इश्क़ है तुमसे ही - 11 in Hindi Novel Episodes by Jaimini Brahmbhatt books and stories Free | इश्क़ है तुमसे ही - 11

इश्क़ है तुमसे ही - 11

..........गतांक से आगे,,,

देव हॉस्पिटल पहुच के
अमन को कॉल कर कुछ कहता है।जिसे सुन अमन फोन रख देता है।

इधर देव को  
गये डेेेढ़ दिन बीत जााता है , तो शीवांगी उसे हर जगह ढूंढ चुकी थी,उसका रो -रो कर बुरा हाल था।अदिति ओर कुणाल उसे संभाल रहे थे,पर शीवांगी चुप ही नही हो रही थी।

अदिति ने उसे चुप करते हुए बोला:-शीवू,!तू चुप हो जा,तू जानती है ना देव भैया तुजसे कितना प्यार करते है ।कही फस गए होंगे आ जाएंगे।

शीवांगी को अचानक रूद्र की याद आई उसने रुद्र को फोन कर दीया।
रुद्राक्ष ऑफिस में था उसने कॉल उठाई तो सामने सेे शीवांगी की सीसकति हुई आवाज आई ,हेलो।

ये शून रुद्राक्ष झट्ट से चेयर से उठ गया:-हेलो,क्या हुआ.?आप रो
क्यों रही हैं।रुद्राक्ष का दिल बेचेन हो उठा।

शीवांगी😭:-वो..,वो.,भाई नही मिल रहे।

रुद्राक्ष:-
शशश.! आप रोना बंद करे में अभी बनारस आ रहा हूँ।बहुत जल्द ये कहते रुद्राक्ष अपने केबिन से निकल गया।

तभी अदिति का ध्यान
दरवाजे पे  गया उसने कहा :-शीवांगी भैया आ गए। कॉल चालू होने की वजह से रुद्र ने ये सुना ,ये सुनकर रुद्र वही रुक गया।

शीवांगी
कॉल कट कर जेेेसे ही उसने देव को देखा वो दरवाजे की तरफ भाग कर देव के गले लग गयी।
 वो रोने लगी और रोते बिलखते बोलने लगी:-आप कहा गए थे भाई, हम कितने परेशान थे।आप बता कर भी नही गए।हमने हॉस्पिटल में भी देखा आप वहां भी नही
थे। 😭😭😭

देेेव
भी उसे गले लगा देेेख रो ही देता पर उसने खुद को संभाल लिया नार्मल होके वो शीवांगी को शांत कराते हुए बोला:-सोना..,शशश..!क्यों रो रही है आप.?हम कही नही गए थे बच्चे ।

शीवांगी:-आप इतने वक्त कभी
दूर नही गए थे और तो ओर आप बता कर भी नही गए थे।पता है हम बहुत डर गए थे।

देेेव:-पहले बेेेठिये ,वो एक एक्सीडेंट हुुुआ
था। में वही था फोन हॉस्पिटल में छूट गया था।बस यही वजह थी।और एक बात थी वैसे तो नही बताते पर आप इतना रो रही है इसलिये बता देते है।दो दिन बाद आपका बर्थडे है तो एक सरप्राइज प्लान कर रहे थे।बस..।

शीवांगी चुप हो गई ,कुछ देर बाद देव ने उसे खाना खिला के सुला दिया।बहुत रोने की वजह से शीवांगी भी सो गई।

(राजस्थान)
रुद्राक्ष घर  आ गया था पर उसका दिल अब भी बहुत बेेचेन था। तभी आदित्य का कॉल आ गया।वो उससे बात करने लगा उसने आदित्य को सब बात बता दी।

आदि🙂:-शांत हो जा रूद्र ,तूने सुना न कि उसका भाई आया।

रुद्राक्ष😔:-हा, पर यार उसकी आवाज वो बहुत डरी हुई थी।रो भी रही थी।

आदि🙂:- देख मेरी मान तो इंतेज़ार कर लें, वैसे भी तुझे कहा उसका नाम - पता कुछ पता है।वो खुद तुझे कॉल कर लेगी।

रुद्राक्ष😶:-हम्म..!

आदि😌:-वैसे अब की बार ना तू उसे अपने दिल का हाल बात दे ।कि तू क्या फील करता है।

रुद्र🤔:-मे भी यही सोच रहा हूँ।

आदि😕:-इसमें सोचना क्या,अरे यार आजकल के लड़के -लड़की कितना कुछ कर लेते है डेट -वेट /किस-विस् ओर तू है, बिना नाम चेहरा जाने  प्यार में पड़ गया।

रुद्राक्ष😒:-तू फिर शुरू मत हो जा आदि।बोला न बताऊंगा उसे ये कहकर
वो फोन कट कर देता है।आदित्य फोन को देखते हुए कहता है:-तू सच मे आशिको में अपना नाम रोशन करेगा.!है भगवान 🙏मेरे इस मजनू को उसकी लैला से मिला दे।😆😆वो वापस अपने काम पे लग गया।

रुद्राक्ष अब भी बालकनी में खड़ा मन में:-जल्दी कॉल कीजिये प्लीज..!जल्दी में आपको बता दूंगा की में कोन हु.?ओर आपसे भी पूछ लूंगा ।जानती हैं आप आदि कहता है इसे प्यार कहते है।थोड़ा अजीब है पर शायद आपके एहसास मेरे दिल मे प्यार बनके धड़क रहा है।हा, यही प्यार है।मेरा प्यार ना आपके नाम का मोहताज है ना आपके चेहरे का बस..!आपके साथ का एहसास है।

(बनारस)

रात के 3 बजे शीवांगी की नींद खुल जाती है।वो सबसे पहले देव को जेक कमरे में देख आती है।फिर उसे रूद्र की याद आती है,वो खिड़की के पास आई उसने मन में कहा:-मानते है कि आजतक हमने बताया नही आपको की हम आपका नाम जानते है रुद्र.!अब शायद आप हमारे लिए दोस्त से बढकर हो गए है।कितना अजीब है पर आज हम चाहते थे कि आप हमारे पास हो।ये एहसास शायद..! वो स्माइल करते हुए अंदर आ गई।उसने देखा शुबह होने लगी थी।उसने रूद्र को कॉल कर दिया।
इस तरफ रुद्र उसीके कॉल का इंतेज़ार कर रहा था।वो रात भर नही सोया था।उसने रिंग बजते ही झट्ट से फ़ोन उठा दिया वो कुछ कहे उससे पहले ही
 शीवांगी ने कहा:-हम ठीक है। भाई भी घर आ गए है।

रुद्राक्ष:-हम्म.!आप जानती नही मेरा क्या हाल था.?दिल कर रहा था कि अभी...

शीवांगी:-अभी आप हमारे सामने हो और हम आपको कस के गले लगा ले।यही..

रुद्राक्ष:-हा.,यही.!

कुछ देर की खामोशी के बाद

रुद्राक्ष:-भाई ठीक है,कहा गए थे वो।

शीवांगी ने रुद्राक्ष को बताया जो देव ने उसे बताया था।

रुद्राक्ष😲:-क्या, दो दिन बाद आपका बर्थडे है।

शीवांगी🙂,:-हा.।

रुद्राक्ष😃:-में आ रहा हूँ ,वहां।

शीवांगी☺️:- नही,।

रुद्राक्ष😕:-क्यों.?में आपसे मिलना चाहता हूं.,प्लीज..!

शीवांगी😄:-नही,क्योंकि आप भूल गए आप को लंदन जाना है,अपने ड्रीम प्रोजेक्ट के लिए आपने ही बताया था हमे।

रुद्राक्ष🙂:-हा ,पर अब नही जाना है,पहले आपका बर्थडे फिर डिल।

शीवांगी☺️:-नही ,आप डील फाइनल करने जायेंगे नाकि हमारे बर्थडे पर यहां।

रुद्राक्ष😒:-आप समझती क्यों नही.?उसमे वक्त लगेगा पता है आपको डील के साइन होने के लिए बहुत पेपरवर्क है उसमें 1 महीना लग जायेगा।

शीवांगी☺️:-हमारा बर्थडे हर साल आएगा ।ओर वैसे भी अगले साल से अपना हर बर्थडे आपके साथ मनाएंगे ।पक्का..!

रुद्राक्ष नाराज़गी से😤:-आप..,ठीक है। में जा रहा हूँ।और एक महीने तक आपसे बिल्कुल बात नही करूँगा।

शीवांगी😃:-मंजूर..!

रुद्राक्ष😡:-नही मेसेज करूँगा।

शीवांगी😆:-मंजूर..!

रुद्राक्ष😡:-आप..!

शीवांगी😍:-शशश..!जाइये ओर ये आपका नही हमारा भी ड्रीम है।पूरा कीजिये हम आप का इतेेेजार करेंगे।1 महीने बाद हम जरूर मिलेंगे आपसे,

रुद्राक्ष☺️:-अच्छा.!ओर हम ना मिले तो..

शीवांगी🤗:-अगर आप हमसे नही मिलेंगे तब भी हम आपको ढूंढ लेंगे ।ये वादा है हमारा।

रुद्राक्ष😊:-हम्म..!ओर,,,??

शीवांगी😍:-ओर  हम आपसे ..!

रुद्राक्ष:-मुझसे..?

शीवांगी:-हम आपसे बहुत प्यार करते है ,रुद्र..!

फोन कट हो गया।रुद्राक्ष अब भी फोन को कान से लगाये हुए था उसके कानों में अब भी शीवांगी की कही हुई आखरी लाइन गूंज रही थी।रुद्राक्ष:-ये आपने क्या कहा , हाय..!वो सीने पर हाथ रखे बीएड पर गिर गया वो बोला:-अब तो जल्दी मुझे आपसे मिलना है आपसे,आपने जो कहा उसका जवाब भी देना है पर आपको अपनी आँखों के सामने रख कर ,ओर पूछना है आपसे की आप मेरा आधा नाम कैसे जानती है।वैसे पूरा नाम तो रुद्राक्ष है पर आपके लिए आपका रुद्र..!पर उससे पहले आपका ओर मेरा सपना पूरा करले।।।😍😍उसने अपने P.A रोन से फोन पे कहा:-जल्दी डील के प्रोसेस को स्टार्ट करो मुझे जल्दी जाकर जल्दी वापस आना है।


















.......................बाकी अगले पार्ट में....!






Rate & Review

Saroj Bhagat

Saroj Bhagat 5 days ago

Harsh Parmar

Harsh Parmar 4 months ago

ATUL KUMAR

ATUL KUMAR 5 months ago

Priya Sharma

Priya Sharma 5 months ago

Suresh

Suresh 6 months ago