दोनों हाथ खास अंदाज में ऊपर उठाये. नीताबाई हमें बुलाने लगीं. वह आगे-पीछे झाड़ियों में गायब हो गई,

क्रमशः