हुआंग चाउ की बेटी - 3

हुआंग चाउ की बेटी

3 - सीक्रेट ट्रेज़र हाउस

न्यूयॉर्क की कॉलोनी के विपरीत लाइमहाउस में देखने जैसी जगहें नहीं थीं। आगंतुक को यहाँ कुछ और नहीं बस संकरी गलियां और अंधियारे गलियारे दीखते थे। सरसरी तौर पर देखने वाला यहाँ से यह मानकर लौटता था कि किसी एशियाई जगह का रोमांस सिर्फ कथा लेखक की कल्पना में ही बसता है। इसके बावजूद यहाँ एक गुप्त हिस्सा था, उतना ही गुप्त और अजीब, भले ही छोटा सा, पर चीन में अपने अभिभावक जैसा जो पर्पल फोर्बिडन सिटी कहलाता था।

उस सुबह जब थेम्स किनारों पर एक धुंध सी थी जो डॉक इमारतों की कठोरता को कोमल बना रही थी तथा लहरों पर तैर रहे जहाज़ों को रहस्यमयी बना रही थी, एक व्यक्ति लाइमहाउस कॉजवे पर तेज़ी से चला जा रहा था, उसका सवालिया अंदाज़ और उसकी चाल बता रही थी कि वह उस इलाके से परिचित नहीं था। उसने जैसे एक दायें मोड़ को पहचाना और चलने लगा, अब उसकी चाल और धीमी हो गयी।

एक यूरोपीय महिला, गोद में मिश्रित नस्ल के बच्चे को लिए, एक खुले गलियारे में खड़ी थी, उसे बिना किसी दिलचस्पी के देख रही थी। इसके अलावा, एक करीने से कपडे पहने युवा चीनी को छोड़कर, जो गली के बीचों बीच उसके सामने से गुज़र गया, कोई नहीं था जो आगंतुक को बता पाता कि वह पश्चिम को पूर्व से अलग करने वाली सीमारेखा पार कर चूका था और अब ओरिएण्टल नगर में था।

दो गंदे से घरों के बीच एक संकरी गली वह जगह सिद्ध हुई जिसकी उसे तलाश थी और उसने एक पल के लिए आसपास देखा और गली में प्रवेश कर गया। दूसरे सिरे पर यह गली एक और गली के साथ मिलकर टी का आकार ले रही थी, जहाँ दिलचस्पी का केंद्र मोड़ पर एक लोहे की चौकी थी और दृश्य केवल ईंटों की दीवारों का बना था।

बायीं तरफ आधा रास्ता पर करने के बाद, इन दीवारों में लकड़ी के मज़बूत दरवाज़े थे, जो किसी गोदाम का आभास देते थे। उनके पास एक दरवाज़ा था। दरवाज़े के पास घंटी लगी थी, पर किसी प्रवेश के सामने कोई नामपट्टी नहीं थी जो जगह के मालिक का नाम बताती हो।

अपनी पॉकेट बुक से आगंतुक ने एक कार्ड निकला, उस पर लिखा देखा और फिर उसने घंटी बजाई।

इस छोटे गंदे प्रांगण में शान्ति थी। यहाँ व्यस्त गुज़र दर्शाने वाली कोई आवाज़ नहीं थी और "टी" का शीर्ष दर्शाने वाला पैसेज हालांकि नदी का किनारा था, समुद्री अड्डे की आवाजें बहुत ध्यान से सुनने पर ही सुनाई देतीं थीं।

दरवाज़ा एक चीनी लड़के ने खोला जो एक साधारण स्थानीय कार्य वर्दी पहने था और उसने आदमी को तिरछी, थकी से आँखों से देखा।

"श्रीमान हुआंग चाउ?" आगंतुक ने पुछा।

लड़के ने मुंडी हिलाई।

"आप उनसे मिलना चाहते हैं?"

"यदि वह घर पर हैं तो।"

लड़के ने कार्ड को देखा, जो आगंतुक अभी तक अपनी एक ऊँगली और अंगूठे के बीच पकडे था और चुपचाप हाथ आगे बढ़ा दिया था। कार्ड सौंपा गया। यह डोवेर स्ट्रीट, पिकैडली के एक एंटीक डीलर का था, और उसके पीछे लिखा था: "श्री हैंपडेन को आपसे कुछ कार्य है।" उसके बाद डीलर के हस्ताक्षर थे।

लड़का मुदा और एक अंधियारी तथा ऊबड़-खाबड़ गलियारे से गुज़रा जो दरवाज़े के खुलने के बाद दिखने लगा था, श्री हैंपडेन सीढ़ियों पर खड़े रहे और उन्होंने एक सिगरेट सुलगाई।

एक मिनट से भी कम समय में लड़का लौटा और उसे अन्दर आने को कहा। जैसे ही वह अन्दर गया और दरवाज़ा बंद हुआ, वह लगभग लडखडाया, गलियारा इतना अँधियारा था।

लड़के के मार्गनिर्देशन में वह एक कारोबारी ऑफिस जैसी जगह पर पहुंचा, जहाँ एक अमिरीकी डेस्क पर एक लड़की बैठी थी और उसे सवालिया निगाहों से देख रही थी।

वह गहरे रंग की थी और खुद की ओर बरबस खींचने वाली किस्म की थी। यूरोपीय अंदाज़ में खूबसूरत न होने के बाजूद उसकी सुंदर, गहरी आँखों में कुछ आकर्षक था और उसकी मुस्कुराहट आमंत्रण देने वाली थी जो पूर्व की महिलाओं की विरासत है। उसका परिधान किसी अन्य कामकाजी लड़की की तरह नहीं था, केवल उसके ब्लाउज का कट काफी गहरा था, जिसका रिवाज़ कई युराशियंस से प्रभावित था और वह चटकीले रंग का स्कर्ट पहने थी तथा बहुत कीमती मोतियों के कान के बाले पहने थी। जैसे श्री हैंपडेन दरवाज़े पर ठिठके:

"गुड मॉर्निंग," लड़की ने कहा, डेस्क पर अपने सामने रखे कार्ड पर देख्नते हुए। "आपको श्री इसाक ने भेजा है?"

उसने उसे सहलाने वाली नज़रों से और आधी झुकी पलकों से देखा पर उसके रूप-रंग की कोई डिटेल मिस नहीं की। उसे उसकी मूंछ पसंद नहीं आई और उसने सोचा कि वह क्लीनशेवन होता तो ज्यादा अच्छा लगता। इसके बावजूद, वह सजीला व्यक्ति था और उसके अंदाज़ ने स्वीकृति दर्शाई।

"हाँ," उसने विनम्र मुस्कराहट के साथ जवाब दिया। "मुझे कुछ चाहिए और मुझे बताया गया है कि आप मेरी मदद कर सकते हैं।"

लड़की एक पल के लिए ठिठकी और फिर:

"हाँ, बिलकुल," उसने अच्छी अंग्रेजी में कहा हालांकि उसका लहज़ा थोडा अलग था। "हरिताश्म पत्थर? हमारे पास बहुत ज्यादा नहीं है।"

"नहीं, नहीं। मुझे मीनाकारी की हुई डिब्बिया चाहिए।"

"किस प्रकार की?"

"क्लोइज़न"

"क्लोइज़न? हाँ, हमारे पास कई हैं।"

उसने एक घंटी बजायी और उस लड़के की ओर देखते हुए, जो आगंतुक के समूचे साक्षात्कार के दौरान उसके निकट ही खड़ा था, से चीनी भाषा में कुछ कहा। उसने अपनी मुंडी हिलाई और दुसरे गलियारे में ले गया। फिर उसे बंद करते हुए उसने तीसरा दरवाज़ा खोला और श्री हैंपडेन को एक ऐसे कमरे में ले गया जहाँ वह हैरानी में पड़ गया।

जैसे किसी को वाइटचैपल से खान खलील में लाया गया हो, जो किसी जादुई कालीन पर एक ट्यूब स्टेशन से ताज महल पहुंचा गया हो या फिर अचानक जिसे लेबनोन की पहाड़ियों से गिरा दिया गया हो और वह खुद को डमस्कस के मोतियों के डोम और आभूषणों के बागीचों में पा रहा हो, इतना आश्चर्यचकित नहीं हो सकता था। बूढ़े हुआंग चाउ का यह ट्रेज़र हाउस चाइनाटाउन का एक रहस्य था- एक ऐसा रहस्य जो केवल उन्हींके साथ साझा किया जाता था जिनके कारोबारी हित हुआंग चाउ के हितों से मिलते-जुलते थे।

जगह कृत्रिम रौशन थी ऐसे चिरागों से जो अपने आप में खूबसूरत कला का नमूना थे और छत के खम्बों से लटक रहे थे। गोदाम का फर्श जो आंशिक रूप से पत्थर का था, मोटी छातियों से ढंका हुआ था और उस पर कारादघ, करमनशाह, सुल्तान-आबाद और खोरास्सम के गालिचे और कालीन और उतनी ही खूबसूरती के अल्प ज्ञात लटकन थे। दुर्लभ जानवरों की खालें दीवानों पर बिछी थीं। हाथीदांत, आबनूस और लकड़ी का फर्नीचर, उत्कृष्ट आकृतियाँ जगह को एक रहस्यमयी अंदाज़ दे रही थीं। वहां ऊंचे कैबिनेट थे। पेटियां थीं और लाख और तामचीनी की अलमारियां थीं, किसी राजा के महल की वस्तुएं, सोने से लदे परिधान, आभूषणों से जड़े जूते, चमकते हथियार, पात्र, मर्तबान, और प्यालियां इतने नाज़ुक और कोमल कुमुदिनी की पंखुडियां।

और अंत में पालथी मारे एक शय्या पर बैठा बूढा हुआंग चाउ, जो एक घुमावदार पाइप पी रहा था और बड़े चश्मे के पीछे छिपी आँखों से देखते हुए। उसका आसन एक चौड़ी ऊपर को जाती सीढ़ी के पास था, उस पर महंगा कालीन था और सीढ़ियों की दूसरी तरफ उस अजीबोगरीब संग्रह की संभवत: सबसे अजीब वस्तु पड़ी थी - ड्रैगन के चार पंजों का प्रतिनिधित्व करने वाले पर तख्ते बेहतरीन कारीगरी का नमूना एक चीनी ताबूत।

लड़का चला गया और श्री हैंपडेन ने खुद को हुआंग चाउ के साथ अकेला पाया। मालिक और नौकर के बीच कोई बातचीत नहीं हुई थी, पर:

"गुड मॉर्निंग, श्रीमान हैंपडेन," चीनी ने ऊंची, पतली आवाज़ में कहा। "कृपया बैठ जाएँ। आपको श्री इसाक ने भेजा है?"

***

***

Rate & Review

Rahul Uikey 6 months ago

Rashid Saradae 6 months ago

Sunhera Noorani 7 months ago

Lajj Tanwani 8 months ago

hanumanram siyag 8 months ago