हुआंग चाउ की बेटी - 4

हुआंग चाउ की बेटी

4 - डिटेक्टिव जॉन

डिटेक्टिव जॉन डरहम की लाइमहाउस जांच के प्रभारी अधिकारी चीफ इंस्पेक्टर को दी गयी निजी रिपोर्ट

डिअर चीफ इंस्पेक्टर, आपके निर्देशों का पालन करते हुए मैं वापस लौटा और कैदी पोलैंड से उसके कक्ष में पूछताछ की। मैंने आपकी सुझाई लाइन पकड़ते हुए उसे समझाया कि चुप रहकर उसे हासिल कुछ नहीं होगा बल्कि उसका बहुत नुक्सान ही होगा।

"मेरे सवालों का जवाब दो," मैंने कहा, "और तुम यहाँ से सीधे बाहर जा सकते हो। अन्यथा, तुम्हें मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाएगा और सिर्फ तुम्हारे पिछले रिकॉर्ड के आधार पर इसका मतलब छुट्टी होगा जो तुम शायद नहीं चाहते।"

वह बहुत लड़ाकू था, पर मैंने आखिर उसे लाइन पर लाया और उसने स्वीकार किया कि वह मृत आदमी, कोहेन का हुआंग चाउ के घर में चोरी की कोशिश में सहयोग कर रहा था। विस्तार से बताने में उसकी झिझक का कारण कानून के डर से ज्यादा हुआंग चाउ का डर था, और अब मुझे लग रहा है कि वह न सिर्फ कोहेन की मौत के लिए पर तीन सप्ताह पहले मारे गए, आपको याद ही होगा, चीनी आदमी की मौत के लिए भी हुआंग को ज़िम्मेदार मानता है। पोस्ट मार्टम की रिपोर्ट के अनुसार वह व्यक्ति किसी ज़हर से मरा था और जब हमने कोहेन को मुर्दाघर में देखा था, उसका सूजा शरीर मुझे चीनी जैसा ही लगा। (पिछले महीने की 31 तारिख की मेरी रिपोर्ट देखें।)

वह आखिरकार मुंह खोलने को राज़ी हुआ इस शर्त पर कि मैं उससे वायदा करता कि उस पर कोई मामला दर्ज नहीं होगा और वह जो भी मुझे बतायेगा उसके सम्बन्ध में किसीके सामने उसका नाम नहीं लिया जाएगा। मैंने उसे वायदा किया कि मैं अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर जाकर उसके अनुरोध का सम्मान करता हूँ तो उसने मुझे कई ऐसी अनोखी बातें बतायीं, जिनका इस मामले पर असर पड़े बिना नहीं रहेगा।

उदहारण के लिए, उसने पता लगाया था - मैं नहीं जानता कैसे - कि मारा गया चीनी, जिसका नाम पी लुंग था, हुआंग चाउ से उसके गोदाम में किसी कार्य के लिए बात कर रहा था। पोलैंड ने उस आदमी को हुआंग की बेटी से उस गली के सिरे पर बात करते देखा था जो उसके घर तक जाती थी। वह इस तथ्य को कुछ अधिक ही महत्व दे रहा था। और अंत में:

"मैं आपको बताऊंगा कि मामला क्या है," उसने कहा। "वह चिंक लाइमहाउस के लिए अजनबी था, मैं कसम खाकर कर सकता हूँ। वह उसके सामने कुछ भी नहीं था, मुझे लगता है ऐसे लोग चीन में भी और यहाँ भी सक्रिय हैं। वह भी वहां बूढ़े के मनी बॉक्स के लिए गया था और उसका वही अंत हुआ जो कोहेन का हुआ।"

"साफ़-साफ़ कहो," मैंने कहा।

"मैं कहना चाहता हूँ, बूढा हुआंग चाउ लन्दन में चोरी और तस्करी से आये सामान का सबसे बड़ा कारोबारी है। वह कुछ और भी है, वह चीन की बड़ी हस्ती है पर मुख्य बात यह है। समूचे लन्दन में उसके सामान के खरीदार हैं और उन्हें नकदी में भुगतान करना होता है, चेक के रूप में नहीं। वह बैंक में कोई पैसा नहीं रखता। मैं यह साबित कर चुका हूँ। उसके पास माल सोने, हीरों और अन्य स्वरूपों में है जो उसने वर्तमान हालात में घर में छिपा रखा है। पी लुंग इस खजाने के पीछे था। उसे नहीं मिला। कोहेन और मैं उसके पीछे थे। कोहेन कहाँ है?"

मैंने माना कि यह सब संदिग्ध लग रहा था और फिर:

"जब मैं कोहेन के साथ अन्दर गया," पोलैंड ने कहना जारी रखा, "मैं एक बात जानता था जो वह नहीं जानता था - गोदाम को जाने वाला एक शोर्ट कट। उसकी बूढ़े हुआंग की बेटी लाला के साथ बनती थी और मुझे यकीन था कि वह जानता था कि स्टोर कहाँ छुपा था, पर उसने मुझे कभी नहीं बताया था। हम जानते थे कि ड्यूटी पर विशेष लोग तैनात थे और हमने तय किया था कि गश्त के गुजरने के बाद मैं उसे सिग्नल दूंगा। कोहेन का शुरू से मुझे धोखा देने का इरादा था। जब मैं कॉजवे पर नज़र रखे था वह ऊपर चढ़ गया और मेरी उसे दिखाई स्काईलाइट के ज़रिये अन्दर गया। जब मैं वहां गया मैंने देखा कि वह गायब था पर स्काईलाइट खुली थी। मैं उसके पीछे गया।"

फिर पोलैंड ने मुझे थामा और उसका डर सच्चा था।

"मैंने ऐसी चीख सुनी जैसी मैंने अपने जीवन में कभी नहीं सुनी थी। मैंने जाली से रौशनी आते देखी और फिर मैंने कराह जैसी सुनी। अंत में मैंने एक धमाके जैसी आवाज़ सुनी और रौशनी चली गयी। मैं गिरते-पड़ते वहां से नीचे उतरा और मैंने भागना शुरू किया और सीधे जाकर दो पुलिसियों की बाहों में पड़ा।"

मुझे लगा कि यह गवाही ठोस थी और आपके निर्देशानुसार मैं श्री इसाक के पास डोवेर स्ट्रीट गया। उसे मेरा सुझाव बहुत पसंद नहीं आया पर जब मैंने उसे कहा कि एक हाथ दूसरे को धोता है तो उसने मुझे हुआंग चाउ के लिए परिचय देने की तैयारी दिखाई।

मैंने अपने हुलिए में थोडा बदलाव किया, अपना रंग थोडा बदला और स्पिरिट गम से एक मूंछ लगायी और उसे मिलिट्री फैशन में ट्रिम किया। सब कुछ आसानी से हुआ और चीनी की बेटी लाला हुआंग पर मैंने अच्छा प्रभाव भी जमाया जोकि गोदाम में प्रवेश देने से पहले ग्राहकों का साक्षात्कार लेती है।

वह यूरेशियाई है और बहुत सुंदर है। पर जब मैंने खुद को उस कमरे में पाया जिसमें बूढा हुआंग अपना खजाना रखता था, मुझे सचमुच लगा कि मैं कोई सपना देख रहा हूँ। कलेक्शन हज़ारों का होगा। उसने मुझे इतर की बोतलें दिखायीं, जो रत्नों से काटकर बनायीं गयीं थीं और उनका मुख एक पतली नली में सुराख से बड़ा नहीं होगा पर बोतल के अन्दर पेंटिंग बने हुए थे। उसके पास इंसानी दांतों से बने पगोडा की प्रतिकृति थी और सिरकाशियंस गुलाम लड़कियों के बालों से बने बड़ा सुनहरी गलीचा भी था। माफ़ कीजिये, चीफ इंस्पेक्टर, मैं जानता हूँ आप इसे रोमांटिक स्टफ की संज्ञा देंगे पर मुझे लगता है कि आप देखते तो आप भी प्रभावित हुए बिना नहीं रहते।

खैर, मैं एक छोटी मीनाकारी की हुई पेटी ले आया जैसा कि श्री इसाक के निर्देश थे, हालांकि मैं हुआंग चाउ को यह यकीन दिलाने में सफल हुआ या नहीं कि मैं सामग्री के बारे में जानता था, इसमें संदेह था। वह अपने तख़्त से उठा और एक चौड़ी सीढ़ी से ऊपर निजी रूम में गया।

"आप पैसा तो लाये ही होंगे, श्री हैंपडेन?" उसने पुछा।

उसकी अंग्रेजी त्रुटिहीन है। वह अपने ऊपर के कमरे में राइटिंग टेबल से तीन कदम चला और मैंने पैसे उसे दिए। जब वह टेबल पर बैठा जिसका रुख कमरे की तरफ था, मैं यह सोचने से खुद को रोक नहीं पाया कि अपने सींगों से बने चश्मे से वह किसी बूढ़े मजिस्ट्रेट जैसा दीखता था। उसने मुझे समझाया कि वह मेरा सामान पैक कर देगा पर मैं खुद उसे ले जाऊं और।

"तुम समझे'" उसने कहा, "कि तुमने इसे उस व्यक्ति से ख़रीदा है जिसने यह विदेश में खरीदा था।"

मैंने कहा मैं समझ गया। उसने मुझे विनम्रता से बाहर का रास्ता दिखाया और मैंने खुद को वापस लाला हुआंग के कार्यालय में पाया।

वह बात करने में दिलचस्पी दिखा रही थी और जब तक मेरा सामान पैक होता, मैंने उससे बात की। मैं जानता था कि मुझे समय का सदुपयोग करना चाहिए पर आपने कभी मुझे ऐसा काम नहीं दिया जो मुझे पसंद न हो। मेरे कहने का मतलब है, उसमें गज़ब का आकर्षण था और मुझे यह सोचकर बुरा लग रहा था कि मैं डबल गेम खेल रहा था। हालांकि, मुझसे फिर मिलने की सहमती दिए बिना उसने इतना कुछ तो बता ही दिया कि मैं "इत्तेफाक" से उससे मिल सकूं, यदि चाहूँ तो। इसलिए, आज शाम मैं उससे मिलने जा रहा हूँ और शायद उसे किसी ऐसी जगह ले जाऊं जहाँ हम बात कर सकें। वह मुझे खुले किस्म की लड़की लग रही है और मुझे उसके लिए अफ़सोस भी हो रहा है। मुझे यह काम पसंद नहीं पर उम्मीद है कि आपने मुझ पर जो विशवास जताया है, उसे सही ठहराऊंगा, चीफ।

लौटने के बाद मैं अपनी आधिकारिक रिपोर्ट बनाऊंगा।

आपका विश्वासु - जॉन डरहम

***

***