हुआंग चाउ की बेटी - 6

हुआंग चाउ की बेटी

6 - गंध का संकेत

एक चीनी अधिक हो जाए या कम हो जाए, लाइमहाउस में क़ानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए ज़िम्मेदार अधिकारियों को बहुत ज्यादा फर्क नहीं पड़ता था। एशियाई लोगों को अपनी राष्ट्रीय परम्पराओं का पालन करने की स्वतंत्रता थी और एक हद तक एक दूसरे का गला काटने की भी। यही बुद्धिमानी थी। पूर्वी लोगों के शासकों की तरफ से ऐसे मनोविनोद होने दिए जाते थे, भले प्रोत्साहित न किया जाता हो।

"डूबा पाया गया," भी एक ऐसा नतीजा था जो थेम्स के कई काले रहस्यों में शामिल था, पर "नदी में मिला, और मौत का कारण कोई अज्ञात ज़हर था" ऐसी खोज थी जो भले किसी चीनी के सन्दर्भ में हो, एक अधिकारी के थके मस्तिष्क को जगा लेती थी।

नए स्कॉटलैंड यार्ड ने डरहम को भटकने का कार्य दिया था और यह सही भी था इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि दूसरा शिकार चीनी नहीं था, कि लगभग उन्हीं परिस्थितियों में पाया गया था। हुआंग चाउ से सम्बन्ध का लिंक अधूरा था और डरहम जानता था कि यह उसी पर निर्भर था कि वह इसे निर्विवाद के स्वरूप में पेश करता।

जिम पोलैंड ईस्ट एंड में अकेला व्यक्ति नहीं था जो जानता था कि मृत चीनी हुआंग चाउ के संपर्क में था। केरी जानता था और उसने डरहम को यह जानकारी दी थी।

बूढ़े व्यापारी का जीवन रहस्यमयी कोहरे में लिपटा था। वह एक बड़ी मंडारिन शख्सियत था पर उसका सम्बन्ध चीनी पी लंग और फिर कोहेन की मौत के साथ साबित होना बाकी था। कुछ आलोचकों ने महानगरी डिटेक्टिव सेवा को निष्प्रभावी और बेकार घोषित किया हुआ था। केरी, जो भावी अधीक्षक था, इन आलोचनाओं का विरोध करता था और अपने चेले डरहम में नयी पीढ़ी के एक ऐसे सदस्य को देखता था जो इस कलंक को मिटाने के लिए समय रहते मामला सुलझा सकता था।

डरहम जानता था कि उसके कंधों पर एक बड़ी ज़िम्मेदारी थी जो इस मामले के महत्व द्वारा इंगित से भी बड़ी थी और अब सुनसान गलियों से चलते हुए उसने अपने दिमाग को असाधारण रूप से सक्रिय पाया और अपने विचारों को जीवंत पाया।

लाइमहाउस में नाईट लाइफ थी, इसका उसे पता था, पर यह छोटे स्तर पर और गुप्त थी, जिसके एक समय के बाद कम से कम प्रत्यक्ष कोई लक्षण दिखाई नहीं देते थे। इसके बावजूद, जैसे ही उसने उस इलाके में प्रवेश किया जहाँ वह अजीब और छिपे हुए रिसोर्ट थे जिनकी अफवाहें चाइनाटाउन का ग्लैमर रचने में मददगार थीं, तो उसने खुद को यह सोचते हुए पाया कि हुआंग चाउ का वहां कितना प्रभाव था और यह भी कि कहीं कुछ जासूस चोरी-छिपे उस पर निगाह तो नहीं रखे हुए हैं।

लाला ओरिएण्टल थी और अब, रात के अकेलेपन में, उसमें एक अविश्वास सा आने लगा। वह उससे आकर्षित था और उसे उस पर दया भी आई थी। उसने अब खुदको कहना चाहा कि ऐसा उसकी रहस्यमयी खूबसूरती के और स्त्रीसुलभ अपील के कारण था। शायद वह एक खतरनाक डायन थी, जो लोगों को मौत के कुँए में धकेलती थी और इसका कारण एक पश्चिमी व्यक्ति की समझ से परे था।

उसे अपनी उन चालों की सफलता पर शक होने लगा, जिनके लिए, दिन में उसने खुद को शाबासी दी थी। शायद हैंपडेन के बेस में, जो एंटीक फर्नीचर खरीदने गया था, चश्मे के पीछे बूढ़े की चालक आँखों ने छिपा डिटेक्टिव देख लिया था या कम से कम उसके कुटिल इरादों को पहचान लिया था।

जहाँ वह लाला को जीत नहीं मान पा रहा था, क्योंकि उसने तो उससे प्यार करने की कोशिश तक नहीं की थी, लेकिन जिस आसानी से वह उससे दोस्ती करने में सफल हो गया था, अब शक का बायस बन रही थी।

गली के मुहाने पर जो हुआंग चाउ के स्थल से जुडती थी, वह ठिठका, उसने सावधानीवश आसपास देखा। लाइमहाउस बीट पर तैनात पुलिसियों को आजकी जांच के बारे में चेता दिया गया था और सादे कपड़ों में एक पुलिसकर्मी थोड़ी दूर ही तैनात था, हालांकि वह छिपा हुआ था, इसलिए डरहम उसकी उपस्थिति लगभग नोटिस नहीं कर पाया।

डरहम ने गंदे कपडे और रबर के सोल वाले जूते पहने थे और अब जैसे ही उसने परिसर में प्रवेश किया, वह उस पुलिस सार्जेंट की आधिकारिक रिपोर्ट के बारे में सोच रहा था, जो कुछ घंटे पहले ही हुआंग चाउ के घर गया था और उससे मृत कोहेन की मौत के बारे में उससे सवाल करना चाहता था और यह भी जानना चाहता था कि उसने उसे आखरी बार कब देखा था?

बूढा हुआंग, आगंतुक से ऊपर वाले अपने बड़े कमरे में मिला था, जिसमें लिखने की बड़ी मेज़ थी और उसने ज़रा भी भ्रम का प्रदर्शन न करते हुए सार्जेंट को आश्वस्त किया था कि उसने कोहेन नाम के आदमी को कई दिनों से नहीं देखा था। कोहेन उसके पास किसी अमेरिकी परिचय से आया था, जो कि उसे, हुआंग को, फर्जी लगा था और यह भी कि वह उसे कोई बकवास एजेंसी लेने के लिए कह रहा था, जिसके विवरण के बारे में वह दुराव-छिपाव करता रहा। संक्षेप में, उसकी आधिकारिक पूछताछ से कुछ हासिल नहीं हुआ था और हुआंग ने विनीत भाव से अपने यहाँ से चोरी की किसी कोशिश की जानकारी होने से मना कर दिया था।

"मेरा कोई क्या ले जाएगा?" उसने आगंतुक से पुछा था। "पुराना काठ-कबाड़ जो मैंने कई सालों में जमा किया है और अमीर होने का यश जिसका कारण मेरी तनहा आदतें और मेरे आसपास रहने वालों की खामखयाली है।"

डरहम ने, मन ही मन रिपोर्ट के शब्दों की समीक्षा करते हुए, अपने ज़ेहन में उस दृश्य की पुन:रचना की और अब गली के अंत तक पहुँचने पर जहाँ लोहे की चौकी थी और पुरानी दीवार को जिसकी कई ईंटें सड़ चुकी थीं, उस जगह को घूरने लगा जहाँ से, पोलैंड के बयान के अनुसार, ढलान वाली छत पर चढ़ना संभव था और फिर स्काईलाइट के ज़रिये अन्दर जाना जैसे कोहेन अपनी मौत के आगोश में गया था।

उसने सुनिश्चित किया कि उसकी आटोमेटिक पिस्तौल उसकी जेब में थी, नदी किनारे की बोझिल आवाजों पर एक पल के लिए गौर किया, आसपास आशंकित नज़रों से देखा और फिर दीवार के एक खांचे में पैर रखते हुए वह दीवार पर चढ़ गया। चपलता के कारण वह तुरंत ऊपर चढ़ गया और उसने खुद को ढलान वाली छत पर पाया।

स्काईलाइट अभी उसकी पहुँच से दूर थी, पर उसके रबड़ के सोल वाले जूतों ने उसे ऊपर पहुँचने में मदद की और ढांचे को उसने हाथों से थाम लिया। खुद को उसने इस समय वह जाली पर पाया जो, यदि उसकी जानकारी भरोसे योग्य थी तो, उसमें कोई बाँधने वाला तत्व नहीं था पर जाली ऐसी थी कि किसी सूए से ऊपर उठाई जा सकती थी। उसने अपनी जेब से सुआ निकाला और ढांचे में घुमाते हुए इसे सावधानी से उठाया, बहुत कम शोर के।

जाली खुल गयी और एक अजीब, परिभाषित न की जा सकने वाली बू ने उसकी नाक को पकड़ा। बू आंशिक रूप से पुराने फर्नीचर और अन्य चीज़ों की थी पर उसमें धूप-अगरबत्ती का संकेत भी था तथा कुछ ऐसी चीज़ का जिसे आसानी से नाम नहीं दिया जा सकता था। उसने उस अजीब स्टोर-रूम की महक पहचानी, जहाँ, श्री हैंपडेन के रूप में, वह हाल ही में होकर आया था।

एक पल के लिए उसे लगा कि कहीं दूर उसने घंटी बजी थी। पर जब उसने सुनने की कोशिश की तो उसे ऐसा कुछ सुनाई नहीं दिया और वह फिर निश्चित हो गया।

उसने जाली वापस फ्रेम पर राखी और एक इलेक्ट्रिक टॉर्च की रौशनी नीचे अँधेरे पर फेंकी। रौशनी एक निचले टेबल, ड्रैगन के पैरों जैसे तख़्त पर पड़ी। उस पर मानव दांत से बनी पगोडा की प्रतिकृति पड़ी थी। इस खोज में कुछ ऐसा था, जिसने डरहम को एक पल को कंपा दिया। हालांकि, यह अहसास क्षणिक था।

उसने आँख से फासले का अनुमान लगाया। छोटा टेबल एक गहरे दीवान के पास था और उसने देखा कि थोड़ी सावधानी से वह बिना ज्यादा शोर के दीवान पर कूद सकता है। उसने अपनी स्थिति को तौला तथा टॉर्च जेब में रखी और फ्रेम की एक तरफ टेक लगाते हुए उसका दूसरा हिस्सा हाथ से पकड़ा। वह झूलते हुए नीचे उतरा जब तक कि संभव था। उसके बाद वह नीचे कूदा।।

जैसा कि उसका अनुमान था, वह दीवान पर गिरा। दीवान जैसे अपशकुनी ढंग से चरमराया। कुशन में पैर धंसने से वह लडखडाया और फिर वह संभलकर ध्यान से सुनने की कोशिश करने लगा।

कमरा बहुत गर्म था पर स्थिर था।

***

***

Rate & Review

Sunhera Noorani 7 months ago

Pinky Joshi 8 months ago

Manisha Sharma 8 months ago

hanumanram siyag 8 months ago